Monday, Jan 20, 2020
bombay high court asked nia about time to complete hearing of malegaon bomb blast case

मालेगांव विस्फोट मामले में बॉम्बे हाई कोर्ट ने NIA से पूछा अहम सवाल

  • Updated on 7/22/2019

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। बंबई उच्च न्यायालय ने सोमवार को राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआईए) से पूछा कि सितंबर 2008 में हुए मालेगांव बम धमाका मामले की सुनवाई पूरी होने में लगभग कितना समय लगेगा। न्यायमूर्ति रंजीत मोरे और न्यायमूर्ति भारती डांगरे की पीठ एक आरोपी समीर कुलकर्णी की ओर से दायर याचिका पर सुनवाई कर रही थी।

विपक्ष को नहीं रास आया मानवाधिकार कानून में संशोधन प्रस्ताव, मोदी सरकार को घेरा

समीर की याचिका में मामले की सुनवाई की वीडियो रिकॉर्डिंग कराने और निचली अदालत को छह महीने के भीतर सुनवाई पूरी करने का निर्देश देने की मांग की गई है। अदालत ने एनआईए के अधिवक्ता संदेश पाटिल से दो सप्ताह के भीतर सुनवाई कब तक चलेगी और कब तक पूरी होगी यह बताने का निर्देश दिया। पाटिल के अनुसार निचली अदालत अभियोजन पक्ष के 475 गवाहों में से आज तक 124 गवाहों से ही पूछताछ कर पाई है।

मानवाधिकार संरक्षण संशोधन विधेयक को संसद ने दी मंजूरी

 इस बीच, धमाके से जुड़े एक अन्य मामले में, राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआईए) ने अभियोजन पक्ष के गवाहों के नामों की सूची प्रस्तुत करने के लिए और समय मांगा है, जिसपर अदालत 2 अगस्त तक सुनवाई करेगी। महाराष्ट्र के मालेगांव में 29 सितंबर 2008 को एक मस्जिद के निकट मोटरसाइकिल में हुए बम धमाके में छह लोगों की मौत हो गई थी और 100 अन्य जख्मी हो गए थे। 

मोदी सरकार से स्थायी ‘रेसीडेंस परमिट’ चाहती हैं तस्लीमा नसरीन

पिछले साल अक्टूबर में विशेष अदालत ने कर्नल पुरोहित, प्रज्ञा सिंह ठाकुर और समीर कुलकर्णी तथा कुछ अन्य आरोपियों के खिलाफ गैरकानूनी गतिविधियां रोकथाम अधिनियम के तहत आरोप तय किये थे।

बिहार के अगले विधानसभा चुनाव के लिए भी BJP ने नीतीश के नेतृत्व में जताया भरोसा

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.