Wednesday, Nov 25, 2020

Live Updates: Unlock 6- Day 25

Last Updated: Wed Nov 25 2020 09:25 PM

corona virus

Total Cases

9,250,836

Recovered

8,667,226

Deaths

135,093

  • INDIA9,250,836
  • MAHARASTRA1,795,959
  • ANDHRA PRADESH1,648,665
  • KARNATAKA871,342
  • TAMIL NADU768,340
  • KERALA578,364
  • NEW DELHI545,787
  • UTTAR PRADESH531,050
  • WEST BENGAL526,780
  • ARUNACHAL PRADESH325,396
  • ODISHA315,271
  • TELANGANA263,526
  • RAJASTHAN240,676
  • BIHAR230,247
  • CHHATTISGARH221,688
  • HARYANA215,021
  • ASSAM211,427
  • GUJARAT201,949
  • MADHYA PRADESH188,018
  • CHANDIGARH183,588
  • PUNJAB145,667
  • JHARKHAND104,940
  • JAMMU & KASHMIR104,715
  • UTTARAKHAND70,790
  • GOA45,389
  • PUDUCHERRY36,000
  • HIMACHAL PRADESH33,700
  • TRIPURA32,412
  • MANIPUR23,018
  • MEGHALAYA11,269
  • NAGALAND10,674
  • LADAKH7,866
  • SIKKIM4,691
  • ANDAMAN AND NICOBAR ISLANDS4,631
  • MIZORAM3,647
  • DADRA AND NAGAR HAVELI3,312
  • DAMAN AND DIU1,381
Central Helpline Number for CoronaVirus:+91-11-23978046 | Helpline Email Id: ncov2019 @gov.in, ncov219 @gmail.com
women are victims of online violence aljwnt

‘ऑनलाइन हिंसा’ का शिकार होती हैं महिलाएं

  • Updated on 10/10/2020

इस आधुनिक युग में भी महिलाओं को पुरुषों के बराबर हक एवं सम्मान देने का केवल दावा किया जाता है, किंतु वास्तविकता इससे बिल्कुल अलग है। संयुक्त राष्ट्र की एक नई रिपोर्ट के अनुसार पूरी दुनिया की लगभग 35 प्रतिशत महिलाएं किसी न किसी प्रकार की हिंसा का शिकार हो रही हैं। किंतु सोशल मीडिया (Social Media) पर दुनिया की 60 प्रतिशत महिलाओं के साथ ऑनलाइन हिंसा होती है। अब महिलाओं को केवल अंधेरी सुनसान सड़कों में गुजरने से ही डर नहीं लगता, बल्कि उन्हें सोशल मीडिया से भी उतना ही डर लगता है। यह हिंसा भले ही शारीरिक न हो, किंतु मानसिक रूप से वह महिलाओं को उतना ही उत्पीड़ित करती है। 

प्लेनेट इंटरनैशनल संस्था की एक नई रिपोर्ट के अनुसार दुनिया की 60 प्रतिशत महिलाएं सोशल मीडिया पर किसी न किसी प्रकार की हिंसा का सामना करती हैं। इसी कारण 20 प्रतिशत महिलाओं को अपना सोशल मीडिया अकाउंट बंद कर देना पड़ता है। कोई महिला जब सोशल मीडिया पर पोस्ट करती है,या अपनी तस्वीरें डालती है, तो कई बार उसे मजबूर होकर अपनी पोस्ट और तस्वीरें हटानी पड़ती हैं। इसीलिए ज्यादातर महिलाएं अपने सोशल मीडिया अकाऊंट को प्राइवेट कर देती हैं। 

