Thursday, Aug 06, 2020

Live Updates: Unlock 3- Day 5

Last Updated: Wed Aug 05 2020 10:27 PM

corona virus

Total Cases

1,959,731

Recovered

1,324,958

Deaths

40,732

  • INDIA7,843,243
  • MAHARASTRA468,265
  • TAMIL NADU273,460
  • ANDHRA PRADESH186,461
  • KARNATAKA151,449
  • NEW DELHI140,232
  • UTTAR PRADESH104,388
  • WEST BENGAL83,800
  • TELANGANA70,958
  • GUJARAT66,777
  • BIHAR64,732
  • ASSAM48,162
  • RAJASTHAN47,845
  • ODISHA39,018
  • HARYANA37,796
  • MADHYA PRADESH35,082
  • KERALA27,956
  • JAMMU & KASHMIR22,396
  • PUNJAB18,527
  • JHARKHAND14,070
  • CHHATTISGARH10,202
  • UTTARAKHAND7,800
  • GOA7,075
  • TRIPURA5,643
  • PUDUCHERRY3,982
  • MANIPUR3,018
  • HIMACHAL PRADESH2,879
  • NAGALAND2,405
  • ARUNACHAL PRADESH1,790
  • LADAKH1,534
  • DADRA AND NAGAR HAVELI1,327
  • CHANDIGARH1,206
  • MEGHALAYA937
  • ANDAMAN AND NICOBAR ISLANDS928
  • DAMAN AND DIU694
  • SIKKIM688
  • MIZORAM505
Central Helpline Number for CoronaVirus:+91-11-23978046 | Helpline Email Id: ncov2019 @gov.in, ncov219 @gmail.com
94 percent child labor working in unauthorized colony delhi said ngo

दिल्ली: NGO ने मुक्त कराए बाल मजदूर, 94 प्रतिशत अवैध फैक्ट्रियों में करते थे काम

  • Updated on 12/11/2019

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। नोबेल पुरस्कार (Nobel Prize) विजेता कैलाश सत्यार्थी (Kailash Satyarthi) के एनजीओ द्वारा मुक्त कराए गए लगभग 94 प्रतिशत बाल मजदूर (Child Labor) दिल्ली (Delhi) के रिहायशी इलाकों में चल रहीं अवैध फैक्ट्रियों में काम करते थे। एनजीओ ने अनाज मंडी (Anaj mandi) अग्निकांड में 43 प्रवासी मजदूरों की मौत के दो दिन बाद मंगलवार को यह जानकारी दी गई। 

‘बचपन बचाओ आंदोलन’ ने दिल्ली के रिहायशी इलाकों में 2005 से चल रही अवैध वाणिज्यिक इकाइयों में काम कर रहे 8,918 बाल मजदूरों पर अध्ययन किया। शोध के अनुसार अधिकतर बच्चे विकासशील और बड़ी आबादी वाले राज्यों से काम की तलाश में दिल्ली आए। 

अनाज मंडी अग्निकांड: संवेदनहीन प्रशासन! बिना आधार के शव देने से दिल्ली पुलिस का इनकार

22 प्रतिशत बच्चे उत्तर प्रदेश से
शोध में कहा गया है कि लगभग 22 प्रतिशत बच्चे उत्तर प्रदेश से हैं। मुक्त कराए गए बच्चों में आधे से अधिक (54 फीसदी) बिहार के रहने वाले हैं। शोध के अनुसार जिलावार बात करें तो सबसे अधिक (18 प्रतिशत) बच्चे उत्तर-पूर्वी दिल्ली से मुक्त कराए गए। इसके बाद मध्य दिल्ली (16 प्रतिशत), उत्तरी दिल्ली (15 प्रतिशत), दक्षिण पश्चिमी तथा दक्षिणी दिल्ली (4-4 प्रतिशत) और नई दिल्ली से (2 प्रतिशत) का नंबर आता है। 

अनाज मंडी अग्निकांड: CBI जांच की मांग करने वाली याचिका दिल्ली HC में खारिज

ज्यादातर अनधिकृत कॉलोनियों में काम करते हैं बालमजदूर
एनजीओ के प्रवक्ता संपूर्ण बेहुरा ने कहा कि बच्चों को ज्यादातर अनधिकृत कॉलोनियों के खस्ताहाल रिहायशी इलाकों में काम करने के लिए धकेल दिया जाता है, जोकि कि अमानवीय है। बेहुरा ने कहा कि अनाज मंडी काफी हद तक रिहायशी इलाका है, जहां चमड़े के बैग और खिलौनों की पैकिंग की इकाइयां चलती हैं। ऐसे क्षेत्रों का दौरा करने पर आप देखेंगे कि वहां आग लगने या किसी अन्य दुर्घटना की सूरत में सुरक्षित निकासी नहीं है। 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.