Friday, Sep 17, 2021
-->
क्या सरकार ‘पिंजरे के तोते’ को आजाद करेगी

क्या सरकार ‘पिंजरे के तोते’ को आजाद करेगी

ब्लॉग04:59 PM IST August 25, 2021

अन्वेषण ब्यूरो (सी.बी.आई.) के बारे में ऐसा क्या है कि वह हमेशा विवादों में बनी रहती है, जिसके चलते इसे भ्रष्टाचार, सांठ-गांठ और सुविधा का केन्द्रीय ब्यूरो या प्रधानमंत्री द्वारा नियुक्त जांच का षड्यंत्र ब्यूरो के उपनाम दिए गए हैं। 

Share Story
  • बढ़ता जल संकटः एक ओर बाढ़ तो दूसरी ओर सूखा

    बढ़ता जल संकटः एक ओर बाढ़ तो दूसरी ओर सूखा

    देश में जल संकट इतना भयावह हो चुका है कि एक ओर तो देश के अनेक शहरों में सूखा पड़ा हुआ है तो दूसरी ओर कई शहर बाढ़ की चपेट में हैं। इन सबसे आम जन-जीवन अस्त-व्यस्त हो रहा है। चेन्नई देश का पहला ऐसा शहर हो गया है जहां भूजल पूरी तरह से समाप्त हो चुका है।

  • 50 करोड़ टीकाकरण देश के लिए ऐतिहासिक उपलब्धि

    50 करोड़ टीकाकरण देश के लिए ऐतिहासिक उपलब्धि

    7 अगस्त 2021 को भारत ने कोरोना को परास्त करने की दिशा में ऐतिहासिक उपलब्धि हासिल करते हुए 50 करोड़ वैक्सीनेशन का आंकड़ा पार कर लिया। यह दुनिया का सबसे बड़ा और सबसे तेज गति से चलने वाला वैक्सीनेशन प्रोग्राम है।

  • नेता जातीय हांडी से बाहर नहीं निकलना चाहते या ऐसा करने में अक्षम हैं

    नेता जातीय हांडी से बाहर नहीं निकलना चाहते या ऐसा करने में अक्षम हैं

    अमरीकी राष्ट्रपति निक्सन ने अपनी पुस्तक  ‘द रीयल वार’ में लिखा है, ‘‘यह विचार कि हम अपनी स्वतंत्रता को सद्भावना फैलाकर बचा सकते हैं, न केवल बचकाना है, अपितु खतरनाक भी है।’’ उनके इन चेतावनी भरे शब्दों पर हमारे नेतागणों ने कोई ध्यान नहीं दिया है।

  • ममता खुद को एक परिपक्व नेता के तौर पर पेश कर रही हैं

    ममता खुद को एक परिपक्व नेता के तौर पर पेश कर रही हैं

    विपक्षी पार्टियों को एकजुट रखने के एक और प्रयास में पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने गत सप्ताह राजधानी का दौरा किया। उन्होंने सभी सही लोगों से मुलाकात की तथा विपक्षी एकता बनाए रखने के लिए

  • विकास के नाम पर बेतरतीब निर्माण और प्रकृति का रौद्र रूप

    विकास के नाम पर बेतरतीब निर्माण और प्रकृति का रौद्र रूप

    हिमाचल की सांगला वैली में बिटसेरी इलाके में बिना बारिश के अचानक पर्वतों के टूटने से जो भूस्खलन हुआ, उसने एक बार फिर हमारी विनाशलीला को रेखांकित किया। इस हादसे में 9 निर्दोष पर्यटक मारे गए और नदी के आर-पार जाने वाला पुल भी टूट कर बह गया।

  • देश को उद्योग प्रधान बनाए बिना आर्थिक विकास संभव नहीं

    देश को उद्योग प्रधान बनाए बिना आर्थिक विकास संभव नहीं

    खेतीबाड़ी के मामले में अपने को कृषि प्रधान कहते हुए देशवासी इतने भावुक हो जाते हैं कि धरती को मां और किसान को अन्नदाता कहते नहीं थकते। अब यह बात और है कि जमीन जब बंजर, सूखाग्रस्त और रेतीली हो जाती है तो उसका इलाज कर खेती के काबिल बनाने की बजाय

  • केंद्र सरकार अंतर्राज्यीय विवादों में हस्तक्षेप करे

    केंद्र सरकार अंतर्राज्यीय विवादों में हस्तक्षेप करे

    शासन से भारत को आजादी प्राप्त किए हुए लगभग 75 वर्ष हो चुके हैं। मगर हम अभी भी इसकी विरासत तथा इसके द्वारा उलझाए गए विवादों को भुगत रहे हैं। संवेदनशील मुद्दों को लटकाने की सरकारों की प्रवृत्ति रही है। विवादों के किसी भी समाधान से सरकारें बचना चाहती हैं। 

  • कर्नाटक में येद्दियुरप्पा को नजरअंदाज नहीं कर सकती भाजपा

    कर्नाटक में येद्दियुरप्पा को नजरअंदाज नहीं कर सकती भाजपा

    जुलाई कर्नाटक के मुख्यमंत्री येद्दियुरप्पा के राज्य में शासन की दूसरी वर्षगांठ थी लेकिन किसी समारोह का आयोजन करने की बजाय यह उनके द्वारा इस्तीफा देने की घोषणा के बाद एक भावुक विदाई भाषण के लिए अवसर में बदल गई। राज्य में बी.एस.वाई. के तौर पर जाने जाते

