सतलुज नदी में बढऩे लगा पानी, हाई अलर्ट

Navodayatimesनई दिल्ली/नोगल।  एकाएक तापमान बढऩे से ऊंचे पहाड़ों में तेजी से बर्फ पिघलने लगी है। ऐसे में सतलुज नदी का जलस्तर बढ़ गया है। नदी के ऊपर बनी जलविद्युत परियोजनाओं का पानी बढ़ गया है। विदित है कि जिला किन्नौर व रामपुर उपमंडल से लेकर सुन्नी-तत्तापानी तक हजारों लोग सतलुज नदी के आसपास के क्षेत्रों में रहते हैं। ऐसे में कोई हादसा न हो इसके चलते प्रशासन ने हाई अलर्ट कर दिया है।

 पार्वती परियोजना में रिसाव की होगी जांच

बीते एक सप्ताह से मौसम में भारी बदलाव आया है और तापमान बढऩे के कारण सतलुज नदी के जलस्तर में बढ़ौतरी हो रही है। एस.जे.वी.एन. के नाथपा डैम में पानी का जल स्तर काफी बढ़ गया है और किसी भी समय बांध के एक या गेट खोलकर अतिरिक्त पानी को बाहर निकाला जा सकता है।

नाथपा झाकड़ी परियोजना महाप्रबंधक संजीव सूद ने बताया कि नाथपा बांध में पानी 390 क्यूमैक्स के पास पहुंच गया है और बांध की अधिकतम सीमा 400 क्यूमैक्स पानी को रोकने की है। बांध को या इसके आसपास के क्षेत्र को किसी किस्म का खतरा न हो इसके लिए अतिरिक्त पानी को हर हाल में गेटों से बाहर निकालना पड़ता है।

हिमाचल प्रदेश: मंडी जिले की रेवाल्सर झील में हजारों मछलियां मरीं, जांच जारी

तहसीलदार रामपुर विवेक नेगी ने बताया कि नाथपा झाकड़ी परियोजना की ओर से अलर्ट का एक संदेश आया है। इसलिए लोगों को फिलहाल नदी के आसपास जाकर खतरा का मोल नहीं लेना चाहिए। स्थानीय प्रशासन हाई अलर्ट कर लोगों को नदी के आसपास जाने पर रोक लगाई है।

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

FacebookGoogle+TwitterPinterestredditDigglinkedinAddthisTumblr