Sunday, Oct 17, 2021
-->
action: fire broke out a year and a half ago, officers now scorched by action

एक्शन: आग लगी थी सवा साल पहले कार्रवाई से अब झुलसे अधिकारी

  • Updated on 9/16/2021

नई दिल्ली/टीम डिजीटल। नोएडा प्राधिकरण के प्रशासनिक भवन में आग सवा साल पहले लगी थी लेकिन अब सीईओ की कार्रवाई से कई अधिकारी झुलस गए है। प्राधिकरण दफ्तर में लगी आग के मामले में चार अधिकारियों-कर्मचारियों को प्रतिकूल प्रविष्ट और दो को चेतावनी दी गई है। एक साल के अंदर प्राधिकरण कार्यालय में दो बार आग लगी थी जबकि इस समय भी बीते सालों में हुए कामकाज की सीएजी जांच कर रही है। ऐसे में दो बार आग लगने पर रिकॉर्ड जलाने, अधिकारियों को बचाने समेत कई तरह की चर्चाएं हुई थी। प्राधिकरण के उच्च अधिकारियों को भी शक की निगाह  देखा जा रहा था। 

मालूम हो कि सेक्टर-6 स्थित नोएडा प्राधिकरण कार्यालय के लेखा विभाग व औद्योगिक विभाग में 25 मई 2020 की सुबह करीब पौने नौ बजे आग लग गई थी। आग लगने से सैकड़ों फाइलें जल गई थीं और पूरा आफिस का ढांचा पूरी तरह जलकर खराब हो गया था। आगजनी के बाद इस मामले में सीईओ रितु माहेश्वरी ने अधिकारियों की छह सदस्यीय समिति गठित कर दी थी। जांच समिति की रिपोर्ट के बाद चिह्नित किए गए अधिकारियों पर कार्रवाई करनी शुरू कर दी गई है।

बुधवार को इस मामले में औद्योगिक, ग्रुप हाउसिंग व लेखा विभाग के दो वरिष्ठ सहायक व दो लेखाकार को प्रतिकूल प्रविष्टि जारी की गई है जबकि दो अधिकारियों को चेतावनी जारी की गई है। कार्रवाई के अलावा आगे से आगजनी की घटना न हो, इसके लिए व्यवस्था में बदलाव किया जा रहा है। बताया जा रहा है कि लेखा विभाग में अगले दिन छुट्टी होने के बावजूद संपत्तियों से जुड़े विभागों की फाइलें वहां रखी हुई थीं। इसके अलावा सफाई कर्मचारी लाइट को जलता छोड़ गए थे।

सवा साल बाद हुई कार्रवाई से दंडित अधिकारी भी हैरान परेशान है। आग की लपटे उस वक्त उनका कुछ नहीं कर सकी थी लेकिन अब सवा साल बाद कार्रवाई ने जरूर उन्हें झुलसा दिया है। एक सफाई कर्मी की लापरवाही ने कई अधिकारियों की चरित्र पंजिका खराब कर दी।  प्राधिकरण के अधिकारियों का कहना है कि जो फाइलें जली थीं, उनसे संबंधित रिकॉर्ड को कंप्यूटर पर अपडेट कर लिया गया था। आवंटियों से जुड़े सभी रिकॉर्ड पूरी तरह से सुरक्षित हैं।

 

वर्ष 2019 में भी प्राधिकरण कार्यालय में लगी थी आग
नोएडा प्राधिकरण के सेक्टर-6 स्थित कार्यालय में वर्ष 2019 में भी आग लगी थी। वर्क सर्किल-10 और नोएडा ट्रैफिक सेल के दफ्तर में आग लगने से पूरा ऑफिस जल गया था। इसमें भी काफी फाइलें खराब हो गई थीं। एक साल के अंदर ही वर्ष 2021 में प्राधिकरण कार्यालय में आगजनी की दूसरी घटना हुई थी।


 

comments

.
.
.
.
.