फर्जी विज्ञापन के जरिए ठगी करने वालों का हुआ भंडाफोड़

Navodayatimesनई दिल्ली/ब्यूरो। दिल्ली पुलिस क्राइम ब्रांच की टीम ने कम ब्याज पर लोन दिलाने के नाम पर फर्जी विज्ञापन जारी कर लोगों से ठगी करने वाले एक गिरोह का भंडाफोड़ किया है। इस गिरोह ने अब तक करीब 300 लोगों से पांच करोड़ रुपये की ठगी की है।

पंजाब: गुरदासपुर में भरे बाजार में गैंगवार, गोली लगने से दो लोगों की मौत

इनकी पहचान चिरंजीवी विहार कॉलोनी, गौतमबुद्धनगर निवासी कृष्णपाल उर्फ फौजी (42), बुलंदशहर) निवासी रवि कुमार (27) व अलीगढ़ निवासी तिक्क्षनपाल (24) एवं रजनीश प्रकाश (35) के रूम में हुई है। इनके पास से काफी संख्या में फर्जी आधार कार्ड, पहचान पत्र, एटीएम कार्ड, चेक बुक, ड्राइविंग लाइसेंस, मतदाता पहचान पत्र व चुनाव आयुक्त के डिजिटल हस्ताक्षर बरामद हुए हैं। आरोपी ठगी के लिए एक बड़े फाइनांस कंपनी ट्रेडमार्क का उपयोग करते थे। 

डीसीपी मधुर वर्मा ने बताया कि लोन दिलाने के नाम पर ठगी किए जाने की शिकायत मिली थी। इसके बाद क्राइम ब्रांच के अधिकारियों की एक टीम बना कर जांच शूरू की गई। इसी दौरान सूचना के आधार पर टीम ने कृष्णपाल को गिरफ्तार किया। वह सेना से सेवानिवृत्त है। उसकी निशानदेही पर टीम ने गिरोह के मास्टरमाइंड रवि कुमार, रजनीश व तिक्क्षनपाल को भी दबोच लिया।

पूछताछ में पता चला कि ये फर्जी आधार कार्ड व मतदाता पहचान पत्र का उपयोग कर गाजियाबाद स्थित बैंक ऑफ  बड़ौदा, नेशनल बैंक, साउथ इंडियन बैंक, देना बैंक, यूनियन बैंक ऑफ  इंडिया, एसबीआई, बैंक ऑफ  इंडिया की शाखा के अलावा अलीगढ़ स्थित एचडीएफसी व एक्सिस बैंक की शाखा में 36 अकाउंट खुलवा रखे हैं। साथ ही फर्जी दस्तावेज पर 20 सिमकार्ड भी ले रखा है।

नाबालिग के साथ पिता ने दुष्कर्म किया

रवि व अन्य आरोपी दिल्ली समेत सभी राज्यों के अखबारों में विज्ञापन के जरिये महिंद्रा एंड महिंद्रा फाइनेंस, सत्यम फाईनेंस लिमिटेड, मन्नत फाइनेंस, इको फाइनेंस जैसे नामी कंपनी के नाम पर कम ब्याज पर लोन दिलाने का दावा कर करते थे। जैसे ही कोई व्यक्ति लोन लेने के लिए आरोपियों के दिए नंबर पर फोन करता था, वे उसे अपने जाल में फंसा लेता। उससे प्रोसेस फीस व असली दस्तावेज मांगते थे। फीस के रुपये अपने फर्जी खातों में मंगवाते थे।

जैसे ही व्यक्ति उनके अकाउंट में रुपये डालता था वे एटीएम के जरिये रुपये निकाल लेते थे और जिस फोन नंबर से बात किया होता था उसे बंद कर देते थे। इनके पास से अलग-अलग बैंकों में फर्जी दस्तावेजों के आधार पर खोले गए 21 खातों के पासबुक, सात चेकबुक, 19 स्टैंप, 4 मोबाइल, 5 सिम, एक बाइक, 100 ग्राम सोना व 500 ग्राम चांदी के गहने, 13 चेक बुक, चार पैन कार्ड, एक बाइक और चुनाव आयोग के अधिकारी के. यशवंत, राजीव बंसल व प्रभात भूषण नाम का पहचानपत्र बरामद हुआ है। पुलिस इनके अन्य साथी राहुल, मनीष, निशु, प्रदीप, कुलदीप, अजीत की तलाश कर रही है। 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

FacebookGoogle+TwitterPinterestredditDigglinkedinAddthisTumblr