Sunday, Nov 28, 2021
-->
attempt-to-kill-mother-in-law-by-poisoning-for-property

संपत्ती के लिये सास को जहर देकर मारने की कोशिश 

  • Updated on 10/19/2021

संपत्ती के लिये सास को जहर देकर मारने की कोशिश 
बहु व उसके परिवार पर एफआईआर दर्ज करने का अदेश

नई दिल्ली, टीम डिजिटल। रोहिणी कोर्ट स्थित मेट्रोपॉलिटन मजिस्ट्रेट अजय सिंह परिहार की अदालत  ने सास को जहर देकर मारने की कोशिश करने के आरोप में बहू और उसके परिवार के सदस्यों के खिलाफ  मंगोलपुरी थाना प्रमुख को एफआईआर दर्ज करने के आदेश दिए हैं। न्यायाधीश ने अपने आदेश में कहा कि यह एक संज्ञेय अपराध है, लिहाजा पुलिस को संबंधित धाराओं के तहत एफआईआर दर्ज करने का निर्देश दिया जाता है।

शिकायकर्ता (पीड़िता)रीता गुप्ता ने वकील अमित साहनी द्वारा दायर एक शिकायत में अपनी बहू स्वाति गुप्ता पर यह आरोप लगाया गया था कि 25 सितंबर को उसने अपने परिवार के सदस्यों के साथ मिलकर, उस दूध में जहर मिला दिया था, जिससे बाद में उसने कॉफी बनाई। रीता गुप्ता ने दावा किया कि कॉफी पीने के बाद उनकी हालत बिगड़ गई थी और उन्हें तुरंत डीडीयू अस्पताल ले जाया गया, जहां उसकी एमएलसी की गई। उन्होंने दावा किया कि सम्पत्ति की मांग को लेकर उनकी बहू ने यह कदम उठाया।

स्टेटस रिपोर्ट में जांच अधिकारी ने कहा कि कप में बची कॉफी और सीसीटीवी फुटेज को कब्जे में लेकर फॉरेंसिक विज्ञान प्रयोगशाला एफएसएल, के पास जांच के लिए भेज दिया गया है। इस पर मजिस्ट्रेट ने कहा कि फॉरेंसिक जांच रिपोर्ट के लंबित होने के कारण पुलिस एफआईआर दर्ज करने से इनकार नहीं कर सकती।

न्यायाधीश ने 18 अक्टूबर को दिए एक आदेश में कहा जांच अधिकारी को पहले एफआईआर दर्ज करनी चाहिए थी और उसके बाद सबूत इकठ़्ठे करने चाहिए थे।  शिकायतकर्ता ने एक संज्ञेय अपराध का खुलासा किया है। 

शिकायतकर्ता रीता गुप्ता ने आरोप लगाया कि उनकी बहू परिवार पर सम्पत्ति उसके नाम करने का दबाव बना रही थी, जिस वजह से उसने अपनी सास को जहर देकर मारने की कोशिश की। रीता ने उनकी शिकायत पर मंगोलपुरी थाना प्रभारी, पुलिस उपायुक्त, पुलिस कमिश्नर के खिलाफ एफआईआर दर्ज नहीं करने पर अदालत में मामला दायर किया है।

वहीं बहू स्वाति गुप्ता ने भी एक शिकायत दायर की थी जिसमें आरोप लगाया गया था कि 2017 में उसे उसके पति और परिवार के सदस्यों ने गर्भपात कराने के लिए मजबूर किया। अदालत ने नौ अक्टूबर को बहू की शिकायत पर एफआईआर दर्ज करने के आदेश पर रोक लगा दी थी। अदालत ने कहा था कि इस घटना के बारे में उसने कोई दस्तावेज पेश नहीं किया गया है।  

 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.