Tuesday, Sep 27, 2022
-->
bihar-muzaffarpur-sexual-abuse-tejashwi-yadav-attacks-bjp-jdu-nitish-kumar-brijesh-thakur

मुजफ्फरपुर यौन शोषण कांड: तेजस्वी ने नीतीश पर की सवालों की बौछार

  • Updated on 7/25/2018

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। राष्ट्रीय जनता दल के नेता तेजस्वी यादव ने जितन राम मांझी के साथ आज मुजफ्फरपुर का दौरा कर वित्त पोषित बालिका आश्रय गृह की लड़कियों के यौन शोषण के मामले को लेकर मुख्यमंत्री नीतीश कुमार पर जमकर निशाना साधा। 

हार्दिक पटेल ने 2 साल की सजा मिलने के बाद भाजपा पर निकाली जमकर भड़ास

सीबीआई जांच कराने की मांग को दोहराते हुए तेजस्वी ने कहा कि इसकी जांच हाई कोर्ट की निगरानी में होनी चाहिए। संवाददाताओं से बता करते हुए राजद नेता ने कई अहम सवाल उठाते हुए भाजपा और जदयू सरकार को आड़े हाथ लिया। 

लोकपाल मामले में मोदी सरकार से नाखुश सुप्रीम कोर्ट, दिखाए कड़े तेवर

उन्होंने पूछा कि मुजफ्फरपुर शेल्टर होम रेप कांड के मुख्य आरोप बृजेश ठाकुर को रिमांड पर क्यों नहीं लिया गया, जबकि वह पुलिस जांच में सहयोग नहीं कर रही है। तेजस्वी ने कहा कि बृजेश ठाकुर की कॉल डिटेल सार्वजनिक की जानी चाहिए, ताकि सफेदपोश सियासतदान भी बेनाकाब हो सकें। 

राफेल मुद्दे पर PM मोदी के खिलाफ विशेषाधिकार हनन के नोटिस विचाराधीन

तेजस्वी ने यह सवाल भी पूछा कि महीनों से नादान बच्चियों से बलात्कार हो रहा था, ऐसे में समाज कल्याण और पुलिस विभाग क्या कर रहा था। हर महीने न्यायिक और समाज कल्याण अधिकारी निरीक्षण करते थे, तो उनकी रिपोर्ट कहां गायब कर दी गई।

बिहार के पूर्व उपमुख्यमंत्री तेजस्वी ने कहा कि नीतीश सरकार बताए कि आखिर केंद्रीय भाजपा नेता और जेडीयू के नेता जांच प्रभावित करने के लिए अधिकारियों पर दबाव क्यों बना रहे हैं। आखिरी अधिकारियों को निष्पक्षता से काम करने से क्यों रोका जा रहा है।

गंगा को लेकर अनशन कर रहे स्वामी सानंद के समर्थन में AAP ने उठाई आवाज

तेजस्वी ने पूछा कि मुख्यमंत्री बताएं कि समाज कल्याण की रिपोर्ट में बृजेश और अन्य का नाम क्यों नहीं है। आखिर जब पहली बार समाज कल्याण की ओर से मामला दर्ज किया गया तो बृजेश को या अन्य को आरोपी क्यों नहीं बनाया गया। सीएम नीतीश को अब बृजेश की एक साल की कॉल डिटेल सार्वजनिक करानी चाहिए। 

बता दें कि बिहार के मुजफ्फरपुर में एक बालिका आश्रय गृह में पूर्व में रह चुकी लड़की ने आरोप लगाया था कि उसकी एक साथी की पीट-पीटकर हत्या कर दी गई और उसे परिसर में दफन कर दिया गया और कई के साथ बलात्कार किया गया। 

राफेल डील : पीएम मोदी के खिलाफ कांग्रेस लाएगी विशेषाधिकार हनन प्रस्ताव

इन आरोपों के बाद बिहार पुलिस ने जांच शुरु की है और शव को तलाशने के लिए उन्होंने बालिका आश्रय गृह के परिसर की खुदाई भी की। लेकिन वहां से अभी तक कुछ भी बरामद नहीं हुआ है। खुदाई बंद कर दी गई है, गड्ढे को भर दिया गया है और वहां से मिले मलबे के नमूने को फोरेंसिक जांच के लिए भेज दिया गया है। 

ताज महल पर यूपी की योगी सरकार ने सुप्रीम कोर्ट को सौंपा विजन डॉक्यूमेंट

मुंबई के एक संस्थान के सामाजिक ऑडिट में बिहार के इस बालिका आश्रय गृह की लड़कियों का यौन शोषण का मामला उजागर हुआ था, जिसके बाद राज्य के समाज कल्याण विभाग ने पिछले महीने प्राथमिकी दर्ज की थी और इस सिलसिले में 10 लोग गिरफ्तार किए जा चुके हैं। इस बालिका आश्रय गृह को चलाने वाले एनजीओ को ब्लैक लिस्ट में डाल दिया गया है। 

गाय को लेकर भाजपा के तेज-तर्रार नेता कटियार ने मुस्लिमों को चेताया

इस बालिका आश्रय गृह को सील कर वहां की लड़कियों को अन्य जिलों के बालिका आश्रय गृहों में भेज दिया गया है। विधानसभा में विपक्ष के नेता तेजस्वी यादव ने कल आरोप लगाया था कि इस कांड में ऊंची पहुंच वाले कई लोग शामिल हैं, जिन्हें नीतीश कुमार सरकार बचाने का प्रयास कर रही है। 
 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.