9-children-bonded-laborers-rescued-from-slaughter-houses-of-delhi

दिल्ली के बूचड़खानो से छुड़ाए गए 9 बाल बंधुआ मजदूर

  • Updated on 5/19/2019

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। देश की राजधानी दिल्ली में 2 बूचड़खानो से नौ बच्चों को छुड़ाया गया जिनमें 7 लड़कियां और 2 लड़के शामिल है। यहां बच्चों से बंधुआ मजदूरी का कार्य करवाया जा रहा था। राष्ट्रीय बाल अधिकार संरक्षण आयोग ने दिल्ली पुलिस के सहयोग से इस बचाव अभियान को बृहस्पतिवार को अंजाम दिया गया।

राष्ट्रीय बाल अधिकार संरक्षण आयोग के एक अधिकारी ने जानकारी देते हुए बताया कि दिल्ली पुलिस के सहयोग से यह बचाव अभियान बुधवार को किया गया था। साथ ही उन्होंने कहा कि बच्चों को बाल कल्याण समिति के समक्ष पेश किया गया जहां से उन्हें बच्चों का ध्यान रखने वाले एक NGO में भेज दिया गया है। अधिकारी ने कहा है कि, ‘बूचडख़ाना निगरानी समिति ने पशुचिकित्सा सेवा के निदेशक डॉक्टर रवींद्र शर्मा की अगुवाई में बृहस्पतिवार को निरीक्षण किया है। इन इकाइयों को बिना लाइसेंस के काम करते पाया गया और ये बेहद दयनीय स्थिति में मिलीं है।’

Image result for बाल मजदूर

वहीं एक अन्य अधिकारी ने जानकारी देते हुए कहा, इन कारखानों में 300 से अधिक कसाइयों के बीच काफी बच्चे भी काम करते पाए गए हैं। नौ नाबालिग बच्चों को वहां से छुड़ाया गया।

यह बच्चे वहां गंदगी भरी स्थिति में तथा बेहद खतरनाक माहौल में बंधुआ मजदूर की तरह काम कर रहे थे।’

Image result for बाल मजदूर

जानकारी के अनुसार इन बूचडख़ानों के पास कामगारों का कोई रिकार्ड उपलब्ध नहीं था जबकी इस तरह के बूचडख़ानों के लिये हर कमागार का चिकित्सकीय रिकार्ड रखना तथा उन्हें प्रशिक्षित करना अनिवार्य है। पुलिस ने भी मामले के बारे में कहा कि इस बचाव अभियान के लिये जवान भेजे गये। हालांकि अभी तक इस मामले में कोई गिरफ्तारी नहीं हुई है। 
 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

comments

.
.
.
.
.