Thursday, Jun 17, 2021
-->
conflict-between-israel-and-palestine-continues-did-india-say-djsgnt

इजरायल और फिलिस्तीन के बीच संघर्ष जारी, क्या बोला भारत?

  • Updated on 5/14/2021

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। इजरायल और फिलिस्तानियों  के बीच चल रहा तनाव उस वक्त और बढ़ गया जब फलस्तीनी चरमपंथियों ने येरुशलम पर रॉकेट दाग दिए। इसके जवाब में इजरायल सेना भी गाजा में स्ट्राइक कर दी। इस दौरान बच्चें समेत कम- से कम 20 लोगों की मौत हो गई और 65 से अधिक लोग घायल हैं। 

दोनों देशों के बीच हो रही हिंसा थमने का नाम नहीं ले रहा है। इसी बीच भारत ने दोनों देशों के बीच हुई हिंसक गतिविधियों को और खासकर गाजा से किए गए रॉकेट हमलों की निंदा की है। भारत ने हिंसा पर रोक लगाने की जरूरत पर जोर दिया है।

UN में भारत के स्थायी प्रतिनिधि टी. एस. तिरुमूर्ति ने ट्वीट कर कहा कि पूर्वी यरुशलम में इस तनाव के मुद्दे पर हुई संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद (UNSC) की बैठक में उन्होंने कहा कि भारत सभी तरह की हिंसक गतिविधियों, खासकर गाजा से किए गए रॉकेट हमलों की निंदा करता है।

साथ ही तिरुमूर्ति ने इजरायल में एक भारतीय नागरिक की मौत पर शोक जताया। उन्होंने इस बात पर भी जोर दिया कि तनाव में तत्काल कमी लाना समय की जरूरत है और दोनों पक्षों को यथास्थिति में बदलाव से बचना चाहिए।

इजरायली सेना ने किया था ट्वीट
 इस एयर स्ट्राइक के बाद इजरायली सेना ने ट्वीट किया  कि उसने इस हमले में 3 हमास कार्यकर्ताओं को मार दिया है। सेना ने कहा कि गाजा पट्टी  से इजायायल की ओर 150 से अधिक मसाइल दागी थी जिसमें से हमने दर्जनों से अधिक नष्ट्र कर दी लेकिन कुछ का हमारे ऊपर असर हुआ। जिसका जवाब ही हमने इस एयरस्ट्राइक से दिया है।

इजरायल के पीएम ने भी कहा कि हम हर चीज का जवाब देंगे वो भी बड़ी ताकत के साथ। हम डर कर बैठने वालों में से नहीं हैं। उन्होंने आगे कहा कि जेरुसलम दिवस के दिन आतंकवादियों ने लाल रेखा को पार करते हुए मिसाइलों से हमला किया है।

ये है तनाव का कारण
आपको बता दें कि पिछले कुछ दिनों से तनाव बढ़ता ही जा रहा है। यहां आए दिन सुरक्षा बलों और फिलिस्तीनी प्रदर्शनकारियों के झड़पें हो रही हैं। ऐसे में ये झडपें 7 मई से बढ़ती गई और 10 मई तक 300 से अधिक लोग घायल हो गए और दर्जनों से अधिक पुलिसवालें भी जख्मी हो गए।

क्या है विवाद
इन झड़पों और स्टाइक के पीछे की वजह के बारे में बताए तो 1967 के मध्य पूर्व युद्ध के बाद इसराइल ने पूर्वी येरुशलम को नियंत्रण में ले लिया था और वो पूरे शहर को अपनी राजधानी मानता है। वहीं अंतराष्ट्रीय समुदाय इसे सही नहीं मानते हैं और इसे आजाद मुल्क की राजधानी की तरह देखते हैं। बस इसी विवाद को लेकर इस वक्त ये खूनी खेल चल रहा है।ो

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.