Blog: कुछ शक्तियां प्रेस को पूरी तरह ‘आजाद’ नहीं होने देतीं

Blog: कुछ शक्तियां प्रेस को पूरी तरह ‘आजाद’ नहीं होने देतीं

नई दिल्ली/कुलदीप नैय्यर। कई संघर्षों के बाद ‘प्रेस’ अपनी आजादी मजबूत कर पाई है। और, आज यह सरकारी दबाव से आमतौर पर मुक्त है। फिर भी कुछ और शक्तियां हैं जो इसे पूरी तरह स्वतंत्र होने नहीं देतीं। लेकिन दुनिया के बाकी सभी लोकतंत्रों की तरह भारतीय प्रेस को स्वतंत्र माना जाता है।

इलैक्ट्रॉनिक मीडिया काफी हद तक रियल एस्टेट मालिकों की दया पर है, जो प्रॉपटी के लेन-देन से पैसा कमाते हैं और इसे एक या दो चैनल चलाने के लिए खर्च करते हैं। हालांकि, अखबारों के बारे में निश्चित रूप से यह नहीं कहा जा सकता है।
जब फिल्मों की बात आती है तो सरकार का दबाव बेरोक-टोक और जगजाहिर होता है। हर एक फिल्म को सेंसर का प्रमाण-पत्र चाहिए। जब संविधान ने अभिव्यक्ति की स्वंतत्रता की गारंटी दी है तो यह सब के लिए है, सभी माध्यमों तथा सभी तरीकों के लिए। सेंसर प्रमाण-पत्र की आवश्यकता स्वतंत्रता का हनन करती है।

नहीं थम रहा गुजरात में राजनीतिक घमासान, हार्दिक का BJP पर आरोप, की 1200 करोड़ की पेशकश

यह मेरी समझ से परे है कि फिल्म निर्माताओं ने कभी इसे मुद्दा नहीं बनाया। अभी भी ऐसा करने के लिए बहुत देर नहीं हुई है। संजय लीला भंसाली की फिल्म उनके इकाई होने का आधार नहीं बन सकती। फिल्म निर्देशक भंसाली ने नतीजों का सामना करना पसंद किया है। राजस्थान में, जहां वह फिल्म की शूटिंग कर रहे थे, उन पर हमला हुआ। इसके बावजूद वह अपनी जगह डटे हैं।

राजस्थान के कट्टरपंथी हिन्दू, जिन्होंने अपने को करणी ब्रिगेड के रूप में संगठित कर लिया है, ने राजस्थान के एक सिनेमाहाल की कुर्सियां तोड़ डालीं और उनमें आग लगा दी। ज्यादातर उदारवादी लोगों की खामोशी दिखाई दे रही है। भंसाली अवश्य अकेला महसूस कर रहे होंगे। यहां यह मुद्दा नहीं है कि उनकी फिल्म ‘पद्मावती’ जिसका उन्होंने निर्देशन किया है, कहानी पर आधारित है या वास्तविकता पर। उसे पर्दे पर लाने का उनका संकल्प है। अपने संकल्प के लिए उन्हें पूरा श्रेय मिलना चाहिए।

दिल्ली में रक्षक ही बने भक्षक, इतने जवानों पर दर्ज हैं यौन शोषण के मामले

बहुत कम फिल्म निर्देशक उनके पदचिन्हों पर चलेंगे क्योंकि ढेर सारा पैसा दाव पर है। पैसा लगाने वाले इसमें निवेश से हिचकिचाएंगे। उनकी दिलचस्पी मुनाफे में है, उन सिद्धांतों में नहीं जिनका पालन भंसाली नतीजों की चिंता किए बिना कर रहे हैं। वर्तमान में, एक अच्छी फिल्म संकीर्णतावाद की शिकार हो गई है।

इसका सबसे बुरा पक्ष यह है कि सारी चीजों का राजनीतिकरण कर दिया गया है। सत्ताधारी जनता पार्टी भंसाली-विरोधी तत्वों को समर्थन दे रही है। उनके अनुसार, यह फिल्म हिन्दुत्व पर हमला है और इसे प्रर्दिशत होने से रोकना एकदम जरूरी है। भंसाली को हिन्दू-विरोधी समूह के नेता के रूप में बताया जा रहा है। यह बताने वाला कोई नहीं है कि अपनी फिल्म के कारण वह हिन्दू-विरोधी क्यों हो जाएंगे और अगर वह पद्मावती के निर्माण की कोशिश छोड़ देते हैं, तो वह एक स्वाभिमानी हिन्दू कैसे हो जाएंगे!

