Saturday, Jul 24, 2021
-->
300 bengali speaking women involved in delhi violence sohsnt

दिल्ली हिंसाः चार्जशीट में बड़ा खुलासा, पथराव में शामिल थीं बांग्ला बोलने वाली 300 महिलाएं

  • Updated on 11/24/2020

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। दिल्ली हिंसा (Delhi Violence) मामले की जांच में आए दिन बड़े और चौंका देने वाले खुलासे हो रहे हैं। ऐसे में अब दिल्ली पुलिस (Delhi Police) की स्पेशल सेल ने उमर खालिद और शरजील इमाम के खिलाफ UAPA के तहत दाखिल चार्जशीट में दिल्ली हिंसा में बंगाली बोलने वाली करीब 300 महिलाओं के शामिल किए जाने की बात कही गई थी। इसके साथ ही चार्जशीट में कहा गया है कि इन महिलाओं को अलग-अलग एंटी-सीएए प्रदर्शन साइट पर बुलाया गया था।

न्यायालय ने दंगों से संबंधित मामले में आरोपी को जमानत के खिलाफ दिल्ली पुलिस की अपील खारिज की 

पथराव में शामिल थीं बंगाली बोलने वाली महिलाएं
इसके साथ ही चार्जशीट में बताया दावा किया गया है कि इन बंगाली महीलाओं को बसों में बिठाकर जाफराबाद लाया गया था। इसके बाद महिलाओं को बसों में बिठाकर शाहीन बाग में प्रदर्शन स्थल पर ले जाया गया था। इन महिलाओं को लगातार हो रहे प्रदर्शनों में शामिल किया गया, साथ ही इनके खाने पीने की भी व्यवस्था की गई थी। चार्जशीट में कहा गया है कि इन बंगाली महिलाओँ में से ज्यादातर महिलाओं ने बुर्खा पहन रखा था और ये प्रद्रर्शन के दौरान हुए पथराव में भी शामिल थीं।

हाई कोर्ट ने सजा के खिलाफ सेंगर की अपील पर जवाब के लिए सीबीआई को दी मोहलत

उमर खालिद ने रचि बड़े दंगे की साजिश
दिल्ली पुलिस की चार्जशीट में दावा किया गया है कि इन बंगाली बोलने बाली महिलाओं को पूरी प्लानिंग के तहत दिल्ली लाया गया था। इन महिलाओं को बुलाने से लेकर कब किस प्रदर्शन में शामिल करना है ये पुरी प्लानिंग उमर खालिद ने की थी। दिल्ली हिंसा में उमर खालिद का नाम एक बड़े मास्टरमाइंट के तौर पर निकल कर सामने आया है।  

2जी स्पेक्ट्रम घोटाला : हाई कोर्ट ने ए. राजा और अन्य की याचिकाएं खारिज कीं

विश्व स्तर पर प्रचार करने की थी प्लानिंग
इसके साथ ही दिल्ली पुलिस ने अदालत में दाखिल आरोपपत्र में कहा कि जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय (JNU) के पूर्व छात्र नेता उमर खालिद ने इस साल फरवरी में अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप की यात्रा के दौरान दिल्ली दंगों को हवा देने की साजिश रची थी, ताकि भारत में अल्पसंख्यकों पर अत्याचार का विश्व स्तर पर प्रचार हो सके।  

सवैतनिक माहवारी अवकाश को लेकर कोर्ट का केजरीवाल-मोदी सरकार को निर्देश

सूत्रों के अनुसार खालिद, इमाम और एक अन्य आरोपी फैजान खान के खिलाफ कठोर गैर-कानूनी गतिविधियां (निवारण) अधिनियम की संबंधित धाराओं के तहत दर्ज इस मामले में अतिरिक्त सत्र न्यायाधीश अमिताभ रावत के समक्ष आरोप पत्र दाखिल किया। उनपर, दंगे, गैर-कानूनी तरीके से एकत्रित होने, आपराधिक साजिश, हत्या, धर्म, भाषा, जाति इत्यादि के आधार पर शत्रुता को बढ़ावा देने और भारतीय दंड संहिता की अन्य धाराओं के तहत आरोप लगाए गए हैं। 

राहुल गांधी ने कोरोना वैक्सीन, पीएम केयर्स फंड को लेकर पीएम मोदी पर दागे 4 सवाल

इन अपराधों के तहत अधिकतम मृत्युदंड की सजा दी जा सकती है। 930 पन्नों का यह पूरक आरोपपत्र यूएपीए की धारा 13 (गैर-कानूनी गतिविधियां), 16 (आतंकवादी गतिविधि), 17 (आतंकवादी गतिविधि के लिये धन जुटाना) और 18 (षडय़ंत्र) के तहत दायर किया गया है। खालिद और इमाम फिलहाल इस मामले में न्यायिक हिरासत में हैं। खान को दिल्ली उच्च न्यायालय से जमानत मिल चुकी है। 

comments

.
.
.
.
.