Thursday, Feb 27, 2020
save your soul blog writing

अपनी ‘आत्मा’ को बचाकर रखें

  • Updated on 2/14/2020

यहां पर ऐसे कई लोग हैं जो अपनी आत्मा, विचार, ईमानदारी तथा अपने विश्वास को तरफदारी पाने के लिए बेच देते हैं। यह बात मुझे प्रसिद्ध डाक्टर फास्टस की याद दिलाती है, जो अपनी आत्मा को शैतान के हाथों में बेच देता है। डा. फास्टस एक स्कॉलर के तौर पर अपने जीवन से निराश तथा बोर हो चुके थे। अपनी जान गंवाने के प्रयास के बाद वह शैतान को और ज्यादा ज्ञान तथा शक्तियां देने के लिए कहता है, जिसके चलते उसे दुनिया का सारा ज्ञान तथा सुख-सुविधाएं मिल सकें। इसके बदले में शैतान डा. फास्टस के साथ मोल-भाव करता है। वह फास्टस को कुछ जादुई शक्तियां कुछ वर्षों के लिए देने को तैयार होता है। मगर अवधि के अंत पर शैतान फास्टस की आत्मा लेने का दावा करता है। उसके बाद फास्टस सदा के लिए उसका गुलाम बन जाएगा।

यह सुनने में बेहद सनसनीखेज लगता है मगर हममें से बहुत से लोग ऐसा ही करते हैं। मैंने ऐसे कई सीधे-सादे ईमानदार पुरुष तथा स्त्रियां देखी हैं जो अचानक एक बेईमान व्यक्ति का समर्थन करते हैं। मैं भी एक बार चकित रह गया जब मैंने एक बेईमान व्यक्ति को एक स्कूल में दाखिला करवाते हुए देखा। उसके उपरांत मैंने पाया कि उस व्यक्ति ने कितना बड़ा धोखा किया। मैंने उससे पूछा कि उसने यह सब कैसे किया। उसकी पत्नी ने कहा कि वह स्कूल के दाखिले के द्वारा इतना मोहित हो गया कि वह सब कुछ भुला बैठा। ऐसे लोगों से बच कर रहें जो तरफदारी करवाने के लिए आपकी आत्मा लेना चाहते हैं। आप केवल उनका आभार प्रकट करें मगर अपनी आत्मा कभी न बेचें।

आप अपनी आत्मा कैसे नहीं बेच सकते। आप उन लोगों की तरफदारी मंजूर न करें, जो आपको ऐसा करने के लिए कहते हैं। यहां पर कुछ लोग शैतान जैसे हैं जो आपकी आत्मा खरीदना चाहते हैं। कई बार आपके पास एक ऐसा शैतान होता है जो कई आत्माओं को खरीदता है और उसके माध्यम से वह कई अनियमितताओं को नियंत्रित करता है। आपके पास दो विकल्प होते हैं या तो आप उसकी तरफदारी को मंजूर न करें या फिर शुरूआत में ही यह स्पष्ट कर दें कि आपकी आत्मा बिकाऊ नहीं। आप आभारी होंगे मगर सही और गलत को लेकर कोई समझौता नहीं करेंगे। ऐसा करने से आप आखिर में सभी 
लोगों से सम्मान प्राप्त करेंगे। यह किसी एक व्यक्ति की बात नहीं बल्कि राजनीतिक पाॢटयों की भी है। साम्प्रदायिकता की राजनीति कुछ भी नहीं मगर धर्म के नाम पर आप किसी की आत्मा खरीदें और उसके बाद उसकी हत्या कर दें, यह बात ठीक नहीं। डा. फास्टस न बनें, ऐसे व्यक्ति बनें जो अपनी आत्मा को अपने लिए और ईश्वर के लिए बचाकर रखता हो। 

- राबर्ट क्लीमैंट्स

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.