Tuesday, Jan 23, 2018

Exclusive interview: ‘फुकरे रिटर्न्स’ में दिखेगा ज्यादा पागलपन

  • Updated on 11/30/2017
  • Author : chandan jaiswal

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। ‘उम्मीद पर नहीं, जुगाड़ पर दुनिया कायम है’ इसी टैगलाइन पर ऋचा चड्ढा, पुलकित सम्राट, वरुण शर्मा, मंजोत सिंह और अली फजल स्टारर ‘फुकरे रिटर्न्स’ इन दिनों खूब सुर्खियां बटोर रही है। मृगदीप सिंह लांबा निर्देशित इस फिल्म को फरहान अख्तर और रितेश सिधवानी का बैनर प्रोड्यूस कर रहा है।

‘तुम्हारी सुलु’ की रिलीज से पहले विद्या बालन ने किए बड़े खुलासे, देखें Exclusive Video

फिल्म में फुकरे के सारे किरदारों यानी जफर, चूचा, लाली और हनी की वापसी हुई है। फुकरे की लोकप्रियता में चार चांद लगाने वाली भोली पंजाबन खास हैं, इस यादगार रोल में ऋचा भी एक बार फिर नए तेवर में होंगी। अभिनेता पंकज त्रिपाठी भी फिल्म में जुदा अंदाज में दिखाई देंगे। फिल्म प्रमोशन के लिए दिल्ली पहुंची फिल्म की स्टारकास्ट ने नवोदय टाइम्स/पंजाब केसरी से खास बातचीत की। पेश हैं मुख्य अंश:

Navodayatimes

-  क्या लेकर आए हैं फुकरे रिटर्न्स’

फिल्म के बारे में बताते हुए पुलकित सम्राट कहते हैं कि पिछली बार हमने भोली को गोली दी थी इस बार पूरी दिल्ली को गोली खिला रहे हैं। पिछली बार भोली को हमने तिहाड़ पहुंचा दिया था। भोली अब भूखी शेरनी बनकर वापस निकली है। भोली के साथ-साथ इस बार फिल्म में टाइगर भी है, सांप भी और भी बहुत सारी अतरंगी चीजें। पिछली फिल्म से इस बार ज्यादा आपको पागलपन इस फिल्म में देखने को मिलेगा। पुलकित को इस फिल्म से काफी उम्मीदें हैं।  वह कहते हैं, ‘ हम सभी कलाकारों  ने बेहतरीन काम किया है। हमारे निर्देशक मृगदीप लांबा का हमें बहुत अच्छा साथ मिला। उनके साथ काम करके बहुत मजा आया। उनमें काम को लेकर एक जुनून है और वह जुनून उन्होंने हम लोगों में भी भरा। हम लोगों को काम करते हुए जरा भी दबाव महसूस नहीं हुआ।’ 

-  बहुत मूडी हूं मैं

अभिनेत्री ऋचा चड्ढा गंभीर भूमिकाएं भी उतनी ही खूबसूरती से निभा लेती हैं और कॉमेडी रोल करने में भी उनका जवाब नहीं। खुद ऋचा का कहना है कि मैं बहुत मूडी हूं। एक तरफ मसान की है, एक तरफ फुकरे। कभी-कभी लगता है कि बस गंभीर फिल्में करूं तो कभी लगता है कि बस कॉमेडी फिल्में करूं।

एक अच्छे एक्टर को हर तरह के किरदार निभाने में मजा आना चाहिए। ऋचा कहती हैं कि मैंने इस फिल्म में चार लड़कों को अपने इशारों पर नचाया है। ऐसा मौका किसी लड़की को मिला नहीं होगा कि वो चार-चार हैंडसम लड़कों को अपने इशारों पर नचाए। लेकिन मैंने तो इन चारों को अपने आगे-पीछे नचाया है। मैं अकेली डॉन हूं इसमें और ये चारों डरते हैं मुझसे। बहुत मजा आया, ये सब करके।

