दिल्ली: प्रेम प्रसंग के चलते जामिया के 2 छात्रों की हत्या

Navodayatimesनई दिल्ली/ संजीव शर्मा। दिल्ली की जामिया मिलिया यूनिवर्सिटी के दो छात्रों का शव मसूरी क्षेत्र में मिलने से शनिवार को हड़कंप मच गया। शव को बरामद करने के लिए मेरठ पुलिस एक हत्यारे को साथ लेकर मसूरी पहुंची थी, जहां मसूरी रेलवे ट्रैक के  पास स्थित झाडिय़ों से दोनों छात्रों के शव कपड़े में लिपटे हुए बरामद किए गए।

पुलिस शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेजा है। छात्रों की शिनाख्त होने के बाद से उनके परिजनों में कोहराम मचा हुआ है। एएसपी एवं सीओ सदर आशीष श्रीवास्तव ने बताया कि मृतकों की पहचान बाबर (20) और सद्दाम (21) के रूप में हुई है। 

MCD चुनाव से पहले EC ने नियमों में किए ये बड़े बदलाव, जानिए

दोनों मेरठ के गांव जिसौरा के रहने वाले थे और दिल्ली स्थित जामिया मिलिया में पढ़ाई कर रहे थे। पुलिस का कहना है कि छात्रों की हत्या के मामले में मेरठ पुलिस ने अय्यूब नामक आरोपी को गिरफ्तार किया था, जिसकी निशानदेही पर ही छात्रों के शव बरामद किए गए हैं। मेरठ पुलिस अन्य आरोपियों की भी तलाश में जुटी है।

10 अप्रैल को दिल्ली के लिए निकले थे छात्र: जानकारी के अनुसार मृतक छात्र बाबर और सद़्दाम ने करीब 10 महीने पहले ही जामिया यूनिवर्सिटी में दाखिला लिया था। वह ओखला इलाके में रहकर पढ़ाई कर रहे थे। बताया गया है कि बाबर एमटीपी और सद्दाम मैथ्स का छात्र था। मॉर्चरी पर पहुंचे मृतकों के परिजनों ने बताया कि कुछ दिन पहले दोनों छात्र गांव आए थे। जहां से वह 10 अप्रैल को दिल्ली जाने के लिए निकले थे।

 कई बार बेची गई मासूम की दास्तां सुन कांप जाएगी आपकी रूह

परिवार के लोगों का कहना है 10 अप्रैल की शाम को ही दोनों ने उन्हें फोन कर बताया था कि वह दिल्ली स्थित अपने कमरे पर पहुंच गए हैं। मांगी गई थी 80 लाख की फिरौती पीड़ित परिजनों का कहना है कि 11 अप्रैल को उनके मोबाइल पर एक अज्ञात व्यक्ति की कॉल आई। कॉल करने वाले ने बताया कि उन्होंने बाबर और सद्दाम का अपहरण कर लिया है। छोडऩे की एवज में उनसे 80 लाख रुपए की फिरौती मांगी गई। जिसके बाद वे मेरठ पुलिस के पास पहुंचे और मामले की जानकारी पुलिस को दी।

मोबाइल कॉल से खुला हत्या का राज: मेरठ पुलिस का कहना है कि 11 अप्रैल को परिजनों की तहरीर पर केस दर्ज कर लिया था।  पुलिस ने छात्रों के मोबाइल नम्बर की पड़ताल की तो पता चला कि उनकी लास्ट बात गांव के ही रहने वाले अय्यूब से हुई थी। पुलिस ने अय्यूब को हिरासत में लेकर पूछताछ की तो दोनों छात्रों की हत्या का राजफाश हो गया।  

बच्चों को कंप्यूटर एजुकेशन देने के बहाने आरोपी करता था ये काम...

ताबीज दिलाने के बहाने नोएडा ले गया आरोपी: पुलिस का कहना है कि आरोपी अय्यूब साजिश के तहत ही 10 अप्रैल को बाबर और सद्दाम को ताबीज दिलाने के बहाने अपने साथ नोएडा उस वक्त लेे गया,जब वे गांव से ओखला पहुंचे थे।

प्रेम प्रसंग में हुई हत्या

अय्यूब ने पुलिस को बताया कि बाबर का गांव में ही एक युवती के साथ प्रेम प्रसंग था। वहीं गांव में रहने वाला एक अन्य युवक हैदर जो वर्तमान में नोएडा में रहता है उसके भी उसी युवती के साथ संबंध थे। जब हैदर को इस बारे में भनक लगी तो उसने अय्यूब को 2 लाख रुपए और एक प्लॉट का लालच लेकर दोनों छात्रों को नोएडा सेक्टर 63 लेकर आने के लिए कहा। इसके बाद अय्यूब ने बाबर को अपने जाल में फंसाने की साजिश रची और उसे युवती को वश में करने के लिए एक ताबिज बनवाने की बात कही।

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

FacebookGoogle+TwitterPinterestredditDigglinkedinAddthisTumblr