बुलंदशहर हिंसा: FIR में 10 साल के बच्चों के नाम शामिल, पिता ने लगाए पुलिस पर आरोप

  • Updated on 12/5/2018

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। बुलंदशहर शहर गोवंश के अवशेष मिलने के बाद हुई हिंसा में पुलिस इंस्पेक्टर और एक युवक की हत्या कर दी गई है। भीड़ ने थाने पर हमला कर इंस्पेक्टर सुबोध कुमार की गोली मारकर हत्या कर दी। इस मामले में पुलिस ने दो एफआईआर दर्ज की हैं। 

पुलिस ने जो पहली एफआईआर दर्ज की है वो आरोपी योगेश राज नाम के शख्स ने गोकशी के आरोप में करवाई है। जबकि दूसरी एफआईएर पुलिस की ओर से हिंसा और इंस्पेक्टर की मौत के मामले में दर्ज की गई है। इस एफआईआर में गोकशी की एफआईआर कराने वाले योगेश राज को ही मुख्य आरोपी बनाया गया है।

बुलंदशहर हिंसा: अन्य मृतक सुमित के घर वालों को 10 लाख की मदद, आज आएगी रिपोर्ट

योगेश राज फिलहाल फरार है। कहा जा रहा है कि वो बजरंग दल का नेता है। एफआईआर में ययोगेश राज को ही मुख्य आरोपी बनाया गया है। जबकि दूसरी एफआईआर में  समुदाय विशेष के सात लोगों के नाम हैं, जिनमें से दो महज 10 और 11 वर्ष के बच्चे  हैं। 

बुलंदशहर हिंसा के लिए AAP ने CM योगी, CPIM ने BJP-RSS पर साधा निशाना

जिन दो बच्चों का नाम एफआईआर में लिखा गया है उनके पिता का कहना है कि दोनों छोटे बच्चे हैं। वो कैसे गोकशी कर सकते हैं। उन्होंने आगे कहा कि जिस दिन ये घटना हुई थी उस वक्त वो बच्चे बुलंदशहर में थए ही नहीं। साथ ही उन्होंने आरोप लगाया कि पुलिस ने बच्चों को घंटो तक थाने में बैठाए रखा। 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.