एयरपोर्ट पर भिड़े कस्टम एजेंट, एक का कत्ल

Navodayatimesनई दिल्ली/मुकेश ठाकुर। आईजीआई एयरपोर्ट के कार्गो पार्किंग कैंटीन में एक कार्गो कस्टम एजेंट ऋषि ने अपने एक साथी मनीष को लोहे की कुर्सी से मारकर हत्या कर दी। हत्या का कारण पत्नी के खिलाफ उपयोग किये जा रहे अपशब्दों का विरोध करना था। इस बात को लेकर नशे में धुत दोनों एजेंटों के बीच विवाद हुआ।

विवाद इतना बढ़ गया कि ऋषि ने मनीष के सिर पर कैंटीन में रखी लोहे की कुर्सी से ताबड़तोड़ वारकर उसे मौत के घाट उतार दिया। अन्य साथियों ने ऋषि को काबू कर घायल मनीष को अस्पताल पहुंचाया जहां डॉक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया। पुलिस ने आरोपी ऋषि को गिरफ्तार कर लिया। पुलिस ने उनके ही एक अन्य साथी दिनेश की शिकायत पर ऋषि के खिलाफ हत्या की धारा में मामला दर्ज कर जांच शुरू कर दी है।

सुनंदा मर्डर मिस्ट्री, होटल लीला का कमरा खोला गया

जानकारी के अनुसार मनीष आरोपी ऋषि और शिकायतकर्ता दिनेश आईजीआई एयरपोर्ट के टर्मिनल टू में स्थित कार्गो में कस्टम एजेंट का काम करते थे। दो दिन पहले मृतक मनीष की पत्नी का जन्मदिन था। अपनी पत्नी के साथ उसका जन्मदिन मनाने के लिए वह शाम के समय थोड़ी देर के लिए अपने घर चला गया था। रात करीब 11 बजे वह अपने घर से वापस लौटा। तीनों अपने एक अन्य साथी आकाश के साथ शराब पीने लगे।

इसी दौरान मनीष पत्नी के साथ मना जन्मदिन की फोटो दिखाने लगा। फोटो देख ऋषि ने कहा कि हम भी अभी जाकर भाभी के साथ जन्मदिन मनाएंगे और उन पर रुपए लुटाएंगे। इसी बात को लेकर मनीष और ऋषि में पहले विवाद, फिर मामला धक्का मुक्की तक पहुंच गया।

नोएडा: लाखों रुपये के पटाखे सहित दुकानदार गिरफ्तार

आकाश और दिनेश ने बीच-बचाव कर ऋषि को वहां से वापस भेज दिया। रात करीब 12 बजे ऋषि वापस लौटा और फिर से मनीष से झगडऩे लगा। इसी दौरान ऋषि ने वहां पड़ी एक कुर्सी उठा ली और मनीष के सिर पर कई वार कर दिए। इस वार से न सिर्फ मनीष का सिर फट गया बल्कि सिर का एक टुकड़ा टूट कर शरीर से अलग हो गया। वहां मौजूद आकाश ने किसी प्रकार ऋषि पर काबू किया और दोनों घायल मनीष को पास के अस्पताल में ले गए। लेकिन, सिर में गंभीर चोट लगने के कारण रास्ते में ही उसने दम तोड़ दिया।

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

FacebookGoogle+TwitterPinterestredditDigglinkedinAddthisTumblr