अगर घर में करते है केमिकल बेस्ड क्लीनिंग प्रोडक्ट्स का इस्तेमाल तो हो जाइए सावधान

अगर घर में करते है केमिकल बेस्ड क्लीनिंग प्रोडक्ट्स का इस्तेमाल तो हो जाइए सावधान

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। कैमिकल बेस्ड क्लीनिंग प्रोडक्ट्स जितने फायदेमंद होते हैं, स्वास्थ्य की दृष्टि से उतने ही नुक्सानदायक भी होते हैं। इसलिए इन्हें इस्तेमाल करते समय कुछ सावधानियां जरूर बरतें।

हेल्थ के मामले में महिलाओं से पीछे हैं पुरुष !

लांड्री डिटर्जैंट

-अमोनिया मिश्रित लांड्री डिटर्जैंट को किसी अन्य हाऊस होल्ड क्लीनर के साथ मिला कर इस्तेमाल न करें। कैमिकल रिएक्शन होने पर त्वचा को नुक्सान हो सकता है।

-इस्तेमाल करने के बाद यदि डिटर्जैंट का कंटेनर या पैकेट खाली हो गया हो तो उसे डस्टबिन में फैंक दें, दोबारा इस्तेमाल न करें।

डिशवॉशर पाऊडर एवं लिक्विड

- इनमें स्ट्रोंग एल्कालाइंस होते हैं, इनसे त्वचा, आंख और मुंह में जाने से इंफैक्शन हो सकता है।

-काम खत्म होने के बाद पाऊडर एवं लिक्विड को ढंक कर रखें, जहां पर पैट्स और बच्चों का हाथ न पहुंच पाए।

-भूलवश यदि डिटर्जैंट बच्चों के मुंह में चला जाए तो तुरंत 1 या 2 गिलास पानी या दूध पिलाएं, जबरदस्ती उल्टी कराने की कोशिश न करें, तुरंत डॉक्टर के पास ले जाएं।

-यदि पाऊडर या डिटर्जैंट बच्चों की आंखों में चला जाए तो आंखों पर पानी के छींटें मारें, बिना देरी किए तुरंत डॉक्टर को दिखाएं।

-इसमें मौजूद स्ट्रोंग कैमिकल्स हाथों को नुक्सान पहुंचा सकते हैं, इसलिए इस्तेमाल करते समय हाथों में रबर के ग्लव्स पहनें।

बॉडी शेप के अनुसार चुनें वर्कआउट, ये बीमारियों होंगी दूर

पैस्टीसाइड्स

- यदि पैस्टीसाइड्स खरीद रही हैं, तो एन्वायरनमैंटल प्रोटैक्शन एजैंसी (ई.पी.ए.) रजिस्टर्ड पैस्टीसाइड्स ही खरीदें।

- पैस्टीसाइड्स के कंटेनर एवं बॉटल पर बने हुए सिंबल्स के बारे में बच्चों को बताएं।

- केवल उतना ही पैस्टीसाइड खरीदें, जितने की जरूरत हो।

- पैस्ट कंट्रोल करते समय छोटे बच्चों और पैट्स को घर के अंदर न रखें, थोड़ी देर के लिए उन्हें बाहर भेज दें।

- खाने की चीजें और पर्सनल सामान जैसे कि किताबें एवं चश्मा आदि संभाल कर रखें।

-बच्चों के कमरों में पैस्ट कंट्रोल करते समय उनके खिलौने, साइकिल, किताबें आदि को संभाल कर रखें या कमरे से बाहर निकाल दें, क्योंकि बच्चों को खिलौने आदि सामान मुंह में डालने की आदत होती है।

-खाना खाने से पहले हाथों को साबुन से अच्छी तरह धोएं और कपड़े भी बदल लें।

-स्प्रे करने के बाद यदि पैस्टीसाइड्स का मिक्सचर बच जाए तो उसे स्टोर न करें, जितनी आवश्यकता हो, उतना ही मिक्सचर मिलाएं।

- छिड़काव करने से पहले फुल स्लीव के कपड़े और रबर के ग्लव्स पहनें। स्प्रे करते समय आंखों की सुरक्षा का भी खास ख्याल रखें।

- कंटेनर खाली होने के बाद उसे तोड़-मरोड़ कर फैंक दें।
नैप्थीलीन बॉल्स 

- एन्वायरनमैंट प्रोटैक्शन एजैंसी के अनुसार, नैप्थीलीन बॉल्स खतरनाक होते हैं, जिनमें विषैले कैमिकल्स होते हैं इसलिए इन बॉल्स को बच्चों से दूर रखें।

टाइट कपड़े को अब कहें बाय, नहीं तो सेहत को होगी ये परेशानी

- नैप्थीलीन बॉल्स के पैकेट या बॉक्स को अच्छी तरह कवर करके शैल्फ या कैबिनेट में रखें। इनकी महक से बच्चों और बुजुर्गों को सांस संबंधी परेशानी हो सकती है।

- इनके संपर्क में रखे हुए कपड़ेे, बैग एवं संदूक आदि को प्रयोग करने से एक दिन पहले खुली हवा में रखें या फिर कपड़ों को ड्राईक्लीन करा के पहनें।

-नैप्थीलीन बॉल्स या ऐसे अन्य टॉक्सिक मैटीरियल को कभी भी सीधे कूड़े में न फैंकें।

-कपड़ों आदि में रखते समय इन बॉल्स को पेपर में लपेट कर रखें। ऐसा करने से बॉल्स की महक कपड़ों में बनी रहती है और फैब्रिक भी खराब नहीं होता।

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

FacebookGoogle+TwitterPinterestredditDigglinkedinAddthisTumblr

ताज़ा खबरें