यह अचरज की बात है कि भाजपा का शीर्ष नेतृत्व खामोश है और गैर-कानूनी गतिविधियां करने वाले लोगों के खिलाफ कड़ी कारवाई नहीं कर रहा है। उसे यह समझना चाहिए कि अगर इस तरह की गतिविधियों को जारी रहने दिया गया तो कारोबार में आसानी के लिए उठाए गए कदमों से हुए फायदे गायब हो जाएंगे। इन गतिविधियों को देखकर भारत में निवेश नहीं होगा जिसके लिए सरकार पूरी तरह कोशिश कर रही है।

रेलवे की बड़ी लापरवाही! महाराष्ट्र जाने वाली ट्रेन पहुंची मध्यप्रदेश, यात्री हुए परेशान

बहुत साल पहले, प्रसिद्ध फिल्म निर्माता तथा निर्देशक गुलजार को ऐसी ही परिस्थिति का सामना करना पड़ा था। उनकी फिल्म  ‘आंधी’ प्रदर्शित हुई, तो सैंसर ने इसे बुरी तरह काट-छांट दिया था। हालांकि, इसने इंदिरा गांधी के निरंकुश शासन के विरोध में खड़ी जनता को एक संदेश दिया था।

शायद, एक तीसरी शक्ति जो न तो सांप्रदायिक है, न निरंकुश ही इसका उत्तर है। बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार शायद इसका उत्तर हैं। लेकिन वह अगर बिहार छोड़ते हैं तो लालू प्रसाद और उनका परिवार जगह भरेंगे, जो बेहतर विकल्प नहीं है।

कुछ वजहों से, केन्द्र में आने वाली सरकारों ने प्रेस या मीडिया कमीशन की मांग को खारिज किया है। आजादी के बाद से दो कमीशन बने हैं। एक आजादी मिलने के तुरंत बाद और दूसरा 1977 में आपातकाल के बाद। दूसरे आयोगों की सिफारिशों पर विचार तक नहीं हुआ क्योंकि जब तक रिपोर्ट तैयार हुई, श्रीमती इंदिरा गांधी सत्ता में वापस आ गईं और उन्होंने आपातकाल के बाद सुझाए गए किसी कदम पर विचार करने से इंकार कर दिया। वह सत्ता में वापस लौटी थीं और आलोचकों के साथ बदले की भावना से पेश आईं।

नहीं थम रहा गुजरात में राजनीतिक घमासान, हार्दिक का BJP पर आरोप, की 1200 करोड़ की पेशकश

सबसे महत्वपूर्ण पहलू अखबारों, टेलीविजन और रेडियो का स्वामित्व एक ही घराने या व्यक्ति के हाथ में होना है। यहां तक कि अमरीका में भी एक से अधिक संचार माध्यम पर स्वामित्व को लेकर कुछ नियंत्रण है लेकिन भारत में कोई रोक नहीं है। यहां यह एक और कारखाना लगाने जैसा है।

सच है कि मीडिया ने एक लंबा सफर तय किया है। फिर भी, ‘प्रेस कौंसिल ऑफ इंडिया’ की वर्तमान वार्षिक रिपोर्ट टेलीविजन चैनल को अपने अधिकार क्षेत्र में लाने की मांग असहाय होकर कर रही है। जो कहा जा रहा है, उसे सत्ताधारी सुन नहीं रहे हैं।

कौंसिल का कहना है, 'कुछ समय से पत्रकारिता के पेशे में दाखिल होने के लिए योग्यता का सवाल उठ रहा है।  मीडिया एक  पूरी तरह विकसित क्षेत्र हो गया है और लोगों की जिंदगी पर इसका कुछ असर है, अब समय आ गया है कि कानून के जरिए कुछ योग्यता तय की जाए'।

सामने आया मारूति सुज़ुकी अर्टिगा फेसलिफ्ट का लुक, टेस्टिंग के दौरान हुई कैमरे में कैद

मैं इससे सहमत नहीं हूं कि कोई रिमोट कंट्रोल हो। मैं एक लोकतांत्रिक व्यवस्था में एक अनुशासनहीन प्रैस पसंद करूंगा, बजाय इसके कि एक व्यवस्थित समाज में एक अनुशासित प्रेस हो। चुने हुए प्रतिनिधियों का शासन भीड़ का शासन लग सकता है। यह कभी भी एक अनुशासित निरंकुश शासन से अच्छा है।

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

FacebookGoogle+TwitterPinterestredditDigglinkedinAddthisTumblr

ताज़ा खबरें