नई पहल, गरीब तबके के 20 बच्चों का होगा मुफ्त इलाज

नई पहल, गरीब तबके के 20 बच्चों का होगा मुफ्त इलाज

नई दिल्ली(आदित्य पाण्डेय): कहते हैं कि डूबते को तिनके का सहारा ही काफी होता है। कुछ लोग या ये कहें कि कुछ संस्थान ऐसे हैं जो बिना किसी लाग लपेट के तन्मयता से, डूबते लोगों को किनारे लगाने का कार्य कर रहे हैं। ऐसे लोगों और ऐसे संस्थानों के बारे में जानकारी साझा करना समाज के उन लोगों के लिए बेहद हितकारी होता है जो खराब परिस्थितियों के कारण या इलाज ना मिल पाने के कारण जीवन की जंग हार जाते हैं।

ऐसे लोगों के लिए रोहिणी स्थित राजीव गांधी कैंसर इंस्टीट्यूट जैसे संस्थान भगवान बनकर काम कर रहे हैं। ये कैंसर जैसी बीमारी से जूझ रहे गरीब तबके के बच्चों के इलाज के सारे खर्चे का ना केवल प्रबंध कर रहे हैं बल्कि उनके रहने, पढऩे और खेलने का भी बेहतर प्रबंध करते हैं।  रोहिणी सेक्टर 5 स्थित राजीव गांधी कैंसर इंस्टीट्यूट में कैंसर के मरीजों के लिए कुल 300 बेड हैं। जिनमें कैंसर से जूझ रहे गरीब बच्चों के लिए 20 बेड आरक्षित हैं।

राजीव गांधी कैंसर इंस्टीट्यूट में पेडियाट्रिक हिमैटोलॉजी, ओन्कोलॉजी विभाग की डॉ. गौरी कपूर और डॉ. संदीप जैन ने बताया कि अस्पताल में एक विशेष कर्मचारी नियुक्त है जो कैंसर से पीड़ित गरीब तबके के आर्थिक रूप से कमजोर उन बच्चों के इलाज के लिए राहत कोष से फंड दिलाने में सहयोग करता है जिनके ठीक होने की संभावना ज्यादा होती है। इसमें मरीज को कई तरह के फंड दिलाए जाते हैं। जिनमें कुछ फंड राजीव गांधी कैंसर इंस्टीट्यूट स्वयं देता है। कुछ प्रधानमंत्री राहत कोष से और कुछ इंडियन कैंसर सोसायटी, मुंबई से दिलाता है। फंड दिलाने की यह प्रक्रिया राजीव गांधी कैंसर इंस्टीट्यूट के माध्यम से ही पूरी होती है।

डॉ. गौरी कपूर ने बताया कि कैंसर से पीड़ित बच्चों की इम्यूनिटी कम होती है। इसलिए इन बच्चों को ज्यादा एहतियात बरतने की सलाह दी जाती है। ऐसे बच्चों के लिए अस्पताल में अलग वार्ड है। बच्चों के लिए अस्पताल में काउंसलर की व्यवस्था की गई है। ताकि ज्यादा एहतियात बरतने की वजह से बच्चे चिड़चिड़े या दब्बूपन के शिकार न होने पाएं। बच्चों को पढ़ाने के लिए टीचर और खेलने के लिए कई प्रकार के विडियो गेम की सुविधा प्रदान कराई गई है। बच्चों को इंजेक्शन इत्यादि देते समय कार्टून मूवी या विडियो गेम दिखाए जाते हैं।

ताकि उनका मन प्रसन्न रहे। डॉ गौरी कपूर ने बाताया कि कैंसर के एक मरीज के इलाज में अमूमन 12 से 14 लाख रुपए का खर्च आता है। राजीव गांधी कैंसर इंस्टीट्यूट गरीब व असहाय तबके के कैंसर पीड़ित बच्चों को न केवल लगभग पूरी तरह से स्वस्थ्य करने तक इलाज करता है बल्कि अस्पताल 500 बच्चों के लिए आजीवन मुफ्त हेल्थ चेकअप की सुविधा भी देता है। इलाज के लिए दूर दराज से दिल्ली आए 16 गरीब परिवारों के ठहरने के लिए अस्पताल ने आश्रय गृह बनवाए हैं। जहां ऐसे लोगों को बिजली पानी के अलावा अन्य किसी प्रकार का चार्ज नहीं देना पड़ता।   

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

FacebookGoogle+TwitterPinterestredditDigglinkedinAddthisTumblr

ताज़ा खबरें