कृषि सुधार का निर्णय, मोदी सरकार का ऐतिहासिक कदम

भारत समेत 22 देशों की चौदह हजार से ज्यादा महिलाओं के बीच एक सर्वे किया गया। इस सर्वे में शामिल महिलाओं की उम्र 15 से 25 वर्ष के बीच थी। इस सर्वे के मुताबिक 39 प्रतिशत महिलाओं के साथ ऑनलाइन हिंसा की घटनाएं फेसबुक पर, 23 प्रतिशत घटनाएं इंस्टाग्राम पर और 14 प्रतिशत घटनाएं व्हाट्सएप पर होती हैं। यानी पहले नंबर पर फेसबुक, दूसरे नंबर पर इंस्टाग्राम और तीसरे नंबर पर व्हाट्सएप है। जबकि स्नैपचैट पर 10 प्रतिशत, ट्विटर पर 9 प्रतिशत और टिक टॉक पर 6 प्रतिशत  ऑनलाइन हिंसा महिलाओं को झेलनी पड़ती है। सोशल मीडिया का कोई भी प्लेटफार्म महिलाओं के लिए सुरक्षित नहीं है। 

इसी वर्ष दिल्ली और आसपास के शहरों में किए गए एक सर्वे के अनुसार, इंटरनैट पर महिलाओं के साथ होने वाली ऑनलाइन हिंसा के मामले 36 प्रतिशत तक बढ़ गए हैं। जबकि ऑनलाइन हिंसा के मामले में सजा की दर 40 प्रतिशत से घटकर 25 प्रतिशत रह गई है। यानी अगर सौ पुरुष सोशल मीडिया पर ऑनलाइन हिंसा करते हैं तो उनमें से केवल 25 को ही सजा होगी और वह भी जब उन सौ पुरुषों के खिलाफ मुकद्दमा होगा। जबकि महिला के साथ रेप के मामलों में सजा की दर 27 प्रतिशत है। यानी ऑनलाइन हिंसा का शिकार होने वाली महिलाओं की स्थिति, असल जिंदगी में हिंसा का शिकार होने वाली महिलाओं से भी बदतर है। यह स्थिति बहुत ही चिंताजनक है। 

‘सितारों के आगे जहां और भी हैं’

वर्चुअल प्लेटफार्म पर होने वाली हिंसा भी असल जिंदगी में होने वाली हिंसा जैसी ही खतरनाक होती है। इसी ऑनलाइन हिंसा और छेडख़ानी के कारण फेसबुक पर 74 प्रतिशत महिलाओं को किसी न किसी को ब्लॉक करना पड़ता है। इंस्टाग्राम पर भी पुरुषों की अपेक्षा महिलाओं के सामने ब्लॉक करने की स्थिति अधिक उत्पन्न होती है। सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म का मकसद वैसे तो एक दूसरे से संपर्क स्थापित करना और अपने विचारों को एक दूसरे तक पहुंचाना है। किंतु अब सोशल मीडिया की छेडख़ानी और ऑनलाइन हिंसा की वजह से महिलाएं पुरुषों की अपेक्षा अपने सोशल मीडिया अकाऊंट को प्राइवेट रखना अधिक पसंद करती हैं क्योंकि प्राइवेट रखने में ही उनकी भलाई है। 

महिलाओं के प्रति असुरक्षा और भेदभाव की जो स्थिति हमारे असली समाज में है, वही स्थिति अब सोशल मीडिया की इस आभासी दुनिया में भी दिखाई दे रही है। कुल मिलाकर महिलाओं के साथ ईव टीजिंग (महिलाओं से छेड़छाड़) जैसी घटनाएं अब केवल घर के बाहर ही नहीं होतीं, बल्कि सोशल मीडिया पर भी महिलाओं को उसी प्रकार सताया जाता है। यह वर्चुअल दुनिया भी भेदभाव से परे नहीं है। सोशल मीडिया पर होने वाला यह भेदभाव यहीं तक सीमित नहीं है।

-रंजना मिश्रा

डिस्क्लेमर (अस्वीकरण) : इस आलेख (ब्लाग) में व्यक्त किए गए विचार लेखक के निजी विचार हैं। इसमें सभी सूचनाएं ज्यों की त्यों प्रस्तुत की गई हैं। इसमें दी गई कोई भी सूचना अथवा तथ्य अथवा व्यक्त किए गए विचार पंजाब केसरी समूह के नहीं हैं, तथा पंजाब केसरी समूह उनके लिए किसी भी प्रकार से उत्तरदायी नहीं है।

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.