दयाल सिंह कॉलेज का प्रस्ताव ईसी और एसी में पास होना नहीं आसान

दयाल सिंह कॉलेज का प्रस्ताव ईसी और एसी में पास होना नहीं आसान

नई दिल्ली/ब्यूरो। दयाल सिंह इवनिंग कॉलेज के नाम को भले ही  गवर्निंग बॉडी ने पास कर दिया हो और वंदे मातरम् महाविद्यालय कर दिया हो। मगर अभी भी कॉलेज के नाम के पास होने पर तलवार लटक सकती है। क्योंकि अभी तक गवॄनग बॉडी द्वारा प्रस्तावित की गई फाईल को दिल्ली विश्वविद्यालय की अकादमिक परिषद ने पास नहीं किया है। वहीं, कुछ शिक्षक नाम के विरोध में लॉबिंग करने में भी जुटे हुए हैं।

DU में जल्द भरे जाएंगे खाली पद, कॉलेजों के प्राचार्यों को लिखा पत्र

दिल्ली विश्वविद्यालय के संविधान के अनुसार किसी भी कॉलेज का नाम परिवर्तित करने के लिए सबसे पहले गवॄनग बॉडी प्रस्ताव पारित करती है, जिसके बाद फाइल अकादमिक परिषद (एसी) व विद्वत परिषद(ईसी) से पास होते हुए डीयू के वाइस चासंलर की टेबल तक पहुंचती है।

शुरू हुआ देश का पहला राष्ट्रीय टिश्यू बैंक, अनुप्रिया पटेल ने किया शुभारंभ

यदि वीसी को नाम में कोई परेशानी न दिखाई दे रही हो तभी नाम को परिवर्तित किया जा सकता है। ऐसे में जिस तरह से अभी दयाल सिंह कॉलेज का नाम बदलने पर विवाद हो रहा है, उसे देखते हुए ईसी और एसी में बवाल होने की पूरी संभावना दिखाई दे रही है। ऐसे में नाम पर बवाल मचने के बाद अब वंदे मातरम् पर तलवार लटकती दिखाई दे रही है। वहीं कई शिक्षक संगठन इसे भगवाकरण मान रहे हैं और एसी व ईसी में उनका दबदबा कायम है। 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

FacebookGoogle+TwitterPinterestredditDigglinkedinAddthisTumblr

ताज़ा खबरें