Friday, Dec 09, 2022
-->
after-whom-the-police-of-the-country-was-behind-that-robinhood-was-again-caught-by-the-police

जिसके पीछे पड़ी थी पूरे मुल्क की पुलिस, उस रॉबिन हुड ‘उजाले’ को पुलिस ने फिर पकड़ा

  • Updated on 9/25/2022

नई दिल्ली/संजीव शर्मा। देश के रईसों की आलीशान कोठियों से लाखों-करोड़ों रुपए कैश और जेवरात चुराकर गरीबों में बांटने वाले रॉबिन हुड के नाम से चर्चित चोर इरफान उर्फ उजाले को कविनगर पुलिस ने एक बार फिर गिरफ्तार किया है। जिस चोर के पीछे पूरे मुल्क की पुलिस पड़ी थी उस चर्चित चोर को पुलिस ने इस बार गैंगस्टर एक्ट के तहत गिरफ्तार कर जेल भेजा है। 


एसपी सिटी निपुण अग्रवाल ने बताया कि कविनगर पुलिस ने सीतामढ़ी बिहार निवासी इरफान उर्फ उजाले को गिरफ्तार किया है।  इरफान उर्फ उजाले ने बीते साल उत्तर प्रदेश सरकार के पूर्व राज्यमंत्री अतुल गर्ग की कोठी के पड़ोस रहने वाले लोहा कारोबारी की कोठी से करोड़ों रुपए का कैश और जेवरात चोरी किए थे। इरफान, उसकी पत्नी गुलशन और अन्य साथियों को पकड़ कर पुलिस ने इस बड़ी चोरी का खुलासा किया था। इसके बाद पुलिस ने सभी आरोपियों के खिलाफ गैंगस्टर एक्ट के तहत कार्यवाही की थी। गैंगस्टर एक्ट के मामले में इरफान उर्फ उजाले कई महीनों से फरार चल रहा था। जिसके तहत पुलिस ने शनिवार को उसे गिरफ्तार कर लिया। एसपी सिटी ने बताया कि इरफान देश के ज्यादातर राज्यों यूपी, दिल्ली, मुम्बई, पंजाब, आंध्रप्रदेश, कर्नाटक, केरल, तेलंगाना, बिहार और गोवा आदि में चोरी की बड़ी घटनाओं को अंजाम दे चुका है। कई राज्यों की पुलिस पूर्व में उसे गिरफ्तार भी कर चुकी है। पुलिस का कहना है कि इरफान सिर्फ रईसों की कोठियों को ही अपना निशाना बनाता है। उसके खिलाफ दो दर्जन से अधिक चोरी के मामले देश के विभिन्न राज्यों में दर्ज हैं। 


पत्नी के चुनाव जीतने के बाद नहीं की चोरी की वारदात
एसपी सिटी निपुण अग्रवाल की मानें तो पूछताछ में आरोपी इरफान उर्फ उजाले ने बताया कि बीते साल उसने कविनगर स्थित लोहा कारोबारी की कोठी में चोरी की आखिरी वारदात की थी। इस मामले में कविनगर पुलिस ने उसे और उसकी पत्नी गुलशन परवीन को गिरफ्तार कर जेल भेजा था। जिस वक्त पुलिस ने उन्हें गिरफ्तार किया था, उसवक्त गुलशन परवीन निर्दलीय प्रत्याशी के रूप में सीतामढ़ी बिहार से जिला पंचायत सदस्य का चुनाव लड़ रही थी। जेल में रहने के दौरान ही लोगों ने उन्हें भरपूर वोट देकर चुनाव जिताया। इरफान का दावा है कि पत्नी के चुनाव जीतने के बाद से उसने चोरी की कोई वारदात नहीं की। 


रॉबिनहुड के स्वागत में एयरपोर्ट पहुंचे थे सांसद व विधायक
पुलिस की मानें तो आरोपी उजाले ने पूछताछ में बताया कि जब वह गाजियाबाद की डासना जेल से जमानत पर छूट कर बिहार पहुंचा था तो बिहार के कई सांसद, विधायक और एमएलसी उसका स्वागत करने दरभंगा स्थित एयरपोर्ट पर पहुंचे थे। साथ ही गांव के लोगों ने ढोल नगाड़े बजाकर उसका स्वागत किया था। उजाले का कहना है कि वह देश के अमीरों का माल चुराकर अपने गांव और जिले के गरीबों में बांटता है। जिसके चलते वह और उसका परिवार बिहार में खासा लोकप्रिय है। इतना ही नहीं रात के अंधेरे में रईसों की कोठियों से मोटा माल चोरी कर बिहार के गरीबों के घर रोशन करने वाला उजाले देश की पुलिस के बीच भी काफी लोकप्रिय बताया जाता है।

