'पद्मावती' के विरोध के साथ-साथ हिंदू-मुस्लिम दंगे कराने को किले में लटकाई गई लाश!

'पद्मावती' के विरोध के साथ-साथ हिंदू-मुस्लिम दंगे कराने को किले में लटकाई गई लाश!

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। शुक्रवार को जयपुर के नाहरगढ़ किले की दीवार पर सुबह 40 वर्षीय चेतन कुमार सैनी की लाश लटकी मिली। लाश के साथ किले की दीवार पर कोयले से कई बातें लिखी थीं। उन बातों को देखकर अटकलें लगाई गई कि चेतन ने आत्महत्या की है।

 इस तिकड़ी ने मिलकर जब-जब किया काम, फिल्म Controversy और कमाई हर तरह से रही Superhit

लेकिन जिस जगह लाश मिली वहां किले की चट्टानों-पत्थरों पर कुछ ऐसी भड़काऊ बातें लिखी हुई हैं जो इस ओर इशारा करती हैं कि ये आत्महत्या नहीं बल्कि हत्या है। शुरुआत में कहा गया कि चेतन ने राजस्थान और देशभर में चल रहे 'पद्मावती' फिल्म के विरोध में सुसाइड की है, क्योंकि कोयले से लिखी बातों में फिल्म 'पद्मावती' का जिक्र था।

पद्मावती को मिला 'दीदी' का सहारा, संजय लीला भंसाली व टीम को बुलाएंगी बंगाल

लेकिन बाद में करीब से पड़ताल करने पर ये बात पता चली की किले की चट्टानों पर लिखी बातें फिल्म के नहीं, बल्कि फिल्म का विरोध कर रहे लोगों के खिलाफ थीं। किले की एक चट्टान पर लिखा पाया गया कि हम सिर्फ पुतले नहीं लटकाते पद्मावती। इस लिखावट से पहले यह संदेश गया कि चेतन ने आत्महत्या की है।

Navodayatimes

लेकिन किले की चट्टान पर लिखी ये बात अधूरी थी। इसके अलावा 10 और भी चट्टानों पर इसी तरह की बातें लिखी पाई गईं। एक चट्टान पर पद्मावती फिल्म का विरोध पर रहे लोगों पर तंज कसते हुए लिखा है कि पद्मावती का विरोध करने वालो, हम किले से सिर्फ पुतले नहीं लटकाते।

Navodayatimes

इसके अलावा दो जगहों पर चेतन तांत्रिक लिखा हुआ है। एक जगह पर तांत्रिक तो एक जगह पर चेतन तांत्रिक मारा गया। कहा जा रहा है कि जिन्होंने चेतन को मारकर लटकाया, वो नहीं चाहते थे कि ये मामला सुसाइड का लगे।

NavodayatimesNavodayatimes

एक अन्य चट्टान पर इस हत्या को सांप्रदायिक रंग देने की कोशिश की गई है। जिसमें लिखी बातों से ऐसा लगे कि ये बातें किसी मुसलमान ने लिखी हैं। चट्टान पर लिखा है कि हर काफिर का यही हाल होगा। जो काफिर को मारेगा, अल्लाह को प्यारा होगा। हम पुतले नहीं लटकाते/अल्लाह के बंदे।

Navodayatimes

इसके अलावा चट्टानों पर तीन ऐसे मैसेज लिखे हैं जिनमें काफिर शब्द आता है। दो में अल्लाह लिखा हुआ है लेकिन इनमें 'ह' अक्षर गायब है।

‘पद्मावती’ को लेकर धमकी देना गलत, विवादित अंश हटाकर जल्द फिल्म रिलीज हो: अठावले 

सारे संदेशों को पढ़कर यही कहा जा रहा है कि ये आत्महत्या का नहीं बल्कि हत्या का मामला है, हत्या के पीछे भी एक सोची समझी साजिश थी ताकि मुद्दे को हिंदू बनाम मुसलमान बनाया जा सके और फसाद कराया जा सके।

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

FacebookGoogle+TwitterPinterestredditDigglinkedinAddthisTumblr

ताज़ा खबरें