Tuesday, Oct 26, 2021
-->
25-crore-cheated-from-more-than-100-women-on-the-pretext-of-marriage

शादी का झांसा देकर 100  से ज्यादा महिलाओं से 25 करोड़ ठगे 

  • Updated on 10/13/2021

शादी का झांसा देकर 100  से ज्यादा महिलाओं से 25 करोड़ ठगे 
ठगी का रैकेट चलाने वाले दो नाइजीरियन व तीन भरतीय गिरफ्तार

 

नई दिल्ली, टीम डिजिटल। शाहदरा जिले की साइबर सेल टीम ने मैट्रिमोनियल साइट पर फर्जी प्रोफाइल के जरिए शादी का झांसा देकर ठगी की वारदात को अंजाम देने वाले दो नाइजीरियाई नागरिकों समेत तीन भरतीय मूल के आरोपियों को गिरफ्तार किया है।  पकड़े गए नाइजीरियन में लॉरेंस चीक नायलुओ और आयोटुंडे ओकुनाडे हैं। आरोपियों ने देश के अलग.अलग राज्यों में 100 से अधिक अविवाहित और विधवा महिलाओं से करीब 25 करोड़ रुपये की ठगी को अंजाम दिया है।  

पुलिस ने दिल्ली, छतरपुर में रहने वाला आरोपी दीपक दीक्षित 10 फीसदी कमीशन पर ठगी कई रकम को स्वाइप मशीन से ट्रांसफर करने में मदद करता था। पुलिस तीनों आरोपियों से पूछताछ कर मामले की जांच कर रही है। पुलिस ने आरोपियों से छह डेबिट कार्ड, पांच स्वाइप मशीन, तीन मोबाइल फोन और एक लैपटॉप बरामद किए हैं।
शाहदरा के डीसीपी आर सत्य सुंदरम ने बताया कि जगतपुरी की रहने वाली एक युवती ने 15 लाख रुपये ठगी की शिकायत दी थी। उसने बताया था कि शादी के लिए एक मैट्रीमोनियल साइट पर रजिस्ट्रेशन कर रखा है। 
 

लोन लेकर व गहने बेच कर दिये पैसे
कुछ समय पहले साइट पर एक युवक से संपर्क हुआ। उसने खुद को यूनाइटेड किंगडम का नागरिक और पेशे से डॉक्टर बताया। दोनों ने व्हाट्सएप पर बातचीत शुरू की। उसने शादी का झांस दिया। इसके बाद एयरपोर्ट पर फंसे होने का झांसा देकर युवती से 15 लाख रुपये ट्रांसफर करा लिए। पीड़िता ने रुपये भेजने के लिए लोन लिए और गहने भी गिरवी रख दिए थे। 
जगतपुरी थाने में केस दर्ज कर मामले की जांच शुरू की गई। एसीपी ऑपरेशन मनोज पंतए इंस्पेक्टर विकास कुमार की देखरेख में साइबर सेल के एसआई राहुल, हेड कांसटेबल दीपक, कांस्टेबल विकास, कांस्टेबल राजदीप व महिला कांस्टेबल दीपशिखा की टीम का गठन किया गया।
 

देश के कई शहरों में मिले 35 बैंक खाते 
पुलिस ने की जांच में खुलासा हुआ कि आरोपियों ने करीब 35 बैंक खातों में रुपये ट्रांसफर किए हैं। ये बैंक खाते पश्चिम बंगाल के कोलकत्ता, दक्षिण परगना और भुवनेश्वर, नागालैंड व कर्नाटक में हैं। सभी बैंक खाते भारतीय नागरिकों के नाम पर खोले गए थे। 
 

बैंक खातों के जरिये आरोंपियों तक पहुंचे
पुलिस मोबाइल नंबर और ट्रांसफर किए गए बैंक खातों की मदद से आरोपियों तक पहुंच गई। पुलिस ने दिल्ली के वसंत विहार में रहने वाले 30 वर्षीय लॉरेंस चीक नायलुओ और 34 वर्षीय आयोटुंडे ओकुनाडे को गिरफ्तार कर लिया। 
इनसे पूछताछ के बाद पुलिस ने 10 फीसदी कमीशन पर इनके रुपये ट्रांसफर करने वाले आरोपी 29 वर्षीय दीपक दीक्षित को छतरपुर से गिरफ्तार किया। दीपक स्वाइप मशीन बेचने की दुकान चलाता है। 
 

मेट्रिमोनियल पर दिखाते थे हाई प्रोफाइल स्टेट्स
पूछताछ के दौरान आरोपियों ने पुलिस को बताया कि मैट्रीमोनियल साइट पर वह यूनाइटेड किंगडम समेत अन्य देशों के नागरिकों के फोटो से प्रोफाइल बनाते थे। खुद को डॉक्टर, इंजीनियर व बड़ा बिजनेसमैन बताते थे। जिससे युवतियां व महिलाएं उनकी और आकृषित हो जाती थीं। 
 

सीरिया व अफगानिस्तान में कार्यरत होने की बात कहते थे
गिरोह के लोग भारत में रहने वाली अविवाहित और विधवा महिलाओं से संपर्क कर उन्हें शादी का झांसा देते थे। इसके बाद गिफ्ट भेजकर एयरपोर्ट पर पकड़े जाने के बहाने ठगी करते थे। खुद के मुसीबत में फंसे होने की बात कह पैसा मांगते थे। इन रुपये को भारतीय खातों में ट्रांसफर कराते थे। फिर स्वाइप मशीन से नाइजीरिया भेज देते थे।

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.