Thursday, Jan 17, 2019

लेफ्ट ही बना राइट, लगातार चौथी बार डीटीएफ ने किया DUTA अध्यक्ष पद पर कब्जा

  • Updated on 9/2/2017

Navodayatimesनई दिल्ली/ब्यूरो। डूटा चुनावों व उसके माहौल को जानने वाले विशेषज्ञों की राय एक बार फिर सही साबित हुई और कड़े मुकाबले के बीच एकबार फिर लेफ्ट ने डूटा की कुर्सी पर कब्जा जमा लिया। चुनाव में एनडीटीएफ की जीत के लिए संघ अंत तक सक्रिय रहा मगर सभी को धता बताते हुए लेफ्ट के अध्यक्ष पद प्रत्याशी राजीव रे ने जीत का स्वाद चखा।

NGT नियम उल्लंघन पर DU सख्त, 36 घंटे में पोस्टर और बैनर हटाने के निर्देश

मालूम हो कि डूटा चुनावों के लिए कुल वोट 9200 है जिसमें से इस साल 7200 शिक्षकों द्वारा वोट डाले गए थे। लेफ्ट समर्थित शिक्षक संघ डीटीएफ के अध्यक्ष पद प्रत्याशी राजीव रे को कुल 2636 वोट प्राप्त हुए। उन्होंने अपने निकटतम प्रतिद्वंदी एनडीटीएफ के वीएस नेगी को 261 वोटों से हराकर अध्यक्ष पद पर कब्जा कर लिया है।

भाजपा समर्थित शिक्षक संघ एनडीटीएफ के प्रत्याशी वीएस नेगी को कुल 2375 वोट प्राप्त हुए, उन्होंने राजीव रे को काफी कड़ी टक्कर दी। वहीं कांग्रेस समर्थित शिक्षक संघ एएडी जिसे एससी, एसटी टीचर्स फोरम का समर्थन प्राप्त था, उससे सुरेन्द्र सिंह राणा मैदान में थे। सुरेन्द्र सिंह राणा व राजीव रे में सीधी टक्कर का अनुमान लगाया जा रहा था, लेकिन सुरेन्द्र सिंह राणा को 1930 वोटों से ही संतोष करना पड़ा। वहीं बीटीएफ के प्रत्याशी चौथेे नंबर पर रहे जिन्हें मात्र 48 वोटों से ही संतोष करना पड़ा।

UGC का सभी विश्वविद्यालयों को आदेश, डिजिटल लेन-देन का भेजें डेटा

लेफ्ट की लगातार चौथी जीत
साल 2011 में डॉ. अमरदेव शर्मा ने डीटीएफ से अध्यक्ष पद जीतकर लेफ्ट को डूटा में काबिज किया था। उसके बाद साल 2013 से 2017 तक लगातार दो बार डीटीएफ की नंदिता नारायण अध्यक्ष रहीं। इस बार डीटीएफ के राजीव रे ने लेफ्ट की सत्ता को बचाते हुए अध्यक्ष पद पर अपनी पकड़ बना ली। पिछले चार चुनावों से लेफ्ट डूटा के अध्यक्ष पद को जीतती आई है।

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.