  • कारगिल युद्ध ने दुनिया को पाकिस्तान का असली चेहरा दिखा दिया

    कारगिल युद्ध ने दुनिया को पाकिस्तान का असली चेहरा दिखा दिया

    मार्च 1999 को पाकिस्तान सेना के जनरल परवेज मुशर्रफ और आई.एस.आई. चीफ इकतार अहमद भट्ट ने इस समझौते को नकार कर भारत के कारगिल जिले में घुसपैठ कर ‘ऑपरेशन बद्र’ आरंभ किया।

  • राजनीतिक दखलंदाजी का शिकार गुरुद्वारा कमेटी चुनाव

    राजनीतिक दखलंदाजी का शिकार गुरुद्वारा कमेटी चुनाव

    सिख गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी के आम चुनाव में इस बार राजनीतिक दखलंदाजी का बहुत शोर है। चुनाव की तारीख निर्धारित करने से लेकर पंजीकृत धार्मिक पार्टियों को चुनाव चिन्ह देने तक खूब सियासत होती रही है। दिल्ली सरकार के गुरुद्वारा चुनाव मंत्री रजिन्द्र पाल गौतम द्वारा सियासी पार्टियों को

  • ‘राजद्रोह कानून’ पर उच्चतम न्यायालय की अच्छी पहल

    ‘राजद्रोह कानून’ पर उच्चतम न्यायालय की अच्छी पहल

    पिछले कुछ वर्षों से वर्तमान सरकार द्वारा मानवीय अधिकारों की अवहेलना तथा कानूनों के दुरुपयोग विशेषकर यू.ए.पी.ए. तथा राजद्रोह पर उच्चतम न्यायालय आंख मूंदे हुई थी।

  • संसद में कार्य न हो, यह विश्व के सबसे बड़े लोकतंत्र को शोभा नहीं देता

    संसद में कार्य न हो, यह विश्व के सबसे बड़े लोकतंत्र को शोभा नहीं देता

    मानसून की झमाझम वर्षा ने पूरे देश को तर कर दिया है किंतु वहीं दूसरी ओर संसद के 19 दिवसीय मानसून सत्र के पहले दिन प्रधानमंत्री मोदी अपने मंत्रिपरिषद के सहयोगियों का परिचय सदन से नहीं करवा पाए क्योंकि दोनों सदनों में विपक्ष ने शोर- शराबा किया,

  • जनसंख्या वृद्धि नियंत्रित करने के लिए अधिक सकारात्मक कदमों की जरूरत

    जनसंख्या वृद्धि नियंत्रित करने के लिए अधिक सकारात्मक कदमों की जरूरत

    भारत में जनसंख्या वृद्धि को नियंत्रित करने को लेकर जोरदार बहस चल रही है। संसद के मानसून सत्र से पहले भाजपा शासित तीन राज्यों उत्तर प्रदेश, असम तथा कर्नाटक ने प्रोत्साहनों तथा प्रोत्साहन न देने के नियमों के साथ दो बच्चों की नीति लाने का इरादा दर्शाया है।

  • चीन को उल्टा पड़ने लगा भारत के खिलाफ पाकिस्तान पर लगाया दांव

    चीन को उल्टा पड़ने लगा भारत के खिलाफ पाकिस्तान पर लगाया दांव

    पाकिस्तान के उत्तरी इलाके में हुए एक बम धमाके में 13 लोगों की मौत हो गई, जिनमें में 9 चीनी नागरिक थे। यह धमाका एक बस में हुआ था। इस बस में कुल 40 इंजीनियर सवार थे, जिनमें 30 चीनी इंजीनियर भी शामिल थे। यह बस इन सभी इंजीनियरों को लेकर खैबर पख्तूनख्वा के ऊपरी कोहिस्तान जा रही थी

  • क्या मोदी जी को लगता है कि जातिवाद खत्म हो गया

    क्या मोदी जी को लगता है कि जातिवाद खत्म हो गया

    प्रशासन की वैस्टमिंस्टर प्रणाली में एक प्रधानमंत्री के पास अपनी मंत्रिपरिषद चुनने के पूर्ण अधिकार होते हैं। वह एक या अधिक मंत्रियों को जब जरूरी चाहे हटा भी सकता है तथा जब आवश्यक समझे एक या अधिक मंत्रियों को उसमें शामिल भी कर सकता है।

  • समान नागरिक संहिताः क्या केवल कागजों पर बनी रहेगी

    समान नागरिक संहिताः क्या केवल कागजों पर बनी रहेगी

    हिन्दुत्व ब्रिगेड के लिए हमेशा से एक नर पिशाच और राजनीतिक अस्पृश्य बना रहा है जो कांग्रेस का प्रिय शब्द रहा है जिसके चलते राम और रहीम चुनावी मुद्दे बन गए हैं। दिल्ली उच्च न्यायालय द्वारा विवादास्पद एक समान नागरिक संहिता पर बल देने से इन बातों को पीछे छोडऩा होगा।