Wednesday, Oct 16, 2019
aligarh-girl-child-murder-national-commission-for-protection-of-child-rights-notice-to-up-police

अलीगढ़ : मासूम बच्ची की हत्या में बाल आयोग ने मांगी UP पुलिस से रिपोर्ट

  • Updated on 6/7/2019

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। राष्ट्रीय बाल अधिकार संरक्षण आयोग ने तीन साल की बच्ची की कथित हत्या के मामले में अलीगढ़ के वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक (एसएसपी) से जांच रिपोर्ट मांगी है। इस बच्ची का शव कूड़ेदान में मिला था। आयोग प्रमुख प्रियांक कानूनगो ने एसएसपी आकाश कुलहरि से शुक्रवार को बात की और उनसे जरूरी कार्रवाई करने को कहा।

बच्ची की हत्या : मायावती, अखिलेश ने योगी सरकार को लिया आड़े हाथ

कुलहरि ने आयोग को जानकारी दी कि इस मामले में प्राथमिकी दर्ज की गई है और दो संदिग्धों को गिरफ्तार किया गया है। आयोग ने एसएसपी से तथ्यान्वेषी जांच रिपोर्ट मांगी है। रिपोर्ट मिलने पर, आयोग इस पर गौर करेगा और जिला प्रशासन को उचित निर्देश देगा। अलीगढ़ पुलिस का कहना है कि एक बच्ची का क्षत-विक्षत शव दो जून को एक कूड़ेदान में मिला और आशंका है कि पैसों को लेकर चल रहे विवाद के कारण यह बर्बर हत्या हुई। लड़की 31 मई से लापता थी।

#EVM के खिलाफ जनआंदोलन के पक्ष में कांग्रेस, AAP नेता, बैलट पेपर की मांग

इस मामले में कथित लापरवाही के लिए एक थाना प्रभारी सहित पांच पुलिसकर्मियों को निलंबित किया गया है। कुलहरि ने कहा कि पोस्टमार्टम में पुष्टि हुई है कि लड़की की मौत दम घुटने से हुई और उन्होंने यौन उत्पीडऩ से इंकार किया है। 

एयरफोर्स के लापता एएन-32 विमान के 13 कर्मियों के परिजनों का हुआ बुरा हाल

पुलिस सूत्रों ने कहा कि आरोपियों जाहिद और असलम ने लड़की की हत्या की बात कबूल की है। उनका कहना है कि उन्होंने हत्या इसलिए की क्योंकि बच्ची के पिता ने उनसे उधार लिये 12 हजार रुपये नहीं लौटाए। क्षेत्र में तनाव व्याप्त होने के बाद सुरक्षा कड़ी कर दी गई है। 

अमित शाह की नीति आयोग में एंट्री, पीएम मोदी ने किया आयोग का पुनर्गठन

5 पुलिसकर्मियों पर गिरी गाज
अलीगढ़ जिले के टप्पल थाना क्षेत्र में तीन साल की मासूम बच्ची की नृशंस हत्या के मामले में लापरवाही बरतने के आरोप में थाना प्रभारी सहित 5  पुलिसकर्मियों को निलंबित कर दिया गया है। बच्ची 30 मई को गायब हुई थी, लेकिन मामला 31 मई को दर्ज किया गया। अलीगढ़ के वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक आकाश कुलहरि ने बताया कि पुलिस क्षेत्राधिकारी पंकज श्रीवास्तव द्वारा की गयी जांच के आधार पर गुरुवार को निलंबन की कार्रवाई की गयी। 

ममता बनर्जी से मिले प्रशांत किशोर, तो क्या निकालेंगे भाजपा को तोड़?

उन्होंने बताया कि मामले की आगे जांच के लिए पुलिस अधीक्षक ग्रामीण एवं एक महिला इंस्पेक्टर सहित छह सदस्यीय विशेष जांच टीम :एसआईटी: बनायी गयी है। लखनऊ में अपर पुलिस महानिदेशक :कानून व्यवस्था: आनंद कुमार ने बताया कि बच्ची का शव उसकी मौत के 72 घंटे बाद पोस्टमार्टम के लिए भेजा गया। कुलहरि ने बच्ची के पिता बनवारी लाल शर्मा से मुलाकात कर उन्हें समझाया कि वह आमरण अनशन न करें । शर्मा ने आमरण अनशन की धमकी दी थी।  

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

comments

.
.
.
.
.