Sunday, Oct 17, 2021
-->
camping-near-the-vehicle-standing-for-48-hours-keeping-an-eye-on-four-burglars

 48 घंटे तक खड़े वाहन के पास डेरा डालकर रखी निगाह,चार सेंधमार पकड़े

  • Updated on 9/16/2021

 नई दिल्ली। टीम डिजिटल।अलीपुर पुलिस ने गोदामों में रेकी करने के बाद लाखों का सामान लेकर फरार हो जाने वाले तीन  शातिर और चोरी का सामान खरीदने वाले खरीदार को गिरफ्तार किया है। गैंग वारदात भी काफी शातिर पने से करता था। जिससे वह पुलिस के हत्थे नहीं चढ पाएं। गोदाम की पैदल ही रेकी करने के बाद नजदीक की पार्किंग में नौकरी करने वाले से दोस्ती करते थे। उससे कुछ घंटों के लिए टैंपो ले जाते थे।

चोरी का सामान लादकर सामान को ठिकाने लगाकर टैंपो पार्किंग में वापिस खड़ा कर दिया करते थे। पार्किंग  वाले को भी कुछ रुपये दे दिया करते थे। आरोपियों की पहचान राहुल,अमन,राजा कुमार और खरीदार प्रमोद के रूप में हुई है। पकड़े गए सभी आरोपी राजा विहार, समयपुर बादली के रहने वाले हैं। आरोपियों के कब्जे से वारदात में इस्तेमाल टैंपो और चोरी का दस लाख रुपये से ज्यादा का सामान जब्त किया है। आरोपी पहले भी इसी तरह की चार वारदातों को अंजाम दे चुके थे। 

परिवार को बोलकर गए थे कल आ जाएंगे, लेकिन आई तीन लाशें

गोदाम में घुसकर प्लास्टिक फिल्म के बंडल चुराए
पुलिस अधिकारियों ने बताया कि बीते शुक्रवार को अलीपुर थाने में सेक्टर-16 रोहिणी इलाके में रहने वाले  शिकायतकर्ता अजय खट्ट  ने अपने गोदाम में चोरी की होने की रिपोर्ट दर्ज करवाई थी।  उन्होंने बताया कि उनके पास प्लास्टिक फिल्म का गोदाम है और किसी ने उनके गोदाम में घुसकर प्लास्टिक फिल्म के बंडल चुरा लिए। जिनकी कीमत लाखों रुपये में थी। पुलिस ने मामला दर्ज किया। एसएचओ राजीव कुमार के निर्देशन में एसआई पवन कुमार हेड कांस्टेबल सतेंडर, नरेंद्र,अनिल कांस्टेबल हरीश,विशाल,नवीन और योगेश को आरोपियों को पकडऩे का जिम्मा सौंपा गया। 

मलेरिया एंड हेल्थ इंस्पेक्टर और उनकी टीम पर डंडों से हमला


बीस किलोमीटर रूट पर लगे सीसीटीवी खंगाले
पुलिस अधिकारियों ने बताया कि पीडि़त के गोदाम से बीस किलोमीटर के रूट पर लगे सीसीटीवी कैमरों को खंगाला गया। कुछ फुटेज में एक टैंपो संदिगध हालत में दिखाई दिया। टैंपो का रजिस्ट्रेशन नंबर प्लेट की फुटेज साफ नहीं हो पाई। तकनीकी सहायता से वाहन की रजिस्ट्रेशन नंबर प्लेट के बारे में जानकारी ली गई। साथ ही वाहन की वजह से ही आरोपियों के भागने वाले रूट के बारे में पुख्ता जानकारी मिली। लेकिन उनके मुख्य ठिकाने के बारे में पता नहीं चल पाया। हयूमैन सॉर्से की सहायता से पता चला कि वारदात में इस्तेमाल टैंपो को समयपुर बादली इलाके में एक खाली जगह पर खड़ा किया गया है।

बच्ची सोकर उठी,सामने पिता पंखे से लटका हुआ था,कमरे में मां मरी पड़ी थी
 

48 घंटे से ज्यादा तक खड़े वाहन पर रखी गई निगाह
पुलिस अधिकारियों ने बताया कि वाहन के पास जब जांच टीम पहुंची। वाहन के आसपास कोई नहीं था। आरोपियों को पकडऩे के लिए 48 घंटे से ज्यादा वाहन के आसपास ही रुककर आरोपियों का इंतजार किया गया। बीते 14-15 की रात को जब जब आरोपी वाहन के पास आए और वाहन को लेकर कहीं जाने लगे। पुलिस टीम ने आरोपियों का पीछा कर चारों आरोपियों को जींदपुर फ्लाईओवर के पास दबोच लिया। उनकी निशानदेही पर गोदाम से चोरी प्लास्टिक की फिल्म के 50 बंडल भी बरामद किए गए। आरोपियों से पूछताछ करने पर पता चला कि वह प्रमोद को वारदात में आया सामान बेच दिया करते थे। प्रमोद पेशे से कबाड़ी का काम करता है। प्रमोद आगे सामान को कहां और किसको बेचा करता है। आरोपी से पूछताछ की जा रही है। 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.