Tuesday, Sep 25, 2018

चंद्रशेखर 'रावण' को आजाद करेगी योगी सरकार, लंबे समय से बंद है जेल में

  • Updated on 9/13/2018

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। भीम आर्मी के संस्थापक चंद्रशेखर आजाद 'रावण' को उत्तर प्रदेश की योगी सरकार समय से पहले जेल से रिहा कर देगी। इसका फैसला भाजपा सरकार ने ले लिया है। दरअसल, 2017 में सहारनपुर में जातीय हिंसा फैलाने के आरोप में रावण को राष्ट्रीय सुरक्षा कानून (रासूका) के तहत जेल में बंद किया गया है। इसको लेकर विपक्ष भाजपा सरकार की कड़ी आलोचना भी करता रहा है। 

जस्टिस रंजन गोगोई इस दिन संभालेंगे देश के अगले मुख्‍य न्‍यायाधीश का कार्यभार

योगी सरकार की प्रेस विज्ञप्ति के मुताबिक रावण की मां की याचिका पर गौर करते हुए समयपूर्व रिहाई करने का फैसला लिया गया है। वैसे चंद्रशेखर रावण को एक नवंबर, 2018 तक जेल में गुजारना था,  लेकिन अब उन्हें जल्‍द ही रिहा किया जाएगा। रावण के साथ दो अन्‍य आरोपियों सोनू पुत्र नाथीराम और शिवकुमार पुत्र रामदास को भी रिहा करने का निर्णय लिया गया है। 

केजरीवाल सरकार को राहत, CCTV कैमरे लगाने के खिलाफ याचिका खारिज

पिछले साल सहारनपुर में दलितों और ठाकुरों के बीच हुए जातीय दंगों की वजह से करीब एक महीने तक जिले में तनाव फैला रहा। इसी दौरान भीम आर्मी के संस्थापक को पुलिस प्रशासन ने हिंसा का मुख्य आरोपी बनाया और गिरफ्तार कर लिया। इतना ही नहीं, डीएम सहारनपुर की आई रिपोर्ट के आधार पर रावण के खिलाफ रासुका लगा दिया। इसको लेकर दलित समुदाय के लोगों ने दिल्ली तक प्रदर्शन किया।

राहुल ने माल्या के खुलासे को लेकर PM मोदी पर बोला हमला, जेटली से मांगा इस्तीफा

सियासी पंडितों की मानें तो योगी सरकार का यह फैसला लोकसभा चुनाव के मद्देनजर लिया गया है। रावण और अन्य मुद्दों पर सरकार दलितों की नाराजगी मोल लेना नहीं चाहती है। इसलिए समय रहते सियासी दांव-पेंच जरुरी हो गए हैं। पश्चिम यूपी में भीम आर्मी का अच्छा प्रभाव है। कैराना और नूरपुर के उपचुनावों में भाजपा की पराजय का मुख्य कारण भीम आर्मी के दलित-मुस्लिम गठजोड़ को भी माना जा रहा है। 

माल्या बयान से मुकरा, पुनिया बोले- मैंने देखा था जेटली के साथ, खंगालो CCTV

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

comments

.
.
.
.
.