Tuesday, May 21, 2019

कोर्ट से बरी होने के बाद 2013 में फरार हो गया था बाबा

  • Updated on 5/15/2019

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। 2013 में निचली अदालत से बरी होने के बाद बशीर अहमद पोन्नू उर्फ मौलवी, फैयाज अहमद लोन व अब्दुल मजीद बाबा फरार हो गया था। निचली अदालत के फैसले को पुलिस ने दिल्ली हाईकोर्ट में चुनौती दी गई। कोर्ट ने बशीर, मजीद और फैयाज को मामले में दोषी पाते हुए उम्र कैद की सजा सुनाई थी, लेकिन तीनों ही आरोपी कोर्ट में पेश नहीं हुए। इधर कोर्ट ने कई तारीखों पर पेश न होने के बाद मजीद, फैयाज व बशीर अहमद के खिलाफ गैर जमानती वारंट जारी कर दिए।

दिल्ली पुलिस आयुक्त ने इनकी गिरफ्तारी पर दो-दो लाख का ईनाम घोषित किया था। पुलिस तभी से तीनों आतंकियों की तलाश में जुटी थी। इसके लिए पुलिस की टीमें लगातार जम्मू-कश्मीर में छापेमारी कर रही थी। एसीपी संजय दत्त व इंस्पेक्टर राहुल कुमार सिंह की टीम जम्मू-कश्मीर पुलिस और सेना के संपर्क में थी। आखिरकार शनिवार को आरोपी गांव मगरेपोरा, सोपोर, जम्मू-कश्मीर निवासी मजीद को शेर-ए-कश्मीर इंस्टीट्यूट मेडिकल साइंस हॉस्पिटल शौरा के पास से दबोच लिया गया। आरोपी को ट्रांजिट रिमांड पर दिल्ली लाया गया है।

श्रीलंका में फिर हुए दंगे, सोशल मीडिया पर सरकार ने लगाया बैन

Image result for अब्दुल मजीद बाबा

दिल्ली को दहलाने की थी साजिश
चारों आतंकियों ने पुलिस की पूछताछ में खुलासा किया था कि वह सब पाकिस्तान में बैठे आकाओं के दिशा-निर्देशों पर राजधानी में विस्फोटक व हथियार पहुंचाने आए थे। मामला कोर्ट में चलता रहा और निचली अदालत ने 7 अगस्त 2013 को पाकिस्तानी शाहिद गफ्फूर को छोड़कर बाकी तीनों को सबूतों के अभाव में बरी कर दिया था।

देश में चल रही बलात्कारों की आंधी से राहत दिला सकती हैं फास्ट ट्रैक अदालतें

पुलिस ने हाईकोर्ट में निचली अदालत के फैसले को चुनौती दी, जिसके बाद हाईकोर्ट ने आरोपियों को दोषी माना था, लेकिन तीनों आरोपी फरार हो गए थे। तीनों लगातार पाकिस्तान में बैठे जैश के आकाओं के संपर्क में थे। पुलिस तीनों आतंकियों को देश के लिये बड़ा खतरा मानकर उनकी तलाश में जुटी थी। पुलिस को मामले में अभी भी बशीर की तलाश है।

2007 में मुठभेड़ के बाद दबोचा था
दिल्ली पुलिस ने 4 फरवरी 2007 को दीन दयाल उपाध्याय मार्ग पर मुठभेड़ के बाद सियाल कोर्ट, पाकिस्तान निवासी शाहिद गफ्फूर, सोपोर, बारामूला निवासी बशीर अहमद पोन्नू उर्फ मोलवी, कुपवाड़ा निवासी फैयाज अहमद लोन और सोपोर निवासी अब्दुल मजीद बाबा को गिरफ्तार किया था। इनके पास से तीन किलो विस्फोटक, 4 इलेक्ट्रॉनिक डेटोनेटर्स, एक टाइमर, 6 हैंडग्रेनेड, एक स्टार .30 बोर की पिस्टल, एक मैगजीन और दो कारतूसों के अलावा 50 हजार भारतीय रुपए व 10 हजार नकली यूएस डॉलर बरामद हुए थे।

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.