 
साहब: चोरी से नहीं दुश्मनी से लगता है डर, ठुकराए राजनीति के कई ऑफर

रॉबिन हुड के नाम से मशहूर इरफान उर्फ उजाले ने एसपी सिटी निपुण अग्रवाल को बताया कि वह चोरी की वारदात को अकेले ही अंजाम देता है। हाई सिक्योरिटी जोन की बड़ी से बड़ी कोठी में चोरी करने से उसे डर नहीं लगता। लेकिन दुश्मनी पैदा होने के चलते वह राजनीति में आने से डरता है। उजाले का दावा है कि उसकी लोकप्रियता को देखते हुए बिहार की कई मुख्य राजनीतिक पार्टियों ने उसे चुनाव लडऩे और पार्टी में शामिल होने का ऑफर दिया, लेकिन उसने राजनीति में अपना कदम नहीं बढ़ाया। बताते हैं कि सीतामढ़ी बिहार में उजाले की लोकप्रियता का यह आलम है कि चुनाव के दौरान हर एक पार्टी का प्रत्याशी उसकी मदद लेने उजाले के घर जरूर पहुंचता है। उजाले ने दावा किया कि हाल में बिहार में हुए एमएलसी के चुनाव में उसने भाजपा प्रत्याशी रेखा देवी को सपोर्ट किया था। रेखा देवी चुनाव भी जीत गईं। 


कैंसर पीडि़ता के इलाज में लगाए 19 लाख, गांव को किया रोशन, हर घर लगवाया हैंडपंप
पूछताछ में आरोपी इरफान उर्फ उजाले ने बताया कि रईसों के घर से चोरी किए माल को वह गरीबों की मदद में खर्च करता है। हैदराबाद में एक जनप्रतिनिधि के घर से चोरी किए गए करोड़ों रुपए से उसने पड़ोसी गांव की रहने वाली कैंसर पीडि़त लडक़ी का इलाज कराया था। उसके इलाज में उसने 19 लाख रुपए खर्च किए थे। साथ ही अपने गांव जोगिया गाढ़ा को उसने सोलर लाइट्स से रोशन किया और दो गांवों की सडक़ें बनवाईं। इसके अलावा इरफान ने चोरी के पैसे से अपने गांव में छह हजार हैंडपंप लगवाने का भी दावा किया है। उसने पुलिस से कहा कि बिहार में लोगों की गरीबी ही उसे चोरी करने के लिए मजबूर करती है। वह अब तक करीब 100 करोड़ रुपए से ज्यादा का माल चुरा चुका है, इसके बावजूद उसके पास अपनी दो बेटियों के स्कूल की फीस भरने के पैसे नहीं है। चुराए गए जेवरातों को बेचकर जो रकम मिली वह उसने गरीबों की मदद और अपने व आसपास के गांवों के विकास कार्यों में खर्च कर दी। 


निभाया एसपी सिटी को दिया वादा, यूपी में नहीं की चोरी
इरफान का कहना है कि बीते साल जब गाजियाबाद पुलिस ने उसे चोरी के मामले में गिरफ्तार किया था उसवक्त उसने एसपी सिटी निपुण अग्रवाल से यहां चोरी न करने का वादा किया था। वह आज भी अपने वादे पर कायम है। उजाले ने दावा किया है कि अब वह न सिर्फ गाजियाबाद बल्कि यूपी में चोरी की वारदात नहीं करेगा। इसके पीछे उसका एक अंधविश्वास भी बताया गया है। बताते हैं कि जिस राज्य में रॉबिनहुड एक बार गिरफ्तार हो जाता है उस राज्य में वह दोबारा चोरी की वारदात करने नहीं जाता। वैसे उजाले को महंगी गाडिय़ों में चलना और फाइव स्टार होटलों में रुकना पसंद है। देश के किसी भी कोने में वारदात करने के लिए वह फ्लाइट से ही सफर करता है। 

comments

.
.
.
.
.