Friday, May 27, 2022
-->
28-lakh-cash-recovered-used-to-sell-fake-gold-ashes-2-accused-arrested-for-cheating-goldsmith

28 लाख कैश बरामद : बेचते थे सोने की नकली राख, सुनार से ठगी में 2 शतिर गिरफ्तार

  • Updated on 1/21/2022

नई दिल्ली/टीम डिजीटल। उत्तर प्रदेश विधान सभा चुनाव के मद्देनजर सतर्क पुलिस ने 2 शातिर बदमाशों को गिरफ्तार किया है। दोनों काफी माहिर ठग हैं। भोपाल में सुनार को 28 लाख रुपए में सोने (गोल्ड) की असली राख के बदले नकली राख बेचकर वह गाजियाबाद भाग आए थे। 

25 आधार कार्ड, मोबाइल व सिम बरामद
आरोपियों के कब्जे से 5 फर्जी आधार कार्ड, 10 मोबाइल, 10 सिम कार्ड व 28 लाख रुपए के अलावा एक पुड़िया सोने जैसी राख बरामद हुई है। एक आरोपी पूर्व में नोएडा से जेल भी जा चुका है। घंटाघर कोतवाली पुलिस ने हापुड़ रोड तिराहा पर चैकिंग के दरम्यान 2 संदिग्धों को पूछताछ के लिए रोका था। पूछताछ में पता चला कि दोनों शातिर किस्म के ठग हैं। 

भोपाल में किया था कारनामा
गिरफ्तार आरोपियों की पहचान फजलुर रहमान पुत्र मौ. शरीफ निवासी मौहल्ला फूलगढ़ हापुड़ और रहीसुद्दीन पुत्र बुंदू खान निवासी मौहल्ला तेलियान मुरादनगर गाजियाबाद के रूप में हुई। दोनों के कब्जे से 5 फर्जी आधार कार्ड, 10 मोबाइल, 10 सिम कार्ड और 28 लाख रुपए बरामद किए गए हैं। फजलुर रहमान ने पुलिस को बताया कि वह भोपाल गया था। वहां सुनार विशाल के साथ सोने की राख का सौदा किया गया। 

सैंपल असली, माल नकली
सुनार को सैंपल के रूप में असली राख दिखाई गई। बाद में नकली राख थमाकर रकम ठग ली थी। आभूषण विक्रेता को 11-12 किलो सोने की नकली राख (डस्ट) थमाकर भोपाल से रफूचक्कर हो गए थे। उधर, पुलिस अधीक्षक (नगर) निपुण अग्रवाल ने बताया कि आरोपियों ने अलग-अलग नाम से फर्जी आधार कार्ड बनवा रखे हैं। 

नोएडा से भी जा चुका जेल
इन कार्ड के जरिए सिम कार्ड खरीद कर मोबाइल का प्रयोग करते रहे हैं। फर्जी सिम का इस्तेमाल अपराध करने में होता है। आरोपियों से पुलिस को 2 गोल्डन कलर जैसी गिट्टी भी मिली हैं। आरोपी फजलुर रहमान पूर्व में थाना सेक्टर-20 नोएडा से एक मामले में जेल भी जा चुका है। आरोपियों के अपराधिक इतिहास की और जानकारी जुटाई जा रही है।

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.