Sunday, Dec 04, 2022
-->
attempts to enter gorakhnath temple by shouting allah-hu-akbar

अल्ला-हू-अकबर बोल गोरखनाथ मंदिर में घुसने का प्रयास, हमलावर बोला- चाहता था कोई मुझे गोली मार दे

  • Updated on 4/4/2022

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। गोरखपुर के गोरखनाथ मंदिर के दक्षिणी द्वार पर रविवार की शाम एक युवक ने धार्मिक नारे (अल्ला-हू-अकबर) लगाते हुए मंदिर में प्रवेश करने की कोशिश की और सुरक्षा में तैनात पीएसी के दो आरक्षियों को धारदार हथियार से घायल कर दिया।

सुरक्षार्किमयों द्वारा पकड़ने की कोशिश में वह व्यक्ति भी घायल हो गया। उल्लेखनीय है कि गोरखनाथ मंदिर नाथ संप्रदाय की सर्वोच्च पीठ है और उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ इस पीठ के महंत हैं। गोरखपुर जोन (क्षेत्र) के अपर पुलिस महानिदेशक (एडीजी) अखिल कुमार ने बताया कि एक व्यक्ति ने धारदार हथियार के साथ धार्मिक नारा लगाते हुए मंदिर में प्रवेश करने की कोशिश की और पीएसी के दो आरक्षियों को घायल कर दिया। वह गेट के पास पीएसी पोस्ट पर भी गया और पुलिस पर हमला करने की कोशिश की।

हालांकि पुलिस ने धैर्य दिखाया और उसे पकड़ लिया। उन्होंने बताया कि उसके हमले में आरक्षी गोपाल कुमार गौड़ और अनिल पासवान घायल हो गये। उन्हें गुरु गोरखनाथ अस्पताल में प्राथमिक उपचार के बाद बीआरडी मेडिकल कॉलेज अस्पताल में रेफर कर दिया गया।

एडीजी ने बताया कि इस दौरान वह व्यक्ति भी घायल हो गया और उसका भी अस्पताल में उपचार चल रहा है। प्रारंभिक जांच में पता चला कि उस व्यक्ति का नाम मुर्तजा है और वह गोरखपुर का निवासी है। कुमार ने कहा कि यह एक गंभीर घटना है और हर बिंदुओं पर जांच के बाद सख्त कार्रवाई की जाएगी।

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ यहां अक्सर आते हैं और इस दृष्टि से भी मामले के हर पहलुओं की पड़ताल की जा रही है। मंदिर के गेट के पास तैनात एक ट्रैफिक कांस्टेबल (यातायात आरक्षी) रमेश सिंह ने बताया कि हमें समझ में नहीं आया कि वह अचानक क्यों आया और मंदिर के गेट पर तैनात पीएसी कांस्टेबल पर हमला कर दिया।

गोरखनाथ मंदिर के कर्मचारी विनय कुमार गौतम ने कहा कि एक व्यक्ति ने मंदिर के गेट पर एक धार्मिक नारा लगाया और दो पीएसी कांस्टेबल को धारदार हथियार से घायल कर दिया और वह हथियार को गमछा में छिपा रहा था।

प्रत्‍यक्षदर्शियों का कहना है कि मुर्तुजा को पकड़ने में दो जवानों ने काफी दिलेरी दिखाई। गोरखनाथ मंदिर के गेट पर 20वीं बटालियन पीएसी के दो जवान गोपाल गौंड़ और अनिल पासवान ड्यूटी पर थे। प्रत्यक्षदर्शियों के मुताबिक अहमद मुर्तुजा अब्बासी हाथ में बैग लिए गोरखनाथ मंदिर के मुख्य गेट पर पहुंचा। उसने कुर्सी पर बैठे पीएसी जवानों से धक्कामुक्की शुरू कर दी।

फिर अचानक उसने बैग से कपड़े में लपेटकर रखी बांकी (धारदार हथियार) निकाली और ताबड़तोड़ प्रहार करने लगा। हमलावर ने सीधे पीएसी जवानों पर हमला बोला। इस दौरान उसने धार्मिक नारे भी लगाए। उसने धारदार हथियार से प्रहार कर गोपाल गौंड़ और अनिल पासवान को घायल कर दिया और लगातार हमले कर रहा था। यही नहीं, जिसे देखता, उसी की तरफ दौड़ पड़ता था।

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

comments

.
.
.
.
.