Sunday, Sep 19, 2021
-->
antillia case raid on tihar jail terrorist tehseen akhtar mobile kmbsnt

एंटीलिया केस में बड़ा खुलासा- तिहाड़ जेल से दी गई थी अंबानी को धमकी, आतंकी का मोबाइल सीज

  • Updated on 3/12/2021

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। देश के सबसे बड़े उद्योगपति मुकेश अंबानी (Mukesh Ambani) के घर से बाहर एसयूवी कार में मिले विस्फोटक के बाद टेलीग्राम से दी गई धमकी दिल्ली की तिहाड़ जेल से भेजी गई थी। इस संबंध में मुंबई पुलिस की एसआईटी टीम ने दिल्ली स्पेशल सेल को यह जानकारी दी है। जिस पर दिल्ली पुलिस ने इसकी जांच शुरू कर दी है। 

इसके बाद गुरुवार शाम को तिहाड़ जेल में छापेमारी की गई। सुरक्षा एजेंसियों ने इंडियन मुजाहिद्दीन के आतंकी तहसीन अख्तर की बैरक से मोबाइल बरामद कर लिया है। मोबाइल को सीज कर दिया गया है। इसी मोबाइल से टेलिग्राम के जरिए धमकी भरा संदेश मुकेश अंबानी को भेजा गया था। 

स्कैनिया स्कैम : कांग्रेस गडकरी पर लगे आरोपों को लेकर मोदी सरकार पर हमलावर

जैश उल हिंद ने टैलिग्राम से भेजा था संदेश
बता दें कि उद्योगपति मुकेश अंबानी के घर के बाहर 25 फरवरी को एसयूवी कार में विस्फोटक जिलेटिन की छड़े बरामद हुई थी और उसके बाद एक टेलीग्राम नंबर के जरिए धमकी भी दी गई थी जिसे जैश उल हिंद ने बनाया था। दिल्ली पुलिस के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि स्पेशल सीपी सेल को मुंबई पुलिस ने एक पत्र के माध्यम से बताया कि उनकी जांच में सामने आया है कि जिस टेलीग्राम एप से जैश उल हिंद ने जिलेटिन रखने की जिम्मेदारी ली थी वह तिहाड़ जेल में बना था।

मुंबई पुलिस ने पत्र में लिखा था कि वह किसने बनाया इसकी जांच सुनिश्चित की जाए। मुंबई पुलिस ने एनआईए सहित दिल्ली पुलिस को बताया कि तकनीकी जांच और विश्लेषण में पाया गया कि इस मामले में फोन के माध्यम से इंटरनेट का प्रयोग किया गया था। इस संबंध में आईटी जांच के मुताबिक मेल 26 फरवरी को भेजा गया था। इंटरनेट मीडिया टेलीग्राम ग्रुप के माध्यम से मेल भेजा गया था।

महाशिवरात्रि पर कुंभ के पहले शाही स्नान में उमड़ा आस्था का सैलाब

गृह मंत्रालय ने NIA को सौंपी थी जांच 
बता दें कि गृह मंत्रालय के आदेशों के बाद इस मामले को  राष्ट्रीय अन्वेषण अभिकरण (एनआईए) ने  अपने हाथों में ले लिया था। महाराष्ट्र के गृह मंत्री अनिल देशमुख ने कहा था कि ऑटो पार्ट डीलर हीरेन मनसुख की मौत की घटना तथा उद्योगपति मुकेश अंबानी के आवास के निकट विस्फोटकों से लदा वाहन मिलने के मामलों को सुलझाने में राज्य की पुलिस सक्षम है। राज्य विधानसभा में देखमुख ने यह बयान दिया। हीरेन की पत्नी ने पति की हत्या का संदेह जताया था। इसके बाद एटीएस ने भारतीय दंड संहिता की धारा 302, 201 तथा 120(बी) के तहत अज्ञात व्यक्तियों के खिलाफ मामला दर्ज किया था।

बता दें कि जिस एसयूवी कार में विस्फोटक मिला था वो 18 फरवरी को एरोली-मुलुंद ब्रिज से चोरी हुई थी। वाहन के मालिक हीरेन मनसुख शुक्रवार को ठाणे में मृत पाये गये थे। 

ये भी पढ़ें:

comments

.
.
.
.
.