Thursday, Apr 09, 2020
after the waiting of one year the mastermind of pulwama attack shakir basheer arrested finally

साल भर के बाद शिकंजे में आया पुलवामा हमले का मास्टरमाइंड शाकिर बशीर

  • Updated on 2/29/2020

नई दिल्ली टीम डिजिटल। एक साल तक सुरागों का पीछा करने के बाद आखिरकार राष्ट्रीय जांच एजेंसी (national investigation agency) ने पुलवामा (pulwamaa) हमले की बिखरी हुई कड़ियों को जोड़ना शुरु कर ही दिया है। सुसाइड बॉम्बर (suicide bomber) आदिल अहमद डार (adil ahmed daar) तक खतरनाक हथियार पहुंचाने वाले शाकिर बशीर (shakir basheer) को NIA ने गिरफ्तार कर लिया। जैश-ए-मोहम्मद (jaish-e-mohammad) के आतंकी शाकिर बशीर ने सुसाइड बॉम्बर डार को पनाह दी थी।

दिल्ली हिंसाः CM केजरीवाल का ऐलान- जिनका घर जला उन्हें कल से मिलेंगे 25 हजार

बशीर ने कबूल किया अपना गुनाह, 15 दिनों की हिरासत में
इस बड़ी सफलता के बारे में जानकारी देते हुए एनआईए ने बताया कि गिरफ्तार बशीर ने पाकिस्तानी आतंकी मोहम्मद उमर और आदिल अहमद डार को साल 2018 के आखिर से फरवरी 2019 तक अपने घर में पनाह देने की बात कबूल कर ली है। बशीर ने ही दोनों की IED बनाने में मदद की थी। फिलहाल उसे आगे की तफ्तीश के लिए उसे 15 दिनों की न्यायिक हिरासत में भेज दिया गया है।

निर्भया: दोषी पवन ने SC में लगाई क्यूरेटिव पेटिशन, फांसी को उम्रकैद में तब्दील करने की मांग की

NIA  पर लगे थे यूसुफ चोपान को रिहा कराने के आरोप
काफी समय से जांज एजेंसी पर पुलवामा हमले के आरोपी  यूसुफ चोपान को भागने देने के आरोप लग रहे थे। इस आरोप पर सफाई देते हुए NIA ने इस खबर से इनकार किया था कि विशेष अदालत ने पुलवामा आतंकवादी हमले के एक आरोपी को जमानत दे दी है। एक बयान में एनआईए ने कहा कि युसूफ चोपान नामक जिस व्यक्ति को जमानत मिली है उसे आतंकवाद की साजिश के एक अन्य मामले में गिरफ्तार किया गया था न कि फरवरी, 2019 के हमला मामले में।

क्या दिल्ली दंगाईयों का शहर है... चारों तरफ यहां जहर ही जहर है?

किसी और मामले में हिरासत में था यूसुफ चोपान
NIA के प्रवक्ता ने कहा कि चोपान को जैश ए मोहम्मद के वरिष्ठ कमांडरों द्वारा दिल्ली-एनसीआर समेत भारत के विभिन्न हिस्सों में आतंकवादी हमला करने के साजिश से जुड़े मामले में गिरफ्तार किया गया था। गौरतलब है कि कांग्रेस आरोपी यूसुफ चोपान की रिहाई के मामले पर तूल देने की कोशिश कर चुकी है। यूसुफ को जमानत को कांग्रेस ने पुलवामा में शहीद हुए सुरक्षाकर्मियों के प्रति अपमान बताते हुए गृहमंत्री अमित शाह से इस्तीफा मांगना शुरु कर दिया था।

दिल्ली हिंसाः मृतकों की संख्या 42 हुई, LG ने किया प्रभावित क्षेत्र का दौरा

जिस रात गगन से खून की बारिश आई थी...
गौरतलब है कि पिछले साल 14 फरवरी को जम्मू-कश्मीर के पुलवामा में CRPF के काफिले पर आत्मघाती आतंकी हमला हुआ था। इस आतंकी हमले में सीआरपीएफ के 40 जवान शहीद हो गए थे। जम्मू-श्रीनगर राष्ट्रीय राजमार्ग पर करीब 2500 जवानों को लेकर 78 बसों में सीआरपीएफ का काफिला गुजर रहा था, तभी सड़क के दूसरे साइड से सामने से आ रही एक कार ने सीआरपीएफ के काफिले के साथ चल रहे वाहन में टक्‍कर मार दी। इस हमले को अंजाम देने वाला आत्मघाती हमलावर आतंकी आदिल अहमद डार था। पुलवामा हमले में आरोपी शाकिर बशीर मागरे ने आत्मघाती हमलावर आदिल अहमद डार को शरण और अन्य सहायता दी थी। आदिल अहमद डार ही वो आतंकी था जो कार में सवार होकर सुरक्षाबल के काफिले में जा घुसा था।

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

comments

.
.
.
.
.