Sunday, Oct 01, 2023
-->
conversion @ sanjaynagar!

धर्मांतरण@ संजयनगर!

  • Updated on 6/10/2023

नई दिल्ली/संजीव शर्मा। धर्मांतरण का मुद्दा एक बार फिर देश के कई राज्यों में सुर्खियों में है। यूपी और महाराष्ट्र की पुलिस टीमें इस मुद्दे की तह में जाने और धर्मांतरण कराने वाले गैंग के सरगना बद्दो उर्फ शाहनवाज मकसूद को तलाशने में जुटी हैं। वो बात और है कि गैंग सरगना अभी तक दोनों राज्यों की पुलिस की गिरफ्त में नहीं आ सका है, लेकिन धर्मांतरण के इस चर्चित मामले ने वर्ष 2021 की भांति एक बार फिर महाराष्ट्र और यूपी के  कनेक्शन को उजागर कर दिया है। धर्मांतरण के दोनों मामलों में महाराष्ट्र और संजयनगर का कनेक्शन एक इत्तेफाक है या फिर कोई साजिश, यह जांच का विषय है। 


गौरतलब है कि 2 जून 2021 की रात 9 बजे दो युवक डासना स्थित देवी मंदिर परिसर में घुस गए थे। एक व्यक्ति ने बाहर पुलिसकर्मियों के पास रजिस्टर में अपनी एंट्री विपुल विजयवर्गीय निवासी नागपुर तो दूसरे ने काशी गुप्ता निवासी सेक्टर.23 संजयनगर के नाम से कराई थी। भीतर जाने पर सेवादारों को दोनों पर शक हुआ और उन्होंने दोनों के बैग की तलाशी ली। बैग में तीन सर्जिकल ब्लेड, दवाएं, धार्मिक किताबें, लोहे के दो स्केल बरामद हुए थे। इस मामले में मंदिर के महंत यति नरसिंहानंद के करीबी अनिल यादव ने रिपोर्ट दर्ज कराते हुए महंत की हत्या के  प्रयास का आरोप लगाया था। जिसके बाद मसूरी पुलिस ने दोनों आरोपियों को गिरफ्तार कर जेल भेजा था। खुफि या एजेंसियों की पूछताछ में विजयनगर निवासी सलीमुद्दीन की भूमिका संदिग्ध पाई जाने के बाद पुलिस ने उसे भी गिरफ्तार कर लिया था।


सामने आई थी विपुल विजयवर्गीय के धर्मपरिवर्तन कर निकाह की बात
जांच में सामने आया था कि महाराष्ट्र के नागपुर का रहने वाला विपुल विजयवर्गीय विजयनगर में पेरामेडिकल इंस्टीट्यूट चलाने वाले सलीमुद्दीन के संपर्क में आया था। सलीमुद्दीन ने उसे अपने इंस्टीट्यूट में पेरामेडिकल कोर्स कराने के साथ साथ उर्दू की तालीम दी थी। इतना ही नहीं सलीमुद्दीन ने उसका धर्म परिवर्तन कराने के बाद संजयनगर निवासी कासिफ की बहन आयशा से निकाह कराया था। जिसके बाद जीजा-साले विपुल विजयवर्गीय उर्फ रमजान और कासिफ सलीमुद्दीन के कहने पर ही डासना देवी मंदिर पहुंचे थे। वहां पहुंचने के पीछे उनकी मंशा ठीक नहीं पाई गई थी। यह मामला उजागर होने के बाद देश की जांच एजेंसियों ने आरोपियों से पूछताछ की थी और देश भर में कई ठिकानों पर छापेमारी कर धर्मांतरण गैंग से जुड़े लोगों को गिरफ्तार किया था। 


ऐसे फिर जुड़ा महाराष्ट्र का संजयनगर से कनेक्शन
ऐसा नहीं कि गाजियाबाद में धर्मांतरण का मुद्दा पहली बार चर्चाओं में आया हो, इससे पहले भी वर्ष 2021 के दौरान यहां धर्मांतरण का मामला गर्म हो चुका है। दोनों मामलों में गौर करने से पता चलता है कि वर्तमान में चल रहे धर्मांतरण के मुद्दे और वर्ष 2021 के मामले में इत्तेफाकन कई समानताएं हैं। वर्ष 2021 में धर्मांतरण का जो मामला चर्चा का विषय बना उसका मुख्य किरदार महाराष्ट्र के नागपुर का रहने वाला रमजान उर्फ विपुल विजयवर्गीय था। तो गेमिंग के जरिए धर्मांतरण का गैंग चलाने वाला बद्दो उर्फ शाहनवाज मकसूद भी महाराष्ट्र के ठाणे जिले में मुंब्रा का रहने वाला निकला। रमजान उर्फ विपुल विजयर्गीय ने जहां संजयनगर निवासी आयशा से निकाह किया तो संजयनगर स्थित धर्म स्थल की कमेटी से जुड़े सदस्य अब्दुल रहमान को पुलिस ने अबकी बार गिरफ्तार कर जेल भेजा। सूत्रों का दावा है कि धर्मपरिवर्तन कर विपुल विजयवर्गीय ने संजयनगर स्थित उसी धर्मस्थल में आयशा से निकाह किया था, जिसकी कमेटी के पूर्व सदस्य को पुलिस ने हाल में गिरफ्तार कर जेल भेजा है। हालांकि इस बात की अधिकारिक पुष्टि नहीं हो सकी है। पूर्व के मामले में भी पुलिस की जांच संजयनगर से लेकर महाराष्ट्र तक पहुंची थी और इस बार भी जांच की आंच इन दोनों स्थानों पर पहुंची हुई है। 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.