Friday, Oct 07, 2022
-->
जानें, किन मुद्दों पर हुई बात! जब RSS प्रमुख से मिले 5 मुस्लिम बुद्धिजीवी

जानें, किन मुद्दों पर हुई बात! जब RSS प्रमुख से मिले 5 मुस्लिम बुद्धिजीवी

ब्लॉग11:57 AM IST September 27, 2022

बीते वीरवार जब मुस्लिम समुदाय के पांच सदस्य आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत से मिले तो मीडिया ने इसके अपने- अपने मतलब निकाले। इनमें दिल्ली के पूर्व एलजी नजीब जंग, पत्रकार शाहिद सिद्दकी, होटलीयर सईद शेरवानी तथा लेफ्टिनेंट जनरल जमीर उद्दीन शाह तथा यह लेखक शामिल थे।

Share Story
  • PM मोदी ने अपनी मां के जन्मदिन पर उन्हें सर्मिपत ब्लॉग लिखा

    PM मोदी ने अपनी मां के जन्मदिन पर उन्हें सर्मिपत ब्लॉग लिखा

    प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शनिवार को अपनी मां के 100वें जन्मदिन के अवसर उन्हें सर्मिपत एक ब्लॉग लिखा। इस ब्लॉग में उन्होंने अपनी मां के बलिदानों और जीवन के ऐसे पहलुओं का जिक्र किया, जिन्होंने उनके (मोदी के) आत्म- विश्वास, मन एवं व्यक्तित्व को ‘आकार’ दिया।

  • सिर्फ डिजिटल- डिजिटल मत कीजिए, डिजिटल मीडिया को ढंग से समझिए

    सिर्फ डिजिटल- डिजिटल मत कीजिए, डिजिटल मीडिया को ढंग से समझिए

    आज की आधुनिक डिजिटल पत्रकारिता काफी हद तक डेस्क रिपोर्टिंग पर केंद्रित है। कहना तो नहीं चाहिए, लेकिन कई धुरंधर पत्रकार भी डेस्क से ही अपनी बीट मैनेज कर लेते हैं। फोन पर आपको केवल वही सुनने को मिलेगा जो सुनाया जा रहा है

  • बाबा साहेब डॉ. अंबेडकरः भारतीय संदर्भ में सामाजिक, राजनीतिक और आर्थिक लोकतंत्र

    बाबा साहेब डॉ. अंबेडकरः भारतीय संदर्भ में सामाजिक, राजनीतिक और आर्थिक लोकतंत्र

    जब हम देश में सामाजिक और राजनीतिक सुधार के क्रम को देखते हैं तो इनमें कई ऐसे नाम सामने आते हैं, जिन्हें कई संदर्भों में रूपांतरित कर हमारे सामने प्रस्तुत किया गया। उन्हीं नामों में से एक नाम है भारतीय संविधान के जनक बाबा साहेब डॉ भीमराव रामजी अंबेडकर।

  • जयंती विशेषः दूरदर्शिता से प्रगति पथ पर ले जाने वाले बाबा साहब डा. भीम राव अम्बेडकर

    जयंती विशेषः दूरदर्शिता से प्रगति पथ पर ले जाने वाले बाबा साहब डा. भीम राव अम्बेडकर

     हम अमृतकाल की उस दहलीज पर हैं जिसकी संपूर्ण शताब्दी पूरी होने में 25 वर्ष का समय है और उस समय राष्ट्र स्वतंत्रता के शताब्दी वर्ष में प्रवेश करेगा। मौजूदा अमृत महोत्सव राष्ट्र की विकास गति की एक रूप-रेखा प्रस्तुत करता है। हमारे पूर्वजों ने इस संबंध में अपनी स्पष्ट दूरदृष्टि प्रस्तुत की थी, जिसके फलस

  • JNU हिंसाः रामनवमी उत्सव से बौखलाए वामपंथी बना रहे नॉनवेज का बहाना

    JNU हिंसाः रामनवमी उत्सव से बौखलाए वामपंथी बना रहे नॉनवेज का बहाना

    स वर्ष रामनवमी के दिन JNU कैंपस के होस्टल में हर वर्ष की भांति ही पूजा का आयोजन किया गया। और पूजा में विध्न डालने के नियत से तैयार वामपंथी छात्र संगठन के विद्यार्थियों ने अड़चन शुरू की जिसके कारण 3 बजे शुरू होने वाली पूजा शाम 5 बजे शुरू हो सकी। बाहर पवित्र पूजा और मेस के अंदर पाक रमजान का इफ्तार शांत

  • नोएडा प्राधिकरण की बोर्ड बैठक में 4,880 करोड रुपए का बजट पास

    नोएडा प्राधिकरण की बोर्ड बैठक में 4,880 करोड रुपए का बजट पास

    नई दिल्ली, टीम डिजीटल/ नोएडा विकास प्राधिकरण ने वित्तीय वर्ष 2022-2& का बजट सोमवार को हुई प्राधिकरण की बोर्ड बैठक में पास कर दिया है। इस बजट में चार माह तक शहर के 81 गांवों के किसानों के प्राधिकरण पर दिए गए धरने के दौरान की गई मांगों में से सात मांगे भी पूरी कर किसानों को भी खुश करने का प्रयास किया

  • दक्षिण भारत में मतांतरण का हिंसक षड्यंत्र, जिम्मेदार कौन?

    दक्षिण भारत में मतांतरण का हिंसक षड्यंत्र, जिम्मेदार कौन?

