Friday, Dec 09, 2022
-->
authority and administration became helpless in front of bkyu leader mangeram tyagi

भाकियू नेता मांगेराम त्यागी के आगे बेबस हुआ प्राधिकरण और प्रशासन

  • Updated on 9/28/2022

नई दिल्ली,(टीम डिजिटल):दिल्ली से सटे नोएडा में ग्रैंड ओमेक्स सोसाइटी में श्रीकांत त्यागी प्रकरण से शुरू हुआ मामला अब अवैध अतिक्रमण पर जाकर अटक गया। भाकियू नेता मांगेराम त्यागी की अगुवाई में त्यागी समाज के लोग बुधवार को सोसाइटी के बाहर धरना देते रहे। मांगेराम त्यागी द्वारा दिए गए 48 घंटे के अल्टीमेटम को देखते हुए बुधवार को प्राधिकरण अधिकारी मौके पर पहुंचे। अधिकारियों ने अवैध अतिक्रमण करने वालों से उसे खुद ही हटाने को कहा। अन्यथा शुक्रवार को नोएडा प्राधिकरण की टीम खुद अवैध निर्माण को तोड़ेगी और इसमें आने वाला खर्चा भी आपको वहन करना पड़ेगा। वहीं इससे पहले सीईओ रितु माहेश्वरी ने सोसाइटी की एओए के साथ बैठक कर खुद अतिक्रमण तोडऩे के लिए कहा।

सेक्टर 93बी स्थित ग्रैंड ओमेक्स सोसाइटी में नोएडा प्राधिकरण के 48 घंटे के अल्टीमेटम के बाद बुधवार सुबह प्राधिकरण के 12 अधिकारियों की टीम मौके पर पहुंची। इसमें छह अधिकारी नियोजन और 6 सर्किल अधिकारी शामिल रहे। इससे पहले सीईओ रितु माहेश्वरी ने सोसाइटी की एओए के साथ बैठक कर खुद अतिक्रमण तोडऩे के लिए कहा। मौके पर पहुंचे अधिकारियों ने जिन फ्लैटों में अवैध निर्माण है उनके ऑनर को घर घर जाकर नक्शा दिखाकर बताया कि आपने कहा-कहा अतिरिक्त निर्माण किया है। उनसे कहा गया कि ये निर्माण वह खुद ही हटा ले। वहीं प्राधिकरण के 48 घंटे के अल्टीमेटम के बाद से ग्रैंड ओमेक्स सोसाइटी के बाहर त्यागी समाज का प्रदर्शन लगातार जारी है। 

सोसाइटी के लोगों के अल्टीमेटम के आगे हम भी यही हैं बैठे-मांगेराम त्यागी
भाकियू के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष मांगे राम त्यागी ने कहा कि यदि श्रीकांत त्यागी के घर के बाहर लगे पेड़ों को हटाया जाता है तो प्राधिकरण अपना डंपर साथ लाए और बाबा का बुलडोजर भी और सभी अवैध निर्माण को तोड़े। उनके अल्टीमेटम के आगे हम भी यही बैठे है। बुधवार सुबह से ग्रैंड ओमेक्स सोसाइटी की मुख्य सडक़ पर मांगे राम त्यागी समर्थकों के साथ सडक़ पर बैठे हैं। वहां पर लगातार भीड़ बढ़ रही है। इसको देखते हुए भारी पुलिस बल तैनात किया गया है। बता दे मंगलवार को नोएडा प्राधिकरण के एसीईओ प्रवीन मिश्रा ने सोसाइटी में अवैध निर्माण और श्रीकांत त्यागी के घर के बाहर लगे पेड़ों हटाने के लिए 48 घंटे का अल्टीमेटम दिया था। जिसके बाद से लगातार प्रदर्शन जारी है। प्रदर्शन के दौरान अन्नु त्यागी रात करीब दो बजे तक सोसाइटी के बाहर चल रहे प्रदर्शन में शामिल रही। उन्होंने प्राधिकरण को पुलिस को पत्र भी लिखा। इसके बाद वह सोसाइटी में अपने घर चली गई।

प्राधिकरण ने 2019 में जारी किए थे नोटिस
प्राधिकरण ने 2019 में ग्रैंड ओमेक्स सोसाइटी में करीब 90 फ्लैट आवंटियों को नोटिस जारी किया था। इसी नोटिस को आधार बनाकर सोमवार को एसीईओ ने आवंटियों को 48 घंटे का समय दिया था। ग्रैंड ओमेक्स सोसाइटी के लोगों के पास अब सिर्फ 24 घंटे का समय बचा है। इस बीच वह अपना अवैध निर्माण तोड़ ले। प्राधिकरण ने साफ कहा कि यदि जेसीबी चला तो ज्यादा नुकसान होगा। ऐसे में जिन्होंने छोटा मोटा अवैध निर्माण किया है वह खुद हटा ले।

आखिर किसने लगाए थे श्रीकांत त्यागी के घर के बाहर पेड़
मंगलवार को ग्रैंड ओमेक्स सोसाइटी में श्रीकांत के घर के बाहर पेड़ लगाए गए। ये पेड़ सोसाइटी में उसी जगह लगाए गए हैं, जहां से पहले उखाड़े गए थे। पेड़ प्राधिकरण ने लगाया है या सोसाइटी की तरफ से लगाए गए हैं, इसको लेकर किसी को भी जानकारी नहीं है। प्राधिकरण की ओएसडी वंदना त्रिपाठी ने बताया कि सोसाइटी के अंदर पेड़ पौधे लगाने का काम प्राधिकरण का नहीं है। यदि वहां पेड़ लगाए जा रहे है तो सोसाइटी के लोगों ने ही लगवाए होंगे। वहीं, सोसायटी प्रबंधन ने भी पेड़ लगवाने से इनकार किया है। फिर बड़ा सवाल है कि आखिर ये पेड़ किसने लगाए थे। 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.