Wednesday, Dec 08, 2021
-->
allahabad-high-court-could-not-hear-in-hathras-rape-murder-case-rkdsnt

हाथरस बलात्कार-हत्या मामले में नहीं हो सकी इलाहाबाद हाई कोर्ट सुनवाई

  • Updated on 1/27/2021

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। हाथरस सामूहिक बलात्कार एवं हत्या मामले में पीड़िता की मृत्यु के बाद उसका रात में कथित तौर पर अमानवीय अंतिम संस्कार करने को लेकर दायर एक जनहित वाद पर इलाहाबाद उच्च न्यायालय की लखनऊ पीठ द्वारा सुनवायी पीठ में से एक न्यायाधीश की अनुपस्थिति के कारण नहीं हो सकी। यह मामला इससे पहले जस्टिस रंजन रॉय और जस्टिस जसप्रीत सिंह की एक पीठ द्वारा सुनवाई के लिए सूचीबद्ध किया गया था, लेकिन जस्टिस रॉय की अनुपस्थिति के कारण, यह सुनवायी नहीं हो सकी।

  सिसोदिया मानहानि मामले में मनोज तिवारी को सुप्रीम कोर्ट से मिली बड़ी राहत

मामले को बाद की तिथित में सुनवायी के लिए अब संबंधित पीठ के निर्देश के अनुसार सूचीबद्ध किया जाएगा। इस मामले की पिछली सुनवाई 16 जनवरी को हुई थी जब पीठ ने पीड़िता के शव का रात में दाह संस्कार से संबंधित विभिन्न मीडिया हाउस द्वारा प्रस्तुत विभिन्न वीडियो क्लिपिंग देखी थीं और अन्य पहलुओं पर गौर किया था। 

ट्रैक्टर परेड हिंसा: घायल पुलिसकर्मी की हालत नाजुक, LNJP अस्पताल के ICU में भर्ती

मीडिया हाउस ने हाथरस मामले पर उनकी खबरों से संबंधित वीडियो और अन्य सामग्री अदालत के निर्देश पर प्रस्तुत की थीं। उच्च न्यायालय की लखनऊ पीठ ने मामले का स्वत: संज्ञान लिया था, विशेष रूप से स्थानीय पुलिस द्वारा लड़की के शव का रात में जबरन दाह संस्कार करने के आरोप लगाने वाल खबरों का। 

ट्रैक्टर परेड में हिंसा: सुप्रीम कोर्ट में दाखिल याचिका में जांच आयोग बनाने का अनुरोध

पिछले साल 14 सितंबर को लड़की का उसके गांव के चार पुरुषों द्वारा कथित रूप से बलात्कार किये जाने के बाद 19 वर्षीय लड़की की दिल्ली के एक अस्पताल में मौत हो गई थी। उसका कथित तौर पर उसके गांव में आधी रात को अंतिम संस्कार किया गया था। 

माकपा ने कहा- हिंसा से किसानों की मांगों से ध्यान नहीं भटकाया जा सकता

लड़की के परिवार के सदस्यों ने दावा किया था कि दिल्ली के सफदरजंग अस्पताल में लड़की की मौत के बाद, हाथरस पुलिस उसका शव ले गई थी और उनकी अनुमति के बिना ही रात में उसका अंतिम संस्कार कर दिया था। पुलिस ने परिवार के सदस्यों को लड़की का शव घर तक ले जाने की अनुमति कथित तौर पर नहीं दी थी।

मोदी 56 इंच के सीने की बात करते हैं, लेकिन गरीबों के आंसू ....: कांग्रेस

 

 

 

यहां पढ़ें अन्य बड़ी खबरें...

 

comments

.
.
.
.
.