Thursday, Nov 30, 2023
-->
bsf-jawans-encounter-cattle-smugglers-near-ichhamati-river-one-caught

 बीएसएफ जवानों की इच्छामती नदी के पास पशु तस्करों से मुठभेड़,एक पकड़ा

  • Updated on 6/23/2023

 
नई दिल्ली। टीम डिजिटल। बीएसएफ जवानों अंतर्राष्ट्रीय सीमा पर एक मुठभेड़ के बाद  एक पशु तस्कर को गिरफ्तार किया है। जबकि बाकी तस्कर अंधेरे का फायदा उठाकर फरार हो गए। मुठभेड़ में बीएसएफ के तीन जवान भी गंभीर रूप से घायल हो गए। तस्कर अंधेरे में  केले के बागानों और नदी वाले इलाके का फायदा उठाकर अंतर्राष्ट्रीय सीमा के दोनों ओर से इच्छामती नदी के जरिये से जबरदस्ती मवेशियों की तस्करी करने की कोशिश कर रहे थे।

दिल्ली मुख्यालय से बीएसएफ प्रवक्ता ने बताया कि बीती रात 08 वीं वाहिनी, सीमा सुरक्षा बल (बीएसएफ) बहादुर जवानों को अंतर्राष्ट्रीय सीमा से सटी इच्छामती नदी के पास पशु तस्करों के आने की पुख्ता सूचना मिली थी। जवानों ने नदी के आसपास घेराबंदी की। जब तस्करों को देखकर उनको पकडऩे की कोशिश की गई। दोनों तरफ के तस्करों ने हाई बीम टॉर्च लाइटें जलाना शुरू कर दिया और बीएसएफ पार्टी पर देशी बम फेंके, जिसमें एक जवान घायल भी हो गया। बीएसएफ जवानों ने मिर्ची ग्रेनेड और पीएजी राउंड फायर किए।

तस्करों ने जवानों पर ओर उग्र रूप से हमला करने की कोशिश की।  जवानों ने खतरे को भांपते हुए और सेल्फडिफेंस में फिर से गैर घातक हथियारों से गोलीबारी की। काफी देर तक मुठभेड़ के बाद जवानों ने तीन मवेशियों को छुड़वाने में और एक तस्कर को पकडऩे में कामयाबी पाई। जवानों ने तीन बदमाशों को सीमा क्षेत्र के पास एक घायल तस्कर को ले जाते हुए भी देखा। बदमाशों को चुनौती देने पर उन्होंने घायल तस्कर को वहीं छोड़ दिया और तेजी से भारतीय क्षेत्र के गांव कनीबामिनी की ओर भाग गए।

तस्कर की पहचान पश्चिम बंगाल के नदिया जिले गांव कानीबामिनी, दत्तपुलिया के रहने वाले हसनूर मंडल के रूप में हुई। पूछताछ करने पर हसनूर मंडल से पता चला कि उसने मुंशीहाटी गांव के शेरो, रघु और कनीबामिनी गांव के सहर ने अपने तीन अन्य साथियों के साथ सीमा पार मवेशियों की तस्करी की साजिश रची थी।

उनकी योजना सीमा चौकी इच्छामति के पुल का उपयोग करके मवेशियों को अपने बांग्लादेशी समकक्षों, जहौर (समूह के नेता), राजू और बांग्लादेश के पोलियानपुर के पास रायपुर के सागर को सौंपने की थी। उनके गैंग के पास देसी बम, चाकू और पत्थर भी थे। जिनका इस्तेमाल तस्करी करने और जवानों का ध्यान भटकाने और नुकसान पहुंचाने के लिए किया जाता है।  

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.