अगर आपको मच्छर काटते हैं ज्यादा तो जानिए साइंटिफिक वजह

Navodayatimesनई दिल्ली/टीम डिजिटल।  क्या आपको पता है कि मादा मच्छर ही केवल काटती है जबकि नर मच्छर शाकाहारी होते है। नर मच्छर पेड़ पौधो को रस पीकर ही जिंदा रहते है और मादा मच्छर इंसानो का खून पीती है ये बात एंटोमोलाॅजिस्ट यानि कि  मच्छराें के  डाॅक्टर ने हीं बताई है।  आपको बता दें कि अगर आप उन लोगो में से है जिन्हे मच्छर ज्यादा काटते है तो इसके पीछे कई वैज्ञानिक कारण है।

फैशन और ब्यूटी ट्रीटमेंट्स में लड़कियों से आगे हैं लड़के, पढ़ें

डाॅक्टर महोबिया को कहना है कि मच्छरो में इंसानाे और जानवरो को लोकेट करने के खास सेंसर होते है । इन सेंसर से ही मच्छर ये पता लगाते है कि उनका शिकार कहां पर है। मच्छर किन चीजो से ज्यादा  आकर्षित होते है इस विषय पर दुनिया भर में कई रिसर्च हुए है। इन्ही रिसर्च के आधार पर आपको आज  बता रहे कि  मच्छर को कौन सी चीज अट्रैक्ट करती है।

  • एक रिसर्च में पाया गया है कि महिलाओ और बच्चो की तुलना में  मच्छर  एडल्ट और पुरूषों को ज्यादा काटते है। मच्छरो को ज्यादा पसीना अट्रैक्ट करता है इनमें नमी, बदबू, और गर्मी जैसी सारी चीजे होती हैं 
  • मच्छरो को सेसर बाॅडी हीट के जरियें लोकेट करते है  और इंसानो के बाॅडी को तापमान सबसे  अनुकूल होता है 
  • कई रिसर्च में ये पाया गया है कि ब्लैक, ब्लू, अैर रेड जैसे डार्क कलर भी  मच्छराें को अट्रैक्ट करते है। 

अगर आपने परफ्यूम या डियो लगाया हुआ है तो मच्छर आपको ज्यादा काटेंगे क्योकि खुशबू मच्छरों को अट्रैक्ट करती है। 

 

जिंदगी में फिट रहने के लिए दोस्तों का साथ है जरूरी,जानिए क्यों

  • लैक्टिक ऐसिड भी मच्छरों को अपनी ओर आकर्षित करता है और ये लैक्टिक एसिड ज्यादातर स्किन केयर  क्रीम्स में पाया जाता है।
  • जिन लोगो का कोलेस्ट्राॅल लेवल ज्यादा होता है उसे  भी मच्छर ज्यादा काटते है।
  •  मोटे लोगो में हीट और कार्बनडाई आॅक्साइड ज्यादा होता है  इसके अलावा उसके बाॅडी में मसल्स भी ज्यादा होती है तो मच्छरो के काटने की ये भी एक बड़ी वजह है। 
  • मच्छर बाॅडी कीी स्मेल के जरिये लोकेट करते है तो जितनी तेज बाॅडी स्मेल होगी मच्छर उतना ही काटेंगे। 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

FacebookGoogle+TwitterPinterestredditDigglinkedinAddthisTumblr