मायावती ने बसपा की सभी समितियां की भंग

Navodayatimesनई दिल्ली/टीम डिजिटल।  उत्तर प्रदेश के हाल के विधानसभा चुनाव में करारी शिकस्त के बाद बहुजन समाज पार्टी में बड़ा परिवर्तन करते हुए पार्टी सुप्रीमो मायावती ने सभी समितियों को भंग कर दिया है।

चीन को हमारे इलाकों के नाम बदलने का हक नहीं

 पार्टी सूत्रों ने बताया कि बुधवार की रात बसपा नेताओं की बैठक हुई। मायावती ने संगठन में फेरबदल किये।  बसपा 2014 के लोकसभा चुनाव में एक सीट भी नहीं जीत पायी थी। हाल के उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव में उसे मात्र 19 सीटें मिली।  पार्टी में नई जान फूंकने के इरादे से मायावती ने जोनल, मंडल और जिला संयोजकों की पूरी टीम भंग कर दी।

ब्राह्मण, ठाकुरों और मुस्लिमों को लुभाने के प्रयास में बनायी गयी भाईचारा समितियों को भी भंग कर दिया गया है। एक अन्य महत्वपूर्ण फैसला करते हुए मायावती ने पार्टी नेता नसीमुद्दीन सिद्दीकी को मध्य प्रदेश का संयोजक बनाया है।  सिद्दीकी अब तक उत्तर प्रदेश के प्रभारी थे।  उन्हें लखनऊ जोन का प्रभारी बनाया गया है।  मायावती छोटे भाई आनंद कुमार को बसपा उपाध्यक्ष नियुक्त कर चुकी हैं। उन्होंने  बुधवार की बैठक में भाई का नेताओं और कार्यकर्ताओं से परिचय कराया।

 ईरान को अलग-थलग करने की कोशिश में अमेरिका 

आनंद के साथ उनके लंदन से शिक्षित बेटे भी थे, जिनका परिचय मायावती ने कराया।  मायावती ने ऐलान किया है कि दो दशक से अधिक समय बाद बसपा अब शहरी स्थानीय निकाय चुनाव पार्टी के चुनाव चिन्ह पर लड़ेगी।  मायावती ने  नेताओं से कहा कि वे सर्व समाज में पार्टी का आधार बढायें और मिशन की भावना से नई रणनीति के तहत कार्य करें ताकि बसपा आंदोलन के समक्ष आ रही नई चुनौतियों से निपटा जा सके।
 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

FacebookGoogle+TwitterPinterestredditDigglinkedinAddthisTumblr

ताज़ा खबरें