Sunday, Nov 27, 2022
-->
5 arrested in Mohali blast case, police said nexus between Babbar Khalsa ISI

मोहाली विस्फोट मामले में 5 गिरफ्तार, पुलिस ने कहा- बब्बर खालसा, ISI के बीच साठगांठ

  • Updated on 5/13/2022

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। पंजाब पुलिस ने अपने मोहाली कार्यालय में आरपीजी हमले के सिलसिले में पांच लोगों को गिरफ्तार किया है। पुलिस ने इस मामले में आतंकवादी संगठन बब्बर खालसा इंटरनेशनल (बीकेआई) एवं पाकिस्तान की खुफिया एजेंसी इंटर-र्सिवसेज इंटेलीजेंस (आईएसआई) की सांठगांठ की ओर इशारा किया है। पुलिस महानिदेशक वी के भावरा ने शुक्रवार को यहां कहा कि छठा आरोपी एक अन्य मामले में पुलिस हिरासत में है। सोमवार को एक दुस्साहसिक हमले में, मोहाली के सेक्टर 77 स्थित राज्य पुलिस के खुफिया विंग मुख्यालय पर एक रॉकेट से संचालित ग्रेनेड दागा गया।

केजरीवाल ने भाजपा शासित MCD के अतिक्रमण रोधी अभियान पर AAP विधायकों की बुलाई बैठक

  •  

उन्होंने कहा कि घटना के पीछे की साजिश का पता लगा लिया गया है और पाकिस्तान की आईएसआई के इशारे पर आतंकवादी संगठन बब्बर खालसा इंटरनेशनल और गैंगस्टरों के बीच सांठगांठ का मामला सामने आया है। डीजीपी ने एक संवाददाता सम्मेलन में कहा, ‘‘यह घटना पाकिस्तान की आईएसआई के इशारे पर बीकेआई-गैंगस्टर के बीच सांठगांठ का परिणाम है।’’ डीजीपी ने कहा, ‘‘इस मामले में सभी जरूरी सामग्रियों का प्रबंध करने वाला प्रमुख साजिशकर्ता तरनतारन निवासी लखबीर सिंह है, जो पहले एक गैंगस्टर हुआ करता था और 2017 में कनाडा चला गया था।' उन्होंने कहा, ‘‘लखबीर सिंह गैंगस्टर से आतंकवादी बने हरविंदर सिंह रिंडा का करीबी सहयोगी है, जो पाकिस्तान से अपनी गतिविधियां चलाता है।’’    

परिसीमन आयोग के खिलाफ याचिका पर केंद्र, निर्वाचन आयोग से जवाब तलब

  भवरा ने कहा कि इस हमले के लिए जिम्मेदार सभी आरोपियों की पहचान कर ली गयी है। उन्होंने कहा, ‘‘साजिश क्या थी, किसने किसके इशारे पर कहां से हमले किये, किसने आश्रय, साजो-सामान और हथियार मुहैया कराये, सभी चीजें अब स्पष्ट हो गयी हैं। डीजीपी ने कहा कि गिरफ्तार आरोपियों में कंवर बाथ, बलजिन्दर कौर, बलजिन्दर सिंह उर्फ रैम्बो, निशांतदीप सिंह और जयदीप कांग शामिल है। इन लोगों ने घटना को अंजाम देने वाले आरोपियों को आश्रय, साजो-सामान और हथियार मुहैया कराये थे। उन्होंने कहा कि रॉकेट चालित ग्रेनेड (आरपीजी) दागने में शामिल तीन लोगों को अभी भी गिरफ्तार नहीं किया जा सका है। इनमें से एक तरनतारन निवासी चरथ सिंह है।   

अवमानना मामले में सुप्रीम कोर्ट ने नोएडा की CEO के खिलाफ जारी वारंट पर रोक की अवधि बढ़ाई

 डीजीपी ने कहा कि इस मामले का एक आरोपी निशान सिंह पहले से ही किसी अन्य मामले में फरीदकोट पुलिस की हिरासत में है। उन्होंने कहा कि इस मामले में भी उसे गिरफ्तार किया जाएगा। तरनतारन निवासी निशान सिंह कई आपराधिक मामलों का सामना कर रहा है, जिसमें से एक हत्या के प्रयास से संबंधित है और दूसरा स्वापक औषधि एवं मन:प्रभावी पदार्थ (एनडीपीएस) अधिनियम के तहत है। डीजीपी ने कहा कि निशान सिंह ने हमले को अंजाम देने वाले आरोपियों को शरण दी। उन्होंने ब्योरा देते हुए कहा, ‘‘इसके अलावा, कंवर बाथ और बलजीत कौर निशान सिंह के संपर्क सूत्र हैं।’’      उन्होंने कहा, ‘‘हमलावरों ने लांडा द्वारा उपलब्ध कराए गए स्थान से आरपीजी प्राप्त किया था। रेम्बो ने निशान सिंह के बताए अनुसार एके-47 बरामद की। फिर रैम्बो ने उसे चरथ सिंह को सौंप दिया।’’   

रुपये की गिरावट से आयात हुआ महंगा, बढ़ सकते हैं टीवी, फ्रिज, एसी के दाम 

  उन्होंने कहा कि सात मई से वे अमृतसर-तरनतारन इलाके से चले गए और नौ मई को मोहाली में घटना हुई।     उन्होंने कहा, ‘‘मोहाली में उनका स्थानीय संपर्क जगदीप कांग था। उन्होंने स्थानीय साजो-सामान की सहायता प्रदान की। चरथ सिंह और जगदीप सिंह कांग ने नौ मई को दिन के समय क्षेत्र का दौरा किया।’’ डीजीपी ने कहा, ‘‘आखिरकार, चरथ सिंह और बाहर से आए दो और लोगों ने घटना को अंजाम दिया।’’ उन्होंने कहा, ‘‘इसके अलावा, नोएडा से पूछताछ के लिए लाये गए दो लोगों में मोहम्मद नसीम आलम और मोहम्मद शराफ राज हैं। वे मूल रूप से बिहार के रहने वाले हैं। हमने उन्हें अभी तक गिरफ्तार नहीं किया है और उनसे पूछताछ की जा रही है।’’

सोनिया गांधी ने पीएम मोदी की शासन प्रणाली पर साधा निशाना 

    इससे पहले, पुलिस सूत्रों ने कहा था कि पाकिस्तान स्थित रिंडा देश-विरोधी गतिविधियों को अंजाम देने के लिए स्थानीय गैंगस्टर की मदद ले रहा है।’’  उसका नाम तब सामने आया जब हाल ही में हरियाणा के करनाल में पाकिस्तान से जुड़े चार संदिग्ध आतंकवादियों की गिरफ्तारी के साथ एक आतंकी साजिश को नाकाम कर दिया गया। पिछले महीने नवांशहर में अपराध जांच एजेंसी (सीआईए) के कार्यालय पर हथगोले से हुए हमले में भी रिंडा की संलिप्तता का पता चला था। 

ताजमहल मसला : याचिकाकर्ता को हाई कोर्ट ने लगाई फटकार, याचिका भी खारिज

comments

.
.
.
.
.