Thursday, Feb 09, 2023
-->
cancer-patient-woman-s-husband-missing-from-second-wave-of-covid

कैंसर रोगी महिला का पति कोविड की दूसरी लहर से लापता

  • Updated on 11/1/2021

नई दिल्ली। टीम डिजिटल। कैंसर रोगी महिला का पति कोविड की दूसरी लहर में संक्रमित होने के बाद आचार्य भिक्षु अस्पताल में दाखिल हुआ और उसे कैट्स एंबुलेंस से एलएनजेपी में रेफर किया गया लेकिन उसका एलएनजेपी में कोई रिकाॅर्ड नहीं मिला। जिससे परेशान बीवी ने दिल्ली महिला आयोग का दरवाजा मदद के लिए खटखटाया, अब इस पूरे मामले पर आयोग द्वारा जांच की जा रही है।
जाने कैसे बना विनय नगर बदलकर सरोजिनी नगर

एलएनजेपी ने कहा नहीं है मरीज का कोई रिकाॅर्ड उपलब्ध
आयोग ने बताया कि 6 महीने से लापता पति को लेकर महिला ने अपनी शिकायत में दिल्ली पुलिस एवं अस्पताल अधिकारियों पर लापरवाही बरतने का आरोप लगाया है। शिकायतकर्ता का कहना है कि उसके पति के लापता होने के लगभग 15 दिनों के बाद, उसे दिल्ली पुलिस ने सूचित किया कि उसका पति को 13 अप्रैल को एक पीसीआर वैन द्वारा पंजाबी बाग में बेहोशी की हालत में पाया गया था, जो उन्हें आचार्य श्री भिक्षु अस्पताल ले गई और वहां उसकी कोविड जांच करवाई गई। पाॅजिटिव पाए जाने के बाद उसे कैट्स एंबुलेंस से एलएनजेपी रेफर किया गया। लेकिन जब महिला अपने पति से मिलने पहुंची तो एलएनजेपी में उसे अपने पति की कोई जानकारी नहीं मिली। आयोग की प्रारंभिक जांच के दौरान भी इसकी पुष्टि हुई है कि उसे आचार्य भिक्षु से कैट्स एबंुलेंस द्वारा एलएनजेपी लाया गया लेकिन कैट्स एबुंलेंस ने आयोग से कहा कि उसे एडमिट किया गया या नहीं इसकी उसे जानकारी नहीं है। आयोग ने जब एलएनजेपी से इस बाबत जानकारी मांगी तो उन्होंने भी अपने रिकाॅर्ड में उस व्यक्ति के नाम के मरीज के एडमिट किए जाने की बात को नकारा है।
अब ट्रेड फेयर से खरीद सकेंगे अफगानी अंजीर
 
आयोग ने सभी विभागों को नोटिस जारी किया
आयोग ने इस मामले की विशेष जांच शुरू कर संबंधित विभागों को नोटिस जारी किया है। जिसमें सभी विभागों को उस व्यक्ति का पता लगाने के लिए कहा गया है, वहीं दोनों अस्पतालों, कैट्स एंबुलेंस व पुलिस से इस मामले पर विस्तृत जवाब मांगा गया है। आयोग ने कैट्स से पूछा कि मरीज को अस्पताल के बाहर किसके आदेश पर छोडा गया। 
चलती ट्रेन से आयोग ने लड़की को किया रेस्क्यू

कैंसर पीडिता भटक रही है दर-दर: स्वाति मालीवाल
आयोग की अध्यक्षा स्वाति मालीवाल ने कहा कि मैं महिला से मिली तो मुझे दुख हुआ कि कैंसर मरीज होने के बावजूद वो अपने पति को दर-दर भटक कर खोज रही है। हमने मामले की विशेष जांच शुरू कर दी है। इस मामले में जवाबदेही तय करने की जरूरत है क्योंकि महिला को अपने पति के बारे में जानने का अधिकार है।
 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.