Thursday, Apr 02, 2020
chinmayanand bjp leader accuse in sexual exploitation release from up jail after getting bail

यौन शोषण में आरोपी चिन्मयानंद जमानत पर जेल से रिहा, कॉलेज में बंटी मिठाइयां

  • Updated on 2/5/2020

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। पूर्व केंद्रीय गृह राज्यमंत्री व भाजपा नेता स्वामी चिन्मयानंद (Chinmayanand) को छात्रा के यौन शोषण के मामले में इलाहाबाद उच्च न्यायालय से जमानत मिलने के बाद रिहा कर दिया गया है। कल उनकी रिहाई नहीं हो पाई थी। हालांकि जमानत की सूचना पहुंचने के साथ ही उनके कॉलेज परिसर में खुशी का माहौल था और मिठाइयां बांटी जा रही थी।  

महात्मा गांधी को लेकर अनंत हेगड़े ने BJP नेतृत्व को भेजा जवाब

स्वामी चिन्मयानंद के परिवार के सदस्य अमित सिंह ने मंगलवार को बताया था कि इलाहाबाद उच्च न्यायालय ने जमानत याचिका मंजूर की ली है लेकिन वहां से जमानत प्रपत्र अभी तक नहीं आ पाए हैं। जमानत प्रपत्र आने के बाद ही उन्हें यहां की अदालत में दाखिल किया जाएगा, जिसके बाद तमाम औपचारिकताएं पूरी होंगी। रिहाई उसके बाद ही होगी। प्रक्रिया पूरी होकर रिहाई होने में थोड़ा वक्त लगेगा। 

ममता बोलीं- वे दिल्ली चुनाव जीत नहीं पाएंगे, इसलिए चला रहे हैं गोलियां

सिंह ने बताया कि जमानत मंजूर होने के बाद उन्होंने जेल में चिन्मयानंद से मुलाकात की थी। वह काफी खुश नजर आ रहे थे। उन्होंने बताया, लोगों ने चिन्मयानंद को सलाह दी थी कि वह जेल से रिहाई के बाद हनुमंत धाम जाकर दर्शन करें और फिर अयोध्या जाएं। लेकिन उन्होंने अभी तक इसपर विचार नहीं किया है। 

नीरव मोदी घोटाले से सहमे पंजाब नेशनल बैंक को 492 करोड़ रुपये का घाटा 

चिन्मयानंद की जमानत मंजूर होने के बाद ‘मुमुक्षु आश्रम’ में आज हर्ष का माहौल था। लोग एक दूसरे को बधाई दे रहे थे। वहीं स्वामी सुखदेवानंद विधि महाविद्यालय में छात्रों-अध्यापकों ने एक-दूसरे को मिठाई खिलायी। शाहजहांपुर के जेल अधीक्षक राकेश कुमार ने बताया कि सोमवार को कुछ लोगों ने चिन्मयानंद से मुलाकात की थी, लेकिन कोई नेता उनसे मिलने नहीं आया था। चिन्मयानंद 2012 में भाजपा सरकार में केंद्रीय गृह राज्य मंत्री जैसे महत्वपूर्ण पद पर रहे थे। 

AMU के छात्रों के दबाव में यूनिवर्सिटी प्रॉक्टर अफीफुल्लाह ने दिया इस्तीफा

चिन्मयानंद पर उन्हीं के लॉ कॉलेज में पढ़ने वाली एक छात्रा ने यौन शोषण के आरोप लगाए थे। उच्चतम न्यायालय के हस्तक्षेप के बाद मामले की जांच विशेष जांच दल (एसआईटी) को सौंप दी गई थी। चिन्मयानंद के खिलाफ इस संबंध में 27 अगस्त को मामला दर्ज किया गया।  इसी मामले में एसआईटी ने 20 सितंबर को चिन्मयानंद को गिरफ्तार कर लिया था। उन्हें अदालत ने जेल भेज दिया था, तभी से वह कारागार में है। तीन फरवरी, सोमवार को इलाहाबाद उच्च न्यायालय ने उनकी जमानत याचिका मंजूर कर ली। 

कांग्रेस नेता जनार्दन द्विवेदी के पुत्र समीर द्विवेदी भाजपा में शामिल

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

comments

.
.
.
.
.