Thursday, Dec 09, 2021
-->
PM मोदी के फैसले ने साबित किया कि वे जनता की राय पर ध्यान देते हैं - कैप्टन अमरिंदर सिंह

PM मोदी के फैसले ने साबित किया कि वे जनता की राय पर ध्यान देते हैं - कैप्टन अमरिंदर सिंह

ब्लॉग11:24 AM IST November 22, 2021

इस वर्ष श्री गुरु नानक देव जी का प्रकाश पर्व, प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की इस घोषणा के साथ और भी विशिष्ट हो गया कि तीन कृषि कानूनों को निरस्त कर दिया जाएगा तथा करतारपुर साहिब कॉरिडोर को फिर से खोल दिया जाएगा। कोई भी राष्ट्रवादी, कोई भी व्यक्ति जो हमारे किसान और कृषि क्षेत्र के कल्याण के बारे में सो

Share Story
  • दिल्ली MCD चुनाव 2022 में भाजपा के लिए अपनी सत्ता बचाये रखना बड़ी चुनौती होगी!

    दिल्ली MCD चुनाव 2022 में भाजपा के लिए अपनी सत्ता बचाये रखना बड़ी चुनौती होगी!

    challenge for BJP to retain its power in Delhi MCD Election 2022...

  • क्या सरकार ‘पिंजरे के तोते’ को आजाद करेगी

    क्या सरकार ‘पिंजरे के तोते’ को आजाद करेगी

    अन्वेषण ब्यूरो (सी.बी.आई.) के बारे में ऐसा क्या है कि वह हमेशा विवादों में बनी रहती है, जिसके चलते इसे भ्रष्टाचार, सांठ-गांठ और सुविधा का केन्द्रीय ब्यूरो या प्रधानमंत्री द्वारा नियुक्त जांच का षड्यंत्र ब्यूरो के उपनाम दिए गए हैं। 

  • स्वर्ण पदक जीतने के लिए भारत में उचित माहौल बनाने की पहल

    स्वर्ण पदक जीतने के लिए भारत में उचित माहौल बनाने की पहल

    हमारे प्रधानमंत्री द्वारा नीरज चोपड़ा को चूरमा तथा पी.वी. सिंधु को आइसक्रीम पेश करना, बजरंग पूनिया के साथ हंसते हुए, रवि दहिया को और हंसने के लिए कहना तथा मीराबाई चानू के अनुभव सुनना- इन दृश्यों को देख कर प्रत्येक भारतीय के चेहरे पर अवश्य ही

  • तालिबानी खतरे के खिलाफ भारत पहले से मजबूत स्थिति में

    तालिबानी खतरे के खिलाफ भारत पहले से मजबूत स्थिति में

    अमरीकी राष्ट्रपति जो बाइडेन ने अफगानिस्तान से अपने देश के सैनिकों की वापसी की घोषणा की तो योजना सितम्बर तक अपने सुरक्षाबलों तथा कूटनीतिक कर्मचारियों को धीरे-धीरे हटाने की थी। तालिबान का तेजी से आगे बढऩा, जिसे स्पष्ट तौर पर पाकिस्तान का समर्थन प्राप्त था,

  • शहरों के नाम बदलने के पीछे सिर्फ वोट बैंक की राजनीति

    शहरों के नाम बदलने के पीछे सिर्फ वोट बैंक की राजनीति

    उत्तर प्रदेश के 2 जिलों अलीगढ़ और मैनपुरी के नीति नियंताओं ने अपने जिले  का नाम बदलने की चाहत जताई है। दोनों जिलों की जिला पंचायतों ने इसके लिए बाकायदा प्रस्ताव पारित कर अपना काम कर दिया है। अलीगढ़ के नाम को लेकर पहले से भी चर्चाएं होती रही हैं,

  • बढ़ता जल संकटः एक ओर बाढ़ तो दूसरी ओर सूखा

    बढ़ता जल संकटः एक ओर बाढ़ तो दूसरी ओर सूखा

    देश में जल संकट इतना भयावह हो चुका है कि एक ओर तो देश के अनेक शहरों में सूखा पड़ा हुआ है तो दूसरी ओर कई शहर बाढ़ की चपेट में हैं। इन सबसे आम जन-जीवन अस्त-व्यस्त हो रहा है। चेन्नई देश का पहला ऐसा शहर हो गया है जहां भूजल पूरी तरह से समाप्त हो चुका है।

  • 50 करोड़ टीकाकरण देश के लिए ऐतिहासिक उपलब्धि

    50 करोड़ टीकाकरण देश के लिए ऐतिहासिक उपलब्धि

    7 अगस्त 2021 को भारत ने कोरोना को परास्त करने की दिशा में ऐतिहासिक उपलब्धि हासिल करते हुए 50 करोड़ वैक्सीनेशन का आंकड़ा पार कर लिया। यह दुनिया का सबसे बड़ा और सबसे तेज गति से चलने वाला वैक्सीनेशन प्रोग्राम है।

