दिवाली पर फिर धमाल मचाने आई ‘गोलमाल अगेन’, पढ़ें कास्ट के साथ #Exclusive Interview

Edited by: chandan jaiswal

Navodayatimesनई दिल्ली/ टीम डिजिटल। गोलमाल फ्रेंचाइजी की चौथी फिल्म ‘गोलमाल अगेन’ रुपहले पर्दे पर धमाल मचाने को तैयार है। फिल्म के निर्देशक रोहित शेट्टी 11 साल से दर्शकों को इस सीरीज के जरिए हंसा रहे हैं। रोहित शेट्टी साल 2006 में ‘गोलमाल: फन अनलिमिटेड’ के नाम से फिल्म लेकर आए, इसके बाद 2008 में ‘गोलमाल रिटन्र्स’, 2010 में ‘गोलमाल 3’ और अब ‘गोलमाल अगेन’ आ रही है।

’गोलमाल‘ बॉलीवुड की पहली ऐसी फिल्म है जिसका चौथा भाग बनाया गया है। दिवाली के अगले दिन यानी 20 अक्तूबर को फिल्म रिलीज होने वाली है।  फिल्म में अजय देवगन, अरशद वारसी, तब्बू, परिणीति चोपड़ा, तुषार कपूर, कुणाल खेमू, श्रेयस तलपडे, प्रकाश राज, नील नितिन मुकेश और संजय मिश्रा जैसे कलाकार अहम भूमिकाओं में हैं। ‘गोलमाल अगेन’ में कॉमेडी के साथ हॉरर का तड़का भी है। लेकिन ये ऐसा हॉरर नहीं है जिसे देख दर्शक डर जाएंगे, बल्कि इसे देखकर वे ठहाके लगाएंगे।

फिल्म प्रमोशन के मौके पर दिल्ली पहुंची ‘गोलमाल अगेन’ की स्टार कास्ट ने नवोदय टाइम्स से खास बातचीत की। पेश हैं मुख्य अंश:

Navodayatimes

पिछली फिल्म से अलग है मेरा किरदार: अजय देवगन
इ स फिल्म में मैंने गोपाल उर्फ गोपू का ही किरदार निभाया है, जो बहुत डरपोक है। वह भूतों से बहुत ज्यादा डरता है। उसके साथियों को यह बात पता है। वे जब-तब भूतों की बात करके उसे डराते रहते हैं। फिल्म में आत्मा का भी एक एंगल है। इसमें जो भी कॉमेडी है, बहुत सिंपल है। कुल मिलाकर मुझे यह किरदार अदा करने में हमेशा की तरह बहुत मजा आया। 

बरकरार रखा है फिल्म का लेवल
हमारे सामने सबसे बड़ा चैलेंज यह था कि पिछली तीनों फिल्मों की पिच का ख्याल रखना था। चूंकि दर्शकों को पिछली फिल्में याद हैं, सभी कलाकारों की परफॉर्मेंस उनके जेहन में मौजूद हैं, तो हम सबको वही लेवल मेंटेन रखना था। जब ‘गोलमाल अगेन’ शुरू हुई, तो ‘गोलमाल 3’ की वीसीडी मंगाई गई और उसे ध्यान से देखा गया। इसकी जरूरत इसलिए पड़ी, क्योंकि सात साल बाद हम ‘गोलमाल’ सीरीज की चौथी फिल्म से जुड़ रहे थे। सात साल कम नहीं होते। इतने साल के बाद अपने किरदार को पहले जैसी रंगत में लाना आसान काम नहीं था। खैर, सभी ने पूरे मन से काम किया है, फिल्म का लेवल न सिर्फ बरकरार रखा है, बल्कि उसे और भी ऊंचा उठाया है।

Navodayatimes

सबसे सुरक्षित जॉनर है कॉमेडी
अगर अच्छी कॉमेडी फिल्म बनी हो, तो वह वाकई सबसे सिक्योर जॉनर है। दूसरी फिल्मों की तुलना में दर्शक कॉमेडी की तरफ ज्यादा आकर्षित होते हैं। लेकिन गौर करने वाली बात यह है कि वह कॉमेडी भी कतई नहीं चलती, जो घिसी-पिटी हो।