    लावण्या आज हमारे बीच तो नहीं है लेकिन उसके ये शब्द समाज की उस वास्तविकता को दर्शाते हैं। जिसमें न जाने कितनी लावण्या मतांतरण की बलि चढ़ जा रही हैं। हाल फिलहाल में तमिलनाडु के तंजावुर जिले में मिशनरियों द्वारा मतांतरण का प्रयास करने की घटना सामने आई है।

  • PM मोदी ने अपने भाषण में विपक्ष और विपक्षी नेताओं पर चुटकी ली

    PM मोदी ने अपने भाषण में विपक्ष और विपक्षी नेताओं पर चुटकी ली

    राष्ट्रपति के अभिभाषण पर धन्यवाद प्रस्ताव पर लोकसभा में चर्चा पर दिये अपने 100 मिनट के जवाब में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने विपक्षी दलों और विपक्ष के नेताओं अधीर रंजन चौधरी और सौगत राय पर चुटकी ली।

  • बड़े साहस वाला है मोदी सरकार का बजट 2022! जानें खूबियां

    बड़े साहस वाला है मोदी सरकार का बजट 2022! जानें खूबियां

    प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी सरकार का नए बजट को बड़े साहस वाला क्यों कहेंगे? इसकी वजह यह है कि हालात ‘एक तो करेला, ऊपर से नीम चढ़े’ जैसे हैं। लेकिन फिर भी वित्तमंत्री ने बहादुरी का नजारा पेश किया है। जो लोग अर्थव्यवस्था को समझते हैं,

  • Budget 2022: क्या है PM गति शक्ति योजना, जानें विस्तार से 

    Budget 2022: क्या है PM गति शक्ति योजना, जानें विस्तार से 

    भारत सरकार ने बजट 2022-23 में विभिन्न मंत्रालयों से जुड़े ढ़ांचागत विकास परियोजनाओं के लिए 107 लाख करोड़ रुपये खर्च करने का ऐलान किया है। पीएम गति शक्ति परियोजना की मदद से देश के बुनियादी ढांचे को एक नया रूप दिया जाएगा।

  • लोगों के हित में है बजट : सतीश उपाध्याय

    लोगों के हित में है बजट : सतीश उपाध्याय

    नई दिल्ली नगरपालिका परिषद (एनडीएमसी) के उपाध्यक्ष सतीश उपाध्याय ने बजट को सकारात्मक बताते हुए लोगों के हित वाला बताया है। इसके लिए उन्होंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी व वित्तमंत्री निर्मला सीतारमण को बधाई भी दी। 

  • आंदोलन खत्मः किसानों को मिला एकता का उपहार

    आंदोलन खत्मः किसानों को मिला एकता का उपहार

    आखिरकार किसान आंदोलन खत्म हो गया। एक  साल से ज्यादा समय तक चले आंदोलन के दौरान कई तरह की परिस्थितियां पैदा हुईं और यह सवाल सबसे बड़ा है कि आखिर किसानों को मिला क्या? आजादी के बाद के सबसे बड़े आंदोलनों में से एक इस किसान आंदोलन की उपलब्धियां क्या हैं?

  • PM मोदी के फैसले ने साबित किया कि वे जनता की राय पर ध्यान देते हैं - कैप्टन अमरिंदर सिंह

    PM मोदी के फैसले ने साबित किया कि वे जनता की राय पर ध्यान देते हैं - कैप्टन अमरिंदर सिंह

    इस वर्ष श्री गुरु नानक देव जी का प्रकाश पर्व, प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की इस घोषणा के साथ और भी विशिष्ट हो गया कि तीन कृषि कानूनों को निरस्त कर दिया जाएगा तथा करतारपुर साहिब कॉरिडोर को फिर से खोल दिया जाएगा। कोई भी राष्ट्रवादी, कोई भी व्यक्ति जो हमारे किसान और कृषि क्षेत्र के कल्याण के बारे में सो

  • G20 शिखर सम्मेलनः ग्लोबल मिनिमम टैक्स और वैश्विक शासन में सुधार

    G20 शिखर सम्मेलनः ग्लोबल मिनिमम टैक्स और वैश्विक शासन में सुधार

    अंतरराष्ट्रीय संबंधों में बदलाव के लिए संभावनाओं और विमर्श के लिए एक महत्वपूर्ण मंच G- 20 का है। जी- ट्वेन्टी एक अंतरसरकारी फोरम जिसमें 19 देश और यूरोपीय संघ शामिल हैं जहां वैश्विक अर्थव्यवस्था से संबंधित प्रमुख मुद्दों को हल करने के लिए विभिन्न गतिविधियां संचालित करी जाती है।

  • विश्व के सबसे बड़े टीकाकरण अभियान से देश और मजबूत होकर उभरा

    विश्व के सबसे बड़े टीकाकरण अभियान से देश और मजबूत होकर उभरा

    भारत ने टीकाकरण की शुरूआत के मात्र 9 महीनों बाद ही 21 अक्तूबर, 2021 को टीके की 100 करोड़ खुराक का लक्ष्य हासिल कर लिया है। कोविड -19 से मुकाबला करने में यह यात्रा अद्भुत रही है, विशेषकर जब हम याद करते हैं कि 2020 की शुरुआत में परिस्थितियां कैसी थीं।

  • स्वच्छता व शहरी विकास के ऐतिहासिक 20 वर्ष

    स्वच्छता व शहरी विकास के ऐतिहासिक 20 वर्ष

    राष्ट्र के इतिहास में 20 वर्ष एक छोटी अवधि होती है लेकिन किसी व्यक्ति के लिए यह छोटा कालखंड राष्ट्र के विकास में एक मजबूत आधारशिला रखने के लिए पर्याप्त होता है। यह बात अन्य कार्यक्रमों की तुलना में ऐतिहासिक स्वच्छता अभियान में स्पष्ट रूप से दिखाई पड़ती है।