Sunday, Nov 28, 2021
-->
by-cutting-the-net-or-entering-the-house-through-the-drain-pipe-commit-the-crime-arrested

जाली काटकर या नाली के पाइप के जरिए घर में घुस कर देता था वारदात को अंजाम,  गिरफ्तार

  • Updated on 9/16/2021

 


 


 

लाइसेंसी पिस्टल, चार कारतूस और एक मोबाइल फोन बरामद

 

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। उत्तर-पूर्वी जिला पुलिस ने एक ऐसे चोर को गिरफ्तार किया है जो जाली काटकर या फिर नाली के पाइप के जरिए घर में घुसता और चोरी की वारदात को अंजाम देता है जूलर के घर हुई चोरी के मामले को समझाते हुए ज्योति नगर पुलिस ने बदमाश के कब्जे से एक लाइसेंसी पिस्टल, चार कारतूस और एक मोबाइल फोन बरामद किया है। पुलिस अन्य सामान की बरामदगी का प्रयास कर रही है।

 

 

उत्तर पूर्वी जिला पुलिस उपायुक्त संजय कुमार सेन बताया कि जांच पड़ताल के दौरान पुलिस को एक संदिग्ध व्यक्ति सड़क पर घूमता हुआ नजर आया। पुलिस उस व्यक्ति की पहचान के लिए उसके फोटो को आस पास के व्हाट्सएप ग्रूप पर डाला था, रात में हुई चोरी मामले में  पुलिस को उस हुलिए के व्यक्ति के कर्दमपुरी चौक पर मौजूद होने की जानाकारी मिली। पुलिस ने वहां दबिश देकर कर्दपुरी निवासी सुहैल को हिरासत में लिया। पूछताछ के दौरान उसने वारदात में शामिल होने की बात कबूल कर ली। जांच के बाद पुलिस ने बताया कि सुहैल अविवाहित और नशे का आदी है। बदमाश ने बताया कि वह अकेले वारदात को अंजाम देता है। वह जाली काटकर या फिर नाली के पाइप के जरिए घर में घुसता है। 

 

जूलर के यंहा दिया था वारदात को अंजाम

 वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि 14 सितंबर को पुलिस को एक जूलर के घर में चोरी होने की सूचना मिली थी। जूलर देवेंद्र सोनी की शनि बाजार, कर्र्दमपुरी में जूलरी की दुकान है। 13 नवंबर की रात दुकान बंद कर वह घर पहुंचा। उसके पेंट में हीरे के पांच अंगूठी और दो बाली थी। पेंट को उसने खुंटी पर टांग कर दूसरे कमरे में सो गया। सुबह नींद खुली तो कमरे का सारा सामान बिखरा हुआ था। बदमाश गेट की जाली को काटकर कमरे के अंदर घुसे और घर से डेढ़ लाख रुपये, दो मोबाइल फोन, पांच हीरे की अंगूठी, दो बाली और एक लाइसेंसी पिस्टल, चार कारतूस और एक घड़ी चोरी कर ले गए।

 


 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.