सिविल सर्विस डे पर बोले PM मोदी- सुधार के लिए राजनीतिक इच्छाशक्ति की जरूरत

Navodayatimesनई दिल्ली/टीम डिजिटल। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज कहा कि सुधारों के लिए उनमें कुछ ज्यादा ही राजनीतिक इच्छाशक्ति है । उन्होंने नौकरशाहों से कहा कि वे बना-बनाया ढर्रा छोड़ें और देश को बदलने और बेहतर प्रदर्शन करने के लिए टीम के तौर पर मिलकर काम करें।

सिविल सेवकों को संबोधित करते हुए मोदी ने कहा कि तेजी से फैसला करने के किसी भी नतीजे से उन्हें डरने की जरूरत नहीं है, क्योंकि वह जनहित में ईमानदार फैसले करने वाले अधिकारियों के साथ खड़े रहेंगे। मोदी ने कहा कि राजनीतिक इच्छाशक्ति से सुधार हो सकता है, लेकिन नौकरशाही काम करती है और जनभागीदारी से बदलाव होता है।

शिवराज पाटिल के बेटे की कंपनी पर IT का छापा, हुआ कैश बरामद
 
उन्होंने कहा, ‘हमें उन्हें एक धारा में लाना है और जब हम इन तीनों (राजनीतिक इच्छाशक्ति, नौकरशाही का प्रदर्शन और जनभागीदारी) को एक ही धारा में चलाते हैं तो हमें अच्छे नतीजे मिलते हैं ।’ 

मोदी ने कहा कि सुधार के लिए राजनीतिक इच्छाशक्ति की जरूरत है। उन्होंने कहा, ‘मुझमें इसकी कमी नहीं है और हो सकता है थोड़ी ज्यादा ही हो ।’ उन्होंने कहा कि सिविल सेवकों को यह सोचने की जरूरत नहीं है कि यदि कोई फैसला तेजी से किया जाता है तो इसके पीछे दुर्भावना है ।

सिविल सेवा दिवस पर यहां आयोजित एक कार्यक्रम को संबोधित करते हुए मोदी ने कहा, ‘यदि ईमानदार मंशा से, सच्चाई से और लोगों के कल्याण के लिए कोई फैसला किया जाता है तो दुनिया में कोई भी आप पर सवाल नहीं उठा सकता। कुछ चीजें तात्कालिक तौर पर हो सकती हैं, लेकिन मैं आपके साथ हूं ।’ मोदी की इन टिप्पणियों पर नौकरशाहों ने खूब तालियां बजाई ।

UP: मेरठ में लगे विवादित होर्डिंग, 'कश्मीरियों यूपी छोड़ो वर्ना...!'

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

FacebookGoogle+TwitterPinterestredditDigglinkedinAddthisTumblr