Tuesday, Dec 07, 2021
-->
bihar politics divided over deputy chief minister aljwnt

उपमुख्यमंत्री को लेकर बंट गई बिहार की राजनीति

  • Updated on 11/16/2020

नीतीश कुमार (Nitish Kumar) बिहार (Bihar) के 7वीं बार मुख्यमंत्री बनेंगे। उन्होंने पहले से ही 14 वर्षों तक अपने कार्यालय में बैठ कर राज्य की सेवा की है। मगर सुशील कुमार मोदी को लेकर अभी भी संशय बरकरार है। वहीं राज्य के उपमुख्यमंत्री के पद को लेकर बिहार की राजनीति बंट गई है। एक तरफ नीतीश फिर से सुशील कुमार मोदी को राज्य का उपमुख्यमंत्री देखना चाहते हैं और इस बात को लेकर वह अड़े हुए हैं। मगर भाजपा किसी दूसरे को उपमुख्यमंत्री देखना चाहती है।

दूसरी ओर जद (यू.) की सभी अटकलों को विराम देते हुए नव-निर्वाचित भाजपा विधायक दल की बैठक में तार किशोर प्रसाद को विधायक दल का नेता चुन लिया गया है तथा रेणु देवी को डिप्टी नेता चुना गया। इस मौके पर केंद्रीय रक्षामंत्री राजनाथ सिंह महाराष्ट्र के पूर्व मुख्यमंत्री देवेन्द्र फड़णवीस तथा बिहार के महासचिव प्रभारी भूपेन्द्र यादव के अलावा केंद्रीय पर्यवेक्षकों के साथ उपस्थित थे।

क्या मोदी मंत्रिमंडल में हरसिमरत एक मूक सदस्य थीं

ऐसी अटकलें भी हैं कि सुशील मोदी को केंद्रीय कैबिनेट में शामिल किया जा सकता है। भाजपा सूत्रों के अनुसार तार किशोर प्रसाद बिहार के नए उपमुख्यमंत्री होंगे। इसके अलावा राज्य में एक और उपमुख्यमंत्री रेणु देवी या फिर कामेश्वर चौपाल में से कोई एक हो सकता है।

हालांकि बिहार के ज्यादातर भाजपा नेताओं का मानना था कि नीतीश कुमार को अब केंद्र में भेज देना चाहिए और भाजपा नेता को ही राज्य का मुख्यमंत्री बनाना चाहिए। इसी समय जद (यू) के नेता चाहते हैं कि केंद्रीय कैबिनेट में अपने पिता के स्थान पर चिराग पासवान को नहीं लेना चाहिए।

‘क्या पाकिस्तान कश्मीर चाहता है या नहीं’

बिहार चुनाव में जे.पी. नड्डा की महत्वपूर्ण उपलब्धि
बिहार चुनावों में राजग सबसे शक्तिशाली बनकर उभरी है और भाजपा ने अपना प्रभाव दिखाया है। यही कारण है कि इसे एक उत्सव मनाने की तरह  माना जा रहा है। इस वर्ष के शुरू में अमित शाह से पार्टी प्रमुख का चार्ज लेने के बाद से जे.पी. नड्डा के लिए यह पहली सबसे बड़ी उपलब्धि है।

पार्टी के मुख्यालय की तरफ से नड्डा एक खुले वाहन में गए तथा उनके ऊपर गुलाब की पखुंड़ियों का छिड़काव किया गया। यहां तक कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने खुद भी नड्डा के नेतृत्व की प्रशंसा की। मोदी ने नड्डा के लिए एक नारा भी बोला, ‘‘नड्डा जी आप आगे बढ़ो हम आपके साथ हैं।’’ भाजपा के गलियारे में हुई कानाफूसी यह सुझाती है कि मोदी से ज्यादा अमित शाह का  नड्डा के लिए आशीर्वाद अधिक है। शाम को मोदी के भाषण से पहले शाह नड्डा के निवास पर उन्हें बिहार में पार्टी की सफलता को लेकर बधाई देने गए।

‘बुजुर्गों की आवाज’ क्यों वृद्धाश्रमों में कैद होने लगी

यू.पी. भाजपा ने उप चुनाव तो जीता मगर चिंतित
हालांकि भाजपा ने उत्तर प्रदेश की 7 सीटों में से 6 सीटों पर उप चुनावों में विजय हासिल की है मगर पार्टी का  वोट शेयर 36.73 प्रतिशत ही रहा और पार्टी के लिए 2022 के विधानसभा चुनावों के लिए यह एक चिंता का विषय है। पार्टी के लिए यह और भी चिंता वाली बात हो जाएगी यदि सभी पार्टियां बिहार की तरह भाजपा के खिलाफ एकजुट हो जाएंगी। सबसे ज्यादा महत्वपूर्ण मुद्दा इस बात का है कि अक्तूबर में भीम आर्मी प्रमुख चंद्रशेखर की आजाद समाज पार्टी के पंजीकरण के बाद पार्टी ने बुलंदशहर उप चुनावों के लिए अपना उम्मीदवार खड़ा किया।

‘सत्ता तो आती-जाती, मगर जिंदगियां नहीं’

केरल के माकपा सचिव ने दिया इस्तीफा
भाजपा तथा कांग्रेस द्वारा शोर मचाने के बाद सत्ताधारी माकपा के पार्टी सचिव कोडियारी बालाकृष्णन ने अपने पद से स्वास्थ्य कारणों के चलते इस्तीफा दे दिया है मगर उनके बेटे विनीश कोडियारी के बेंगलुरू में एक ड्रग मामले के संबंध में गिरफ्तारी के बाद बालाकृष्णन पर भाजपा तथा कांग्रेस से दबाव था। अब बालाकृष्णन की जगह विजयराघवन उनका स्थान लेंगे। माकपा के अनुसार बालाकृष्णन के लिए उनके बेटे की 29 अक्तूबर को गिरफ्तारी के बाद पार्टी के लिए मुश्किल हो गया था।

-राहिल नोरा चोपड़ा

डिस्क्लेमर (अस्वीकरण) : इस आलेख (ब्लाग) में व्यक्त किए गए विचार लेखक के निजी विचार हैं। इसमें सभी सूचनाएं ज्यों की त्यों प्रस्तुत की गई हैं। इसमें दी गई कोई भी सूचना अथवा तथ्य अथवा व्यक्त किए गए विचार पंजाब केसरी समूह के नहीं हैं, तथा पंजाब केसरी समूह उनके लिए किसी भी प्रकार से उत्तरदायी नहीं है।

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.