फिल्म में लोगों को हंसाएगा भूत: तुषार कपूर
ये एक अच्छी ह्यूमरस स्टोरी है, जो दर्शकों को बेहद पसंद आने वाली है। सात साल के ब्रेक के बाद हम एक बार फिर ‘गोलमाल’ के जरिए लोगों को हंसाने आ रहे है। यह दो गैंग्स की कहानी है जो बचपन से ही एक-दूसरे से नफरत करते आ रहे हैे। यह नफरत जवान होने के साथ-साथ और बढ़ जाती है। तूफान तब आता है जब घर में भूत होने का वहम हो जाता है। 

अभिनेत्रियां बदलने से आता है नयापन: अरशद वारसी
जब कहानी बदलती है तो किरदार बदलते हैं। सीक्वेल में मुख्य किरदार लड़कियों का नहीं हैं, इसलिए हर बार अभिनेत्रियां बदल रही हैं। अच्छा है, इससे फिल्म में नयापन आता है। अलग कहानी के साथ अलग अभिनेत्रियां आती हैं और हमें भी मजा आता है। 

‘गोलमाल 5’ की भी तैयारी
हम तो गोलमाल-5 की भी तैयारी कर रहे हैं। गोलमाल की पूरी सीरीज ही इतनी सफल रही है इसी कारण पांचवीं बार के लिए भी हम लोग गंभीरता से सोच रहे हैं।

तब्बू बोलीं, मेरा कॉमिक रोल नहीं... 
फिल्म में मेरा कॉमिक रोल नहीं है, वो सीरियस और शांत है। दरअसल, यह मेरे लिए एक ब्रेक जैसा था, काफी अलग माहौल था। बाकी लोग आपको हंसाते हुए नजर आएंगे। माहौल ऐसा है कि आप खुद हंसने लगते हैं।

बहुत मजा आया फिल्म में काम करके
फिल्म में काम करके मुझे बहुत मजा आया। वक्त के हिसाब से ही फिल्मों का चयन करती हूं। इन सभी एक्टर्स को मैं कई सालों से जानती हूं। मैं पहले दिन से ही इन सभी के साथ कम्फर्टेबल थी।

Navodayatimes

मेरा सपना था इस फिल्म का हिस्सा बनूं: परिणति 
मैं इस फिल्म को लेकर बहुत ज्यादा एक्साइटेड हूं, इस फिल्म में काम करना मेरा सपना था। जब मुझे ये फिल्म ऑफर हुई तो मेरी खुशी का ठिकाना नहीं था। मैंने पिछली सारी गोलमाल सीरीज देखी हैं। मैं सोचा करती थी कि काश, मैं कभी इस फिल्म का हिस्सा बन पाती और किस्मत से मुझे इस फिल्म का ऑफर मिला तो मैं खुशी के मारे चिल्ला उठी।

पूरे करियर में नहीं की थी इतनी मस्ती
इससे पहले मैंने इतनी जबर्दस्त कॉमेडी फिल्म नहीं की लेकिन मैं हमेशा से कॉमेडी फिल्म करना चाहती थी। क्योंकि, मुझे हंसना और हंसाना अच्छा लगता है। हालांकि ये सब आसान तो नहीं था, लेकिन दिलचस्प था। सच कहूं तो मैंने इतनी मस्ती अपने पूरे करियर में पहले कभी नहीं देखी थी। सेट पर जो धमाल होता था। हंस-हंस के हम सब पागल हो जाते थे। हमें पता ही नहीं चलता था कि हमने सीरियसली शूटिंग कब की। दर्शक भी ये सब बहुत एंजॉय करेंगे।

मेरे साथ सबसे ज्यादा प्रैंक्स 
मेरे साथ तो इस फिल्म के सेट पर सबसे ज्यादा प्रैंक्स खेले गए हैं। अजय सर बकायदा इसकी पूरी प्लानिंग करते थे। वह सबके लीडर हैं। एक दिन पहले रात में ही इसकी प्लानिंग होती थी कि कल किस पर प्रैंक खेलना है। फिर दूसरे दिन वह निशाना बनाते थे। चूंकि मैं गोलमाल गैंग में पहली बार शामिल हुई तो सबसे ज्यादा प्रैंक्स मेरे साथ होते थे। 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

FacebookGoogle+TwitterPinterestredditDigglinkedinAddthisTumblr