'अप्रेजल' में विप्रो का झटका, 600 कर्मचारियों को दिखाया बाहर का रास्ता

Navodayatimesनई दिल्ली/टीम डिजिटल। भारत की तीसरी सबसे बड़ी सॉफ्टवेयर कंपनी विप्रो ने अपने 600 कर्मचारियों को निकाल दिया है। उन्होंने कर्मचारियों के कामकाज की सलाना समीक्षा के बाद नौकरी से निकाल दिया है।

कुछ खबरों के मुताबिक यह संख्या 2,000 तक बताई जा रही है। दिसंबर 2016 के अंत तक कंपनी के कर्मचारियों की संख्या 1.76 लाख से अधिक थी।

पीएम मोदी, Paytm संस्थापक ‘टाइम’ के प्रभावशाली लोगों की सूची में शामिल 

इस बारे में विप्रो ने कहा कि अपने कारोबार लक्ष्यों को पाने के लिए वो अच्छे कर्मचारी ही चाहते हैं। इसके लिए वो नियमित आधार पर कर्मचारियों के कामकाज का मूल्यांकन करते रहते हैं। यह कंपनी की रणनीति प्राथमिकताओं और ग्राहक की जरूरत के अनुसार किया जाता है। उनका कहना है कि इसी मूल्यांकन के बाद कुछ कर्मचारियों को नौकरी छोड़नी पड़ती है। हालांकि हर साल इनकी संख्या बदलती रहती है। 

विप्रो ने कहा कि उसके प्रदर्शन आकने की प्रक्रिया में मेंटरिंग, री-ट्रेनिंग जैसे पहलू शामिल हैं। कंपनी की चौथे क्वॉर्टर की रिपोर्ट और पूरे साल के आंकड़े 25 अप्रैल को आएंगे।

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

FacebookGoogle+TwitterPinterestredditDigglinkedinAddthisTumblr

ताज़ा खबरें