Tuesday, Jan 23, 2018

जब जयललिता को अस्पताल लाया गया था तो रुकी हुई थी उनकी सांसें !

  • Updated on 12/15/2017

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। अपोलो अस्पताल के शीर्ष अधिकारी ने कहा कि तमिलनाडु की दिवंगत मुख्यमंत्री जे जयललिता को पिछले साल 22 सितंबर को जब अस्पताल लाया गया था तो उनकी ‘सांस नहीं चल रही थी।’ उन्होंने बताया कि उपचार के दौरान उनके साथ वही लोग थे, जिनके नामों की उन्होंने मंजूरी दी थी। अन्नाद्रमुक सुप्रीमो 75 दिन अस्पताल में रहीं। इसके बाद पांच दिसंबर को उनका निधन हो गया।

जल्द ही हल होंगे अंतरराज्यीय जल विवाद, राजस्थान को मिलेगा पूरा पानी: नितिन गडकरी

अपोलो अस्पताल की उपाध्यक्ष प्रीता रेड्डी ने नयी दिल्ली में एक निजी टीवी चैनल को बताया, ‘‘उन्हें (जयललिता को) जब अस्पताल ले आया गया था तो उनकी सांस नहीं चल रही थी, उनका उचित इलाज किया गया और उनकी स्थिति बेहतर हुई।’’   उन्होंने कहा, ‘‘दुर्भाग्यपूर्ण रूप से आखिरकार वो हुआ जो कोई नहीं चाहता था। और वह कुछ ऐसा था जिस पर किसी का वश नहीं।’’ उनकी मौत की परिस्थितियों को लेकर कुछ लोगों द्वारा सवाल खड़े किये जाने से जुड़े एक अन्य सवाल के जवाब में रेड्डी ने कहा कि अस्पताल ने नयी दिल्ली और विदेश के सर्वश्रेष्ठ चिकित्सकों से उनका उपचार करवाया।

उन्होंने कहा, ‘‘जांच हो रही है और मुझे लगता है वह सबसे अच्छी चीज है। उनको आंकड़े देखने दीजिए...मेरे ख्याल से उसके बाद सारे रहस्य सुलझ जाएंगे।’’ रेड्डी से जब पूछा गया कि जयललिता के उपचार के समय उनके साथ कौन-कौन था तो उन्होंने कहा कि जरूरत के अनुरूप और दिवंगत मुख्यमंत्री ने जिन लोगों की स्वीकृति दी थी, वे ही इलाज के दौरान उनके साथ थे।

आरुषि हत्याकांड : राजेश-नुपुर तलवार की रिहाई को हेमराज की फैमिली ने सुप्रीम कोर्ट में दी चुनौती 

अधिकारी से जब यह सवाल किया गया कि फिंगरप्रिंट लेने के समय क्या जयललिता को यह बताया गया था कि उनकी उंगली के निशान लिए जा रहे हैं तो उन्होंने कहा, ‘‘मैं इस सवाल का जवाब नहीं दे सकती क्योंकि मैं तब उनके बेड के पास नहीं थी।’’ यह आरोप लगाया जाता है कि तब उपचुनावों में अन्नाद्रमुक के उम्मीदवार तय किये जाने वाले दस्तावेजों पर जयललिता की उंगलियों के निशान लिये गए थे।

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.