  • नेता जातीय हांडी से बाहर नहीं निकलना चाहते या ऐसा करने में अक्षम हैं

    नेता जातीय हांडी से बाहर नहीं निकलना चाहते या ऐसा करने में अक्षम हैं

    अमरीकी राष्ट्रपति निक्सन ने अपनी पुस्तक  ‘द रीयल वार’ में लिखा है, ‘‘यह विचार कि हम अपनी स्वतंत्रता को सद्भावना फैलाकर बचा सकते हैं, न केवल बचकाना है, अपितु खतरनाक भी है।’’ उनके इन चेतावनी भरे शब्दों पर हमारे नेतागणों ने कोई ध्यान नहीं दिया है।

  • ममता खुद को एक परिपक्व नेता के तौर पर पेश कर रही हैं

    ममता खुद को एक परिपक्व नेता के तौर पर पेश कर रही हैं

    विपक्षी पार्टियों को एकजुट रखने के एक और प्रयास में पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने गत सप्ताह राजधानी का दौरा किया। उन्होंने सभी सही लोगों से मुलाकात की तथा विपक्षी एकता बनाए रखने के लिए

  • विकास के नाम पर बेतरतीब निर्माण और प्रकृति का रौद्र रूप

    विकास के नाम पर बेतरतीब निर्माण और प्रकृति का रौद्र रूप

    हिमाचल की सांगला वैली में बिटसेरी इलाके में बिना बारिश के अचानक पर्वतों के टूटने से जो भूस्खलन हुआ, उसने एक बार फिर हमारी विनाशलीला को रेखांकित किया। इस हादसे में 9 निर्दोष पर्यटक मारे गए और नदी के आर-पार जाने वाला पुल भी टूट कर बह गया।

  • देश को उद्योग प्रधान बनाए बिना आर्थिक विकास संभव नहीं

    देश को उद्योग प्रधान बनाए बिना आर्थिक विकास संभव नहीं

    खेतीबाड़ी के मामले में अपने को कृषि प्रधान कहते हुए देशवासी इतने भावुक हो जाते हैं कि धरती को मां और किसान को अन्नदाता कहते नहीं थकते। अब यह बात और है कि जमीन जब बंजर, सूखाग्रस्त और रेतीली हो जाती है तो उसका इलाज कर खेती के काबिल बनाने की बजाय

  • केंद्र सरकार अंतर्राज्यीय विवादों में हस्तक्षेप करे

    केंद्र सरकार अंतर्राज्यीय विवादों में हस्तक्षेप करे

    शासन से भारत को आजादी प्राप्त किए हुए लगभग 75 वर्ष हो चुके हैं। मगर हम अभी भी इसकी विरासत तथा इसके द्वारा उलझाए गए विवादों को भुगत रहे हैं। संवेदनशील मुद्दों को लटकाने की सरकारों की प्रवृत्ति रही है। विवादों के किसी भी समाधान से सरकारें बचना चाहती हैं। 

  • कर्नाटक में येद्दियुरप्पा को नजरअंदाज नहीं कर सकती भाजपा

    कर्नाटक में येद्दियुरप्पा को नजरअंदाज नहीं कर सकती भाजपा

    जुलाई कर्नाटक के मुख्यमंत्री येद्दियुरप्पा के राज्य में शासन की दूसरी वर्षगांठ थी लेकिन किसी समारोह का आयोजन करने की बजाय यह उनके द्वारा इस्तीफा देने की घोषणा के बाद एक भावुक विदाई भाषण के लिए अवसर में बदल गई। राज्य में बी.एस.वाई. के तौर पर जाने जाते

  • कारगिल युद्ध ने दुनिया को पाकिस्तान का असली चेहरा दिखा दिया

    कारगिल युद्ध ने दुनिया को पाकिस्तान का असली चेहरा दिखा दिया

    मार्च 1999 को पाकिस्तान सेना के जनरल परवेज मुशर्रफ और आई.एस.आई. चीफ इकतार अहमद भट्ट ने इस समझौते को नकार कर भारत के कारगिल जिले में घुसपैठ कर ‘ऑपरेशन बद्र’ आरंभ किया।

  • राजनीतिक दखलंदाजी का शिकार गुरुद्वारा कमेटी चुनाव

    राजनीतिक दखलंदाजी का शिकार गुरुद्वारा कमेटी चुनाव

    सिख गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी के आम चुनाव में इस बार राजनीतिक दखलंदाजी का बहुत शोर है। चुनाव की तारीख निर्धारित करने से लेकर पंजीकृत धार्मिक पार्टियों को चुनाव चिन्ह देने तक खूब सियासत होती रही है। दिल्ली सरकार के गुरुद्वारा चुनाव मंत्री रजिन्द्र पाल गौतम द्वारा सियासी पार्टियों को

  • ‘राजद्रोह कानून’ पर उच्चतम न्यायालय की अच्छी पहल

    ‘राजद्रोह कानून’ पर उच्चतम न्यायालय की अच्छी पहल

    पिछले कुछ वर्षों से वर्तमान सरकार द्वारा मानवीय अधिकारों की अवहेलना तथा कानूनों के दुरुपयोग विशेषकर यू.ए.पी.ए. तथा राजद्रोह पर उच्चतम न्यायालय आंख मूंदे हुई थी।