Monday, Jun 27, 2022
-->
after-the-encounter-the-miscreants-shot-the-soldier-then-the-police-shot-him-and-caught

फिल्मी अंदाज में रात भर चली बदमाशों से मुठभेड़, तीन बदमाशों के पैर में तो सिपाही के सिर में लगी गोली

  • Updated on 5/21/2022

नई दिल्ली/संजीव शर्मा। लोनी बॉर्डर थानाक्षेत्र में शुक्रवार की रात फिल्मी अंदाज में गौ तस्करों और पुलिस के बीच जमकर फायरिंग हुई। कभी पुलिस ने बदमाशों को निशाना बनाया तो कभी बदमाश पुलिस के सिपाही को गोली मारकर भागने में कामयाब हो गए। पहली मुठभेड़ में पुलिस ने गौ तस्करों के सरगना को गोली मारकर पकड़ा तो इस मुठभेड़ के बाद गौ तस्करों ने सिपाही के सिर में गोली मार दी। सिपाही का खून बहता देख पुलिस एक बार फिर बौखला उठी और उसने कॉबिंग कर बदमाशों को ढूंढ निकाला। जिसके बाद पुलिस की दूसरी बार फिर बदमाशों ने मुठभेड़ हुई। इस मुठभेड़ में पुलिस ने सिपाही को गोली मारने वाले दोनों बदमाशों को पैर में गोली मारकर पकड़ लिया। जबकि उनका एक साथी रात के अंधेरे का फायदा उठाकर भाग निकला। पुलिस का कहना है कि रात भर चली मुठभेड़ में जहां सिपाही घायल हुआ है। वहीं, पुलिस ने कुल चार बदमाश पकड़े। जिसमें से तीन के पैरों में गोली लगी हैं। सभी घायलों को उपचार के लिए अस्पताल में भर्ती कराया गया है। 


एसपी ग्रामीण डा. ईरज राजा ने बताया कि रात करीब 12 बजे पुलिस को मुखबिर ने सूचना दी कि गौ तस्कर छोटा हाथी वाहन में गौवंश को लेकर जाने वाले हैं। सूचना के आधार पर थाना पुलिस और एसपी ग्रामीण की एसओजी टीम ने खन्ना नगर के पास मूवी मैजिक रोड पर सघन चेकिंग शुरू कर दी। कुछ देर बाद ही पुलिस को छोटा हाथी वाहन आता दिखाई दिया। पुलिस ने वाहन सवारों को रुकने का इशारा किया तो वह पुलिस टीम पर फायरिंग करते हुए तेज रफ्तार वाहन से भागने लगे। पुलिस ने आत्मरक्षार्थ फायरिंग करते हुए बदमाशों का पीछा किया तो वह वाहन छोडक़र भाग निकले। मुठभेड़ के दौरान एक बदमाश पैर में गोली लगने से घायल होकर गिर पड़ा। जबकि उसके दिव्यांग साथी को भी पुलिस ने पकड़ लिया। अन्य बदमाश रात के अंधेरे का फायदा उठाते हुए भागने में कामयाब हो गए। एसपी ग्रामीण ने बताया कि पकड़े गए बदमाशों की पहचान चंद्रशेखर निवासी दोघट बागपत और गोकुलपुरी दिल्ली निवासी गौरव के रूप में हुई है। चंद्रशेखर गोली लगने से घायल हुआ है। पुलिस का कहना है कि चंद्रशेखर गौ तस्कर गैंग का सरगना है। उसके खिलाफ आधा दर्जन से अधिक मुकदमें दर्ज हैं। बदमाशों के कब्जे छोटा हाथी वाहन में लदे गौवंश, तमंचा, कारतूस और 15 हजार रुपए बरामद किए गए हैं।


मुठभेड़ में बचकर भागे बदमाशों ने मारी दी सिपाही को गोली
एसपी ग्रामीण ईरज राजा ने बताया कि मुठभेड़ के बाद पुलिस टीम का सिपाही राजेश कुमार बरामद छोटा हाथी वाहन में लदे गौवंश को गौशाला में छोडऩे के लिए ले जा रहा था। इसी दौरान मुठभेड़ में बचकर भागे चंद्रशेखर के साथी सिपाही राजेश को गोली मारकर आसपास के झाडिय़ों में जा छिपे। बदमाशों ने सिपाही पर कई राउंड फायरिंग की। जिसमें से एक गोली राजेश के सिर में जा लगी और अन्य गोलियां कान को छूकर निकल गईं। गोली लगने से घायल हुए सिपाही को तुरंत की कौशांबी स्थित यशोदा अस्पताल में भर्ती कराया गया और पुलिस ने झाडिय़ों की घेराबंदी कर बदमाशों की तलाश शुरू कर दी। एसपी ग्रामीण का कहना है कि घायल सिपाही मूलरूप से बुलंदशहर का रहने वाला है और वह लोनी बॉर्डर थाने में तैनात है। मुठभेड़ के दौरान राजेश भी थाना पुलिस टीम का हिस्सा था।


गुस्साई पुलिस ने बदमाशों के दोनों पैरों में मारी गोली
बताया गया है कि सिपाही को गोली लगने से गुस्साई पुलिस ने बदमाशों की तलाश में झाडिय़ों में कॉबिंग शुरू की। इसी दौरान खुद को घिरता देख बदमाशों ने एक बार फिर पुलिस टीम पर फायरिंग कर दी। आत्मरक्षार्थ पुलिस द्वारा की गई फायरिंग में दो बदमाश पैरों में गोली लगने से घायल हो गए। जबकि उनका एक साथी मौके से भागने में कामयाब हो गया। पकड़े गए घायल बदमाशों की पहचान काकू उर्फ लक्की निवासी संगम विहार लोनी और शुभम निवासी भिवानी हरियाणा के रूप में हुई है। आरोपियों का आपराधिक रिकार्ड खंगाला जा रहा है।


वीरवार को छोडक़र हर रोज गौकशी करता था सरगना शेखर
एसएचओ लोनी बॉर्डर सचिन कुमार ने बताया कि गौ तस्कर गैंग का सरगना चंद्रशेखर जाट बागपत के दोघट कस्बे का रहने वाला है। पूछताछ में उसने बताया कि वह वीरवार को छोडक़र रोजाना गौकशी की घटनाओं को अंजाम देता है। गैंग के सदस्य रात के समय में वाहन लेकर सडक़ों पर निकलते हैं और वहां घूमने वाले आवारा गौवंश को पकड़ कर वाहन में लाद लेते हैं। इसके बाद उन्हें दिल्ली और सुनसान जगहों पर ले जाकर काट देते हैं। पुलिस द्वारा चेकिंग में रोके जाने पर वह अपना नाम शेखर बताता था और गौवंश को गौशाला ले जाने की बात कह कर बच जाता था। इसके अलावा पुलिस उसके दिव्यांग चालक साथी गौरव को देखकर भी उनपर गौकशी करने का शक नहीं करती थी। एसएचओ की मानें तो आरोपी ने बताया कि यह बरामद 15 हजार रुपए भी उसने गौमांस बेचकर प्राप्त किए थे। पुलिस आरोपियों के गैंग से जुड़े अन्य तस्करों की तलाश कर रही है।
 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.