Navodayatimes

- किसी भी अच्छी चीज को आने में समय तो लगता है

फिल्म में वरुण शर्मा एक बार फिर दमदार अभिनय करते दिखेंगे। अपने किरदार के बारे में बताते हुए वरुण कहते हैं कि इस फिल्म में मेरा किरदार एक भविष्य बताने वाले का है। दरअसल, उसके साथ एक हादसा होता है। उसे सांप डस लेता है और सांप के काटने के बाद वह लोगों को उनका भविष्य बताने लगता है। वहीं फिल्म के सीक्वेल में लंबे गैप को लेकर वरुण कहते हैं कि अगर हेल्दी बच्चा चाहिए होता है तो 9 महीने लगते हैं।

अब हम 5 एक्टर हैं तो सबके 9-9 महीने जोड़ लीजिए। किसी भी अच्छी चीज को आने में वक्त लगता है और इसलिए फिल्म के सीक्वेल में गैप है, लेकिन फिल्म देखकर लोग गैप को भूल जाएंगे। वरुण कहते हैं कि अजीबोगरीब सपने फिल्म की कॉमेडी का हिस्सा थे, जिसे सुन सुन कर हम हंसकर लोट-पोट हो जाते थे। हमारे निर्देशक बहुत ही अच्छे नरेटर भी हैं तो लगता था कि पूरा दृश्य आपके सामने चल रहा है। हम सब की आंखों में पानी होता था। कुर्सी से नीचे पड़े होते थे और पेट में दर्द होता था। इस बार देजा वू...नहीं देजा चू पर कहानी है तो सोचिए हंसने के कितने मसाले होंगे।

Navodayatimes

-दिल्ली के लोग जुगाड़ से ही जाने जाते हैं

फिल्म में अहम किरदार निभा रहे मनजोत सिंह दिल्ली से हैं। मनजोत कहते हैं कि दिल्ली के लोगों का कोई जवाब नहीं। यहां के लोग जुगाड़ से ही जाने जाते हैं। कहीं भी अपना जुगाड़ निकाल ही लेंगे। वहीं खाने-पीने की बात हो तो दिल्लीवालों से कोई जीत नहीं सकता। फिल्म को लेकर मनजोत कहते हैं कि दरअसल, हमलोग भी इस फिल्म के दूसरे भाग का काफी समय से इंतजार कर रहे थे। ऐसा नहीं है कि हम उसे बनाकर भूल गए थे। एक्टर ही नहीं, प्रोडक्शन हाउस एक्सेल और फिल्म के निर्देशक भी सेकंड पार्ट बनाने की सोच रहे थे। हमसे लगातार लोग पूछते भी थे कि फुकरे इतनी अच्छी थी, उसका सेकंड पार्ट आएगा या नहीं। मुझे बहुत खुशी है कि आखिरकार दर्शकों के साथ-साथ हमारा इंतजार भी खत्म हुआ।

Navodayatimes

- किसी एक निर्माता का नहीं, इंडस्ट्री का नुकसान है ये 

फिल्म पद्मावती को लेकर चल रहे विवाद पर ऋचा कहती हैं, ‘एक तरफ आप कह रहे हैं कि आप देश का गौरव कही जाने वाली पद्मावती के सम्मान के लिए लड़ रहे हैं और दूसरी तरफ आप किसी महिला के ही नाक और सिर काटने की बात करते हैं। ये कैसी अजीब बात है। मेरा मानना है कि हम लोकतंत्र में रहते हैं और हमें अपनी बात कहने का पूरा अधिकार है, मगर शांतिपूर्ण ढंग से।’ वरुण शर्मा ने कहा कि हम अपना फायदा नहीं देख रहे हम उनका नुकसान देख रहे हैं। जब कोई फिल्म रिलीज नहीं हो पाती विवाद में पड़कर तो इससे किसी एक व्यक्ति का नहीं, बल्कि पूरी इंडस्ट्री का नुकसान होता है। वहीं जब कोई फिल्म हिट या सुपर हिट होती है तो इसका फायदा भी पूरी इंडस्ट्री में सर्कुलेट होता है।

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

comments

.
.
.
.
.