अलकायदा और ISIS का महागठबंधन, दुनिया का क्या होगा अंजाम!

Navodayatimesनई दिल्ली/टीम डिजिटल। दुनियाभर में सबसे अहम मुद्दा इस समय आतंकवाद है। कई देश आतंकवादियों को समर्थन करने के लिए जाने जाते हैं तो कई देश इस मुद्दे से अकेले या किसी और देश के साथ मिलकर लड़ने की कोशिश भी कर रहे हैं।

हाल ही में कुछ समय के लिए ऐसा माना जा रहा था कि दुनिया में आतंकवाद जल्द ही खत्म हो जाएगा। लेकिन ऐसा नहीं है। आंतकी संगठनों ने अपना एक नया दाव खेला है। उन्होंने कम होने की बजाय अपनी ताकत दोगुनी कर ली है। खबरों की मानें तो दुनिया के दो बड़े आतंकी संगठन बगदादी और अल-कायदा ने महागठबंधन कर लिया है। दोनों ही संगठन अपने आप में दुनिया के लिए बेहद बड़ा खतरा हैं। अब उनके इस गठबंधन से बढ़ने वाले खतरे का अंदाजा लगाना मुश्किल है।

 कश्मीर में न रहने पर भी कश्मीरी हो रहे हैं पत्थरबाजों की करतूतों के शिकार...!

महागठबंधन
दुनिया के दो बड़े आतंकी संगठन। दोनों में थोड़े बहुत अंतर के साथ थोड़ी दुश्मनी होना तो लाजमी है। लेकिन कहते हैं न दुश्मन का दुश्मन अपना दोस्त होता है। यही कारण है कि दुश्मनी के बाद भी दोनों ने हाथ मिला लिया है। क्योंकि दोनों ही दुनिया की शांती के दुश्मन बने बैठे हैं। हाथ मिलाने का कारण सामने खड़ी मुसीबत से बचना भी हो सकता है।

अपनी कम होती दहशत और छूट रही पकड़ को बनाने के लिए बगदादी ने ये कदम उठाया है। आईएसआईएस के प्रमुख बगदादी और अलकायदा के प्रमुख जवाहिरी अपनी-अपनी पकड़ बनाए रखने के लिए हाथ मिला रहे हैं। उन्हें बस अपने नाम के खो जाने का डर है। इराक और सीरिया में बन चुके हालातो में अकेले रहकर न तो बगदादी बच पाएगा और न ही अलकायदा।

Navodayatimes

किसने किया खुलासा
आतंकियों के महागठबंधन का खुलासा इराक के उप-राष्ट्रपति अयाद अलवी ने किया है। उनके इतना बड़ा दावा करने में जाहिर तौर पर कुछ सच्चाई होगी ही। खबरों के मुताबिक काफी समय से दोनों ही संगठनों में इस महागठबंधन के लिए बातचीत जारी है। केवल संगठनों में ही नहीं बल्कि लोग भी इस महागठबंधन की बात बहुत समय से कर रहे हैं। 

सावधान: कहीं आप भी तो नहीं पी रहे है लाश वाली बर्फ का पानी

आईएसआईएस का आतंक
महागठबंधन होने से छिड़ने वाली जंग के बाद के हालात पर काबू करने के लिए अहम होगा प्लान, समर्थन और राजनीतिक हस्तक्षेप। केवल इराक से आईएसआईएस को खत्म करने से वो खत्म होने वाला नहीं है। क्योंकि आईएसआईएस पूरी दुनिया में फैला है। जानकारी में दावा किया गया है कि दोनों आतंकी संगठन मिलकर जंग के प्लान बना रहे हैं। उनके प्रमुख के खत्म होने पर भी दुनियाभर में उनके स्लिपर सेल मौजूद रहेंगे।

आतंकियों के बचने का तरीका
इराक में इराकी-अमेरिकी फौजों, कुर्दिश फाइटरों और शिया मिलिशिया ने लगभग आईएसआईएस को मिटा दिया है। वहां केवल मोसुल के कुछ गांवों तक ही इनके निशान बाकी हैं। रूस के साथ मिलकर सीरिया की फौज ने भी यही अपने देश में अलकायदा के साथ भी किया है। इन्हीं हालातों को देखकर दोनों संगठनों ने जुड़ने का फैसला लिया है।

Navodayatimes

भांप लिया खतरा
बता दें कि 2003 तक आईएसआईएस अलकायदा का ही हिस्सा था। मगर सद्दाम के तख्ता पलट के बाद खुद को खलीफा घोषित करने और अपना अलग संगठन बनाने की सनक में बगदादी ने आईएसआईएस बनाया था। समय के साथ अपनी दरिंदगी की वजह से बगदादी के इस संगठन ने इराक और सीरिया के साथ दुनियाभर में दहशत कायम कर दी।

आईएसआईएस की बढ़ती दहशत से अलकायदा को अपने अस्तित्व पर खतरा दिखने लगा। इसी कारण से दोनों के बीच 5-6 सालों से दुश्मनी थी। लेकिन अब अपनी नाम बचाने के लिए दोनों साथ भी आ गए हैं। उनका साथ आना दुनिया के लिए खतरा है।

पहले ही बन गई थी ढांचा गिराने की योजना

फौज पर केमिकल अटैक 
इराक और सीरिया से अपना खातमा होने से पहले आईएसआईएस के आतंकवादी अपने दुश्मनों पर आखिरी चोट करना चाहते हैं। आतंकवादियों का सरगना अबु बकर अल बगदादी पहले ही भाग चुका है। लेकिन मोसुल में बचे आतंकवादी फौज पर केमिकल अटैक कर रहे हैं। पिछले दो दिनों में इन आतंकवादियों ने दो रसायनिक हमले किए हैं। ऐसे में इन हमलों का सबसे नुकसान वहां रहने वाले बेगुनाहों को भुगतना पड़ रहा है।

मस्टर्ड गैस से हमला
आईएस के अहम ठिकानों में से मोसुल में सेना और आईएसआईएस के बीच जारी जंग में आतंकवादियों की स्थिती कमजोर है। लेकिन फिर भी ये आतंकवादी फौज पर केमिकल अटैक करके आखिरी कोशिश कर रहे हैं। मोसुल के अल-अबार इलाके में इराकी फौज पर खौफनाक मस्टर्ड गैस से हमला किया है। इससे पल भर में लोगों की जान चली जाती है। लेकिन अमेरिका और आस्ट्रेलिया जैसे बड़े देशों की मदद से इराक की फौज लगातार आईएसआईएस के आतंकवादियों को देश से बाहर निकालने में लगी है।

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

FacebookGoogle+TwitterPinterestredditDigglinkedinAddthisTumblr

ताज